कोविड -19

कोरोना पॉजिटिव UP के डेप्युटी CM दिनेश शर्मा अस्पताल में भर्ती, योगी के एक राज्यमंत्री भी संक्रमण की चपेट में

Janjwar Desk
27 April 2021 2:47 PM GMT
कोरोना पॉजिटिव UP के डेप्युटी CM दिनेश शर्मा अस्पताल में भर्ती, योगी के एक राज्यमंत्री भी संक्रमण की चपेट में
x
बीते दिनों प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा कोरोना से संक्रमित पाए गए थे। उनका होम आइसोलेशन में ही इलाज चल रहा था....

जनज्वार डेस्क। कोरोना वायरस से संक्रमित उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा को बेहतर इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया गया है। उपमुख्यमंत्री का होम आइसोलेशन के दौरान ही ट्रीटमेंट चल रहा था। मंगलवार को उन्होंने ट्वीट करके जानकारी दी है कि वह बेहतर इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती हो रहे हैं। वहीं, प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार में राज्यमंत्री और जगदीशपुर से विधायक सुरेश पासी भी मंगलवार को कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। उन्होंने सोशल मीडिया पर पोस्ट करके यह जानकारी दी है।

बीते दिनों प्रदेश के उपमुख्यमंत्री दिनेश शर्मा कोरोना से संक्रमित पाए गए थे। उनका होम आइसोलेशन में ही इलाज चल रहा था। मंगलवार को उन्होंने ट्वीट करके जानकारी दी, 'विगत दिनों मेरी कोरोना रिपोर्ट पॉजिटिव होने के उपरांत डॉक्टरों की निगरानी में घर पर ही आइसोलेट था, बेहतर चिकित्सकीय आवश्यकताओं के लिए मुझे अस्पताल में भर्ती होना पड़ रहा है।'

उपमुख्यमंत्री ने एक अन्य ट्वीट में कहा, 'मुझे विश्वास है कि आप सभी की शुभकामनाओं से प्रदेश में शीघ्र मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के सबल नेतृत्व में कोरोना के खिलाफ जंग जीती जा सकेगी और ईश्वर की अनुकम्पा से मैं स्वस्थ होकर पुनः दोगुनी ऊर्जा से सम्पूर्ण प्रदेशवासियों की सेवा में तत्पर हो सकूंगा।' उपमुख्यमंत्री के अलावा मंगलवार को राज्यमंत्री सुरेश पासी भी कोरोना संक्रमित पाए गए हैं।

कुछ दिन पहले कोरोना से बीजेपी विधायक सुरेश श्रीवास्तव का निधन हो गया था। उनके निधन के कुछ ही दिन बाद उनकी पत्नी की भी वायरस के संक्रमण से मौत हो गई। वहीं रविवार को औरैया से बीजेपी विधायक रमेश चंद्र दिवाकर की भी कोरोना से मौत हो गई। इसके बाद उनके 92 साल के पिता रामदत्त दिवाकर की भी सदमे में मौत हो गई।

सूबे के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लगातार बैठक कर यह बयान दे रहे हैं कि प्रदेश में ना तो कहीं पर बेड की कमी है, ना वेंटीलेटर की। साथ ही कहा है कि ना ही ऑक्सीजन की कमी है, ना ही दवाओं की कमी है। बावजूद इसके बड़ी संख्या में लोग इलाज के अभाव में रोज मर रहे हैं। ऐसे में प्रदेश सरकार ने सोशल मीडिया पर उनके खिलाफ खबरों को प्रचारित करने वालों के खिलाफ गुंडा एक्ट व रासुका के तहत कार्रवाई करने का निर्देश दिया है।

Next Story

विविध