Top
कोविड -19

सनसनीखेज: पुलिस ने लावारिश लाश समझकर वृद्ध का किया अंतिम संस्कार, डॉक्टर बेटी को देते रहे ठीक होने का हालचाल

Janjwar Desk
12 May 2021 7:14 AM GMT
सनसनीखेज: पुलिस ने लावारिश लाश समझकर वृद्ध का किया अंतिम संस्कार, डॉक्टर बेटी को देते रहे ठीक होने का हालचाल
x
बेटी शिखा ने बताया कि उनकी खुद की तबीयत ठीक नहीं थी। जिसके चलते वह गाजियाबाद से लगातार मेरठ मेडिकल के डॉक्टरों को फोन करके अपने पिता का हाल-चाल लेती रहीं...

जनज्वार डेस्क। उत्तर प्रदेश के मेरठ से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है। जहां एक बड़े अस्पताल के डॉक्टर मृतक की बेटी को फोन पर पिता के ठीक होने का हाल-चाल अपडेट करते रहे। जबकि दूसरी ओर पॉलिसी ने शव को लावारिश मानकर उसका अंतिम संस्कार भी कर चुकी थी।

यह मामला मेरठ के लाला लाजपतराय मेडिकल कॉलेज का बताया जा रहा है। जानकारी के मुताबिक मूल रूप से बरेली निवासी संतोष कुमार गाजियाबाद के राजनगर एक्सटेंशन में अपनी बेटी शिखा शिवांगी और दामाद अंकित के साथ रहते थे। शिखा के मुताबिक 21 अप्रैल को उनके पिता संतोष को घर में बाथरूम में गिरने के कारण चोट लग गई थी। इस दौरान गाजियाबाद के हॉस्पिटल में उनकी कोविड रिपोर्ट पॉजिटिव आई। जिसके बाद संतोष को मेरठ के लाला लाजपत राय मेडिकल कॉलेज की आईसीयू टू में भर्ती कराया गया था।

शिखा ने बताया कि उनकी खुद की तबीयत ठीक नहीं थी। जिसके चलते वह गाजियाबाद से लगातार मेरठ मेडिकल के डॉक्टरों को फोन करके अपने पिता का हाल-चाल लेती रहीं। डॉक्टर उन्हें रोज उनके पिता के ऑक्सीजन लेबल और स्वास्थ्य के बारे में जानकारी देते रहे। मगर 3 मई को अचानक मेडिकल के डॉक्टरों ने उन्हें फोन पर बताया कि उनके पिता अपने बेड पर नहीं हैं।

शिखा के मुताबिक पिता के लापता होने की जानकारी मिलते ही वह अपने पति के साथ मेरठ मेडिकल कॉलेज पहुंची। जहां मेडिकल कॉलेज के स्टाफ ने उनके पति अंकित को कोविड वार्ड से लेकर मेडिकल के तमाम विभागों में घुमाया। मगर उनके पिता का कोई सुराग नहीं मिला। दो दिन अपने पिता की तलाश में इधर-उधर भटकने के बाद शिखा ने सोशल मीडिया पर सीएम योगी आदित्यनाथ के नाम वीडियो जारी करते हुए अपने पिता का पता लगाने की गुहार लगाई।

मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ ज्ञानेंद्र कुमार ने एक कमेटी का गठन किया है। जिसके बाद इस पूरे प्रकरण में ऐसा सनसनीखेज खुलासा हुआ जिसने स्वास्थ्य विभाग की लापरवाही की पोल खोल कर रख दी। दरअसल शिखा के पिता संतोष कुमार की 23 अप्रैल को ही मौत हो गई थी। जिसके बाद उनका शव 3 दिन तक मेडिकल की मोर्चरी में रखा रहा। इसके बाद मेडिकल पुलिस ने शव को लावारिस मानकर संतोष का अंतिम संस्कार भी कर दिया।

मेडिकल कॉलेज के प्राचार्य डॉ ज्ञानेंद्र कुमार का कहना है कि मरीज के परिजनों ने एंट्री के समय अपना मोबाइल नंबर रजिस्टर में दर्ज नहीं किया था। जिसके चलते संतोष के परिजनों को उनकी मौत की जानकारी नहीं दी जा सकी। वहीं मेडिकल के कोविड वार्ड में संतोष नाम की एक अन्य महिला भी भर्ती थी। इसलिए जब भी कभी संतोष कुमार की बेटी शिखा मेडिकल के डॉक्टरों को अपने पिता का हालचाल जाने के लिए कॉल करती थी तो हॉस्पिटल का स्टाफ उसे महिला संतोष की बेटी समझ कर उसी के विषय में जानकारी दे देता था।

हालांकि प्राचार्य ने इस पूरे प्रकरण में मेडिकल के स्टाफ की लापरवाही की बात स्वीकार की है। प्राचार्य डॉ ज्ञानेंद्र कुमार का कहना है कि इस मामले में एक जांच कमेटी का गठन कर दिया गया है। जिसकी रिपोर्ट मिलते ही दोषियों के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

Next Story

विविध

Share it