Top
कोविड -19

एलोपैथी को रामदेव ने कहा बकवास का विज्ञान, IMA ने कहा दर्ज करो मुकदमा

Janjwar Desk
22 May 2021 2:05 PM GMT
एलोपैथी को रामदेव ने कहा बकवास का विज्ञान, IMA ने कहा दर्ज करो मुकदमा
x

(आईएमए की केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से मांग- आधुनिक चिकित्सा सुविधा को खत्म कर दें या फिर योग गुरू बाबा रामदेव के खिलाफ मुकदमा चलाएं)

आईएमए ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित योगगुरु होने के अलावा बाबा रामदेव एक फार्मास्युटिकल यूनिट के दिग्गज हैं। वह जनता को गुमराह करने के लिए अपनी कंपनी उत्पादों के बारे में कई बार झूठ बोलते देखे गए हैं......

जनज्वार डेस्क। कोरोना महामारी के बीच बाबा रामदेव के एलोपैथी के खिलाफ दिए बयान पर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने कड़ी आपत्ति जताई है। इंडियन मेडिकल एसोसिएशन, (आईएमए) ने शनिवार को सोशल मीडिया पर वायरल हुए योग गुरु रामदेव के वीडियो का जिक्र किया है जिसमें उन्होंने एलोपैथ को स्टुपिड और दिवालिया साइंस कहा है।

आईएमए ने केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री डा हर्षवर्धन से मांग की है कि या तो इस आरोप को स्वीकार करें और आधुनिक चिकित्सा सुविधा को खत्म कर दें या फिर योग गुरू बाबा रामदेव के खिलाफ महामारी एक्ट के तहत केस दर्ज कर मुकदमा चलाएं।

आईएमए ने कहा है कि भारत कोविड-19 महामारी का सामना कर रहा है और आधुनिक चिकित्सा पद्धति व भारत सरकार मिलकर लोगों की जिंदगियों को बचाने में जुटे हैं। इस संघर्ष में फ्रंटलाइन पर काम करने वालों ने अपनी जिंदगी का बलिदान दे दिया है। स्वास्थ्य मंत्री के संज्ञान में रामदेव के वीडियो को लाते हुए आईएमए ने कहा कि योगगुरु इसमें कह रहे हैं, 'एलोपैथ एक स्टुपिड और दिवालिया साइंस है। आईएमए ने रामदेव के खिलाफ कार्रवाई नहीं किए जाने पर कानूनी कार्रवाई करने की धमकी दी है।

आईएमए ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रतिष्ठित योगगुरु होने के अलावा बाबा रामदेव एक फार्मास्युटिकल यूनिट के दिग्गज हैं। वह जनता को गुमराह करने के लिए अपनी कंपनी उत्पादों के बारे में कई बार झूठ बोलते देखे गए हैं। एसोसिशन ने आरोप लगाया कि रामदेव स्थिति का फायदा उठाने की कोशिश कर रहे हैं और बड़े पैमाने पर लोगों में भय और निराशा की भावना पैदा कर रहे हैं।

एसोसिएशन ने कहा कि वह ऐसा इसलिए कर रहे हैं ताकि वह अपनी अवैध और अस्वीकृत तथाकथित दवाएं बेच सकें और जनता की कीमत पर पैसा कमा सकें। आईएमए ने कहा कि रामदेव पर एलोपैथी डॉक्टरों की सलाह नहीं लेने का विश्वास दिलाने और कई लोगों के जीवन के लिए खतरा पैदा करने के लिए मुकदमा चलाया जाना चाहिए।

Next Story

विविध

Share it