कोविड -19

प्रभावशाली टीकाकरण के बावजूद केरल में कोरोना संक्रमण भयावह, मौतों का आंकड़ा भी देशभर में सबसे ज्यादा

Janjwar Desk
6 Aug 2021 3:41 AM GMT
प्रभावशाली टीकाकरण के बावजूद केरल में कोरोना संक्रमण भयावह, मौतों का आंकड़ा भी देशभर में सबसे ज्यादा
x

केरल में बढ़ते कोरोना केसों और मौतों का आंकड़ा बढ़ा रहा है चिंता (photo : social media)

केरल में लगातार उच्च संख्या में कोविड -19 मामलों की संख्या महाराष्ट्र में दूसरी लहर से पहले देखी गई उछाल के समान है, जिससे राज्य में तीसरी लहर की संभावना को मिल रही है दस्तक...

दिनकर कुमार की रिपोर्ट

जनज्वार। केरल में बढ़ते कोरोना वायरस के मामलों ने देश की चिंता बढ़ा दी है, क्योंकि रोजाना मिलने वाले नए केसों में करीब 50 फीसदी योगदान इसी राज्य का होता है। केरल में कोरोना किस कदर भयावह होता जा रहा है, इसका अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि लगातार कोरोना के मामले 20 हजार से अधिक आ रहे हैं। केरल में 30 जुलाई को लगातार चौथे दिन कोरोना वायरस संक्रमण के 20 हजार से अधिक मामले सामने आए और 116 रोगियों की मौत हुई। राज्य में संक्रमण की दर 13.61 प्रतिशत है। चिंताजनक बात यह है कि हर हफ्ते प्रति 10 लाख रोगियों पर 24 मौत के साथ केरल सबसे आगे है।

गौरतलब है कि जनवरी 2020 में भारत में कोरोना का पहला मामला केरल में आया था। चीन के वुहान शहर से लौटे एक मेडिकल छात्र में कोरोना वायरस पाया गया था। चीन के वुहान शहर से ही कोरोना महामारी की शुरुआत हुई थी। इसके बाद कोरोना संक्रमण के मामलों की संख्या लगातार बढ़ती गई और केरल हॉटस्पॉट बन गया। मार्च तक आधा दर्जन राज्यों में केरल की तुलना में अधिक मामले दर्ज हो रहे थे। टेस्टिंग, ट्रेसिंग और आइसोलेट के नियम का पालन करते हुए केरल कोरोना के मामलों की संख्या में कमी लाने में कामयाब रहा था। केरल पहली लहर में मामलों को नियंत्रण में रखने में कामयाब रहा। आधिकारिक मृत्यु के आँकड़े भी काफ़ी कम रहे।

एक रिकॉर्ड कायम करते हुए केरल ने 26 जुलाई को एक ही दिन में 4.5 लाख से अधिक टीकाकरण दर्ज किए। एक सप्ताह में राज्य में कोविड-19 वैक्सीन की 16 लाख खुराकें दी जा चुकी हैं। हालांकि टीकाकरण की उच्च दर ने राज्य में टीकों के घटते स्टॉक के बारे में चिंताओं को जन्म दिया है, जिससे कई लोगों को आश्चर्य होता है कि क्या राज्य अपने सफल टीकाकरण अभियान को जारी रखने में सक्षम होगा।

केरल ने 26 जुलाई को 4,53,339 लोगों को टीका लगाकर दिखाया है कि वह प्रति दिन चार लाख से अधिक लोगों को टीकाकरण कर सकता है और जहां टीकाकरण की बात है तो यह सबसे अच्छा राज्य था।

केरल की स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने नया डेटा जारी करते हुए कहा कि इसने इस प्रचार को भी खारिज कर दिया कि राज्य लगभग 10 लाख टीकों की जमाखोरी कर रहा है। यह बयान भारत के केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया के सवाल के संदर्भ में दिया गया, जिन्होंने कथित तौर पर इस बारे में पूछा था कि जून में राज्य को पहले आपूर्ति की गई 10 लाख वैक्सीन खुराक अप्रयुक्त क्यों हैं।

राज्य के स्वास्थ्य मंत्री के अनुसार, राज्य में टीकाकरण राष्ट्रीय औसत से अधिक था और इसके सभी स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं और फ्रंटलाइन कार्यकर्ताओं को कोविड वैक्सीन की पहली खुराक मिल चुकी है। जॉर्ज ने यह भी कहा कि वर्तमान में 1,522 टीकाकरण केंद्र हैं जिनमें से 1,380 सरकार द्वारा चलाए जा रहे हैं और शेष प्राइवेट हैं। 14 जिलों में से, कन्नूर 59,374 लोगों का टीकाकरण कर पहले, 53,841 के साथ त्रिशूर दूसरे और 51,276 के साथ कोट्टायम तीसरे स्थान पर रहा।

राज्य में अब तक कुल 1,83,89,973 लोगों को एक या दो खुराकों का टीका लगाया जा चुका है। इनमें से 1,28,23,869 को पहली खुराक दी गई और 55,66,104 को दूसरी खुराक दी गई। कुल आबादी के 38.39 प्रतिशत लोगों को पहली खुराक और 16.66 प्रतिशत को दूसरी खुराक दी गई।

राज्य सरकार ने कहा कि 18 वर्ष से अधिक उम्र के 53.43 फीसदी लोगों को पहली खुराक और 23.19 फीसदी को दूसरी खुराक दी गई है, जो केंद्रीय औसत से काफी आगे है। उच्च टीकाकरण के आंकड़ों के बावजूद केरल में ताजा कोविड -19 संक्रमणों की उच्च संख्या दर्ज करना जारी है। परीक्षण पोजिटिविटी दर (टीपीआर) 12 प्रतिशत से नीचे गिरने के साथ 32,54,064 तक आंकड़ा है।

टीपीआर 19 जुलाई को कई हफ्तों तक नीचे रहने के बाद 11 फीसदी को पार कर गया था और 23 जुलाई को 13.63 फीसदी तक बढ़ गया था। 98 और मौतों के साथ वायरस से मरने वालों की संख्या बढ़कर 15,969 हो गई।

आंकड़े चिंताजनक हैं, क्योंकि केरल ने देश के बाकी हिस्सों की तुलना में दैनिक मामलों में उच्च वृद्धि दर्ज करना जारी रखा है, जो पिछले कुछ दिनों में देश के दैनिक मामलों का लगभग 40 प्रतिशत लगातार है। 18 जुलाई को, राज्य ने देश के दैनिक मामलों का 36.6 प्रतिशत, 21 जुलाई को 42.2 प्रतिशत और 23 जुलाई को 44.8 प्रतिशत मामलों की सूचना दी। केरल में सक्रिय कोविड -19 मामलों की संख्या सबसे अधिक है, जिसमें 1.3 लाख मरीज देश में कुल सक्रिय मामलों का एक तिहाई हैं।

राज्य में लगातार उच्च संख्या में कोविड -19 मामलों की संख्या महाराष्ट्र में दूसरी लहर से पहले देखी गई उछाल के समान है, जो केरल में तीसरी लहर की संभावना के लिए चिंता का विषय है।

कोविड के मामलों की बढ़ती संख्या केवल राज्य की चिंता नहीं है। अपने प्रभावशाली टीकाकरण संख्या के बावजूद स्वास्थ्य मंत्री जॉर्ज ने बताया कि राज्य तेजी से टीकों के अपने स्टॉक को समाप्त कर रहा है। मंत्री ने कहा कि राज्य के पास केवल दो लाख टीके ही बचे हैं। मंत्री ने कहा कि अगर केंद्र सरकार जल्द ही राज्य को और टीकों की आपूर्ति नहीं करती है, तो केरल में टीकाकरण अनिश्चित काल के लिए ठप हो जाएगा।

Next Story

विविध