कोविड -19

Covid-19 Updates : WHO की रिपोर्ट के खिलाफ एकजुट हुए 20 राज्यों के मुख्यमंत्री, भाजपा - गैर भाजपा सभी सरकारों ने रिपोर्ट को बताया झूठा

Janjwar Desk
8 May 2022 12:12 PM GMT
Covid-19 Updates :  WHO की रिपोर्ट के खिलाफ एकजुट हुए 20 राज्यों के मुख्यमंत्री, भाजपा - गैर भाजपा सभी सरकारों ने रिपोर्ट को बताया झूठा
x
Covid-19 Updates : विश्व स्वास्थ्य संगठन ने हालिया रिपोर्ट में बताया है कि 2020-21 के दौरान कोरोना से भारत में 4.7 मिलियन लोगों की मौत हुई।

Covid-19 Updates : केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण परिषद (CCHFW ) ने केवाडियो में आयोजित बैठक में दो दिन पहले एक प्रस्ताव पारित कर विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) की ओर से जारी COVID-19 रिपोर्ट को खारिज कर दिया। सीसीएचएफडब्ल्यू (CCHFW ) ने भारत को लेकर डब्लूएचओ ( WHO ) के अनुमान 'त्रुटिपूर्ण' और 'अस्वीकार्य' करार दिया है। यह प्रस्ताव नई दिल्ली द्वारा गुरुवार को डब्ल्यूएचओ की रिपोर्ट का खंडन जारी होने के ठीक एक दिन बाद यानि शुक्रवार को परिरत हुआ।

डब्लूएचओ की रिपोर्ट अस्वीकार्य

देश के 20 राज्यों और केंद्रशासित प्रदेश के मुख्यमंत्रियों ने प्रस्ताव का समर्थन किया। इन मुख्यमंत्रियों में भाजपा और गैर भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल हैं। इनमें गैर भाजपा शासित राज्यों के मुख्यमंत्रियों में झारखंड, तमिलनाडु, महाराष्ट्र, दिल्ली और पंजाब मुख्यमंत्री भी शामिल हैं। डब्लूएचओं ने कोविड-19 ( Covid 19 death ) को लेकर जारी ताजा रिपोर्ट में बताया है कि भारत में कोरोना संक्रमण से 47 लाख लोगों को मौत हुई है। यह भारत सरकार द्वारा घोषित आंकड़ों से दस गुना ज्यादा है। मुख्यमंत्रियों ने कहा है कि डब्लूएचओ ने जिस गणितीय अनुमानों पर मौत का आंकड़ा जारी किया है वो पूरी तरह से अस्वीकार्य और फर्जी है। साथ ही सीसीएचएफडब्ल्यू (CCHFW ) की बैठक में यूएन के आकड़े को खारिज कर दिया है।

दरअसल, 14वें केंद्रीय स्वास्थ्य और परिवार कल्याण परिषद सम्मेलन शुक्रवार को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया की अध्यक्षता में गुजरात के केवड़िया में संपन्न हुई थी। सम्मेलन के दौरान कोविड-19 की मौतों के संबंध में डब्ल्यूएचओ की ओर से जारी रिपोर्ट को उठाया गया था। CCHFW सम्मेलन में 20 स्वास्थ्य मंत्रियों ने WHO के मॉडलिंग अनुमानों पर एक प्रस्ताव पारित किया और संकल्प लिया कि WHO मॉडलिंग से परिषद 'गहराई से निराश और व्यथित' है जो भारत में अधिक मृत्यु दर के बहुत अधिक अनुमान पर आधारित है। प्रस्ताव में बताया गया है कि डब्लूएचओ का मॉडल त्रुटिपूर्ण है और भारत के लिए यह अस्वीकार्य हैं। प्रस्ताव में उल्लेख किया गया है कि भारत पारदर्शी और कानूनी प्रक्रिया के माध्यम से अपनी मौतों को व्यवस्थित तरीके से दर्ज करता है।

WHO के आंकड़े भारतीय अनुमानों से 10 गुना ज्यादा

भारत के अलावा कई अन्य देशों ने भी WHO के अनुमान के मॉडल पर आपत्ति जताई है। WHO द्वारा अनुमानित संख्या आधिकारिक आंकड़ों से 10 गुना अधिक है और भारत को दुनिया का तीसरा सबसे खराब COVID-19 प्रभावित देश बताया गया है। बनाता है।

राहुल गांधी ने पीएम पर साधा था निशाना

वहीं, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी ने डब्लूएचओ ( WHO ) के आंकड़े को सही करार देते हुए कहा कि कोविड-19 से भारत में 47 लाख भारतीय मरे थे न कि 4.8 लाख। उन्होंने ट्विटकर कहा था कि विज्ञान झूठ नहीं बोलता है, पर मोदी झूठ बोलता है। उन्होंने लिखा था कि कम से कम उन परिवारों का सम्मान करें जिन्होंने अपने प्रियजनों को खो दिया है। उन्हें अनिवार्य रूप से 4 लाख रुपए घोषित मुआवजा दें। बता दें कि गुरुवार को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कहा था कि भारत में साल 2020-21 में कोरोना से 4.7 मिलियन लोगों की मौंते हुई हैं। डब्लूएचओं इस आंकड़ों को भारत सरकार ने खारिज कर दिया था।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story