Top
शिक्षा

UP में चुनावी ड्यूटी करने वाले 700 शिक्षकों की कोरोना से हुई मौत, मरने वालों में गर्भवती महिला भी शामिल : प्रियंका गांधी

Janjwar Desk
1 May 2021 11:59 AM GMT
UP में चुनावी ड्यूटी करने वाले 700 शिक्षकों की कोरोना से हुई मौत, मरने वालों में गर्भवती महिला भी शामिल : प्रियंका गांधी
x

file photo

UP में चुनावी ड्यूटी करने वाले लगभग 700 शिक्षकों की अब तक मौत हो चुकी है, जिनमें एक गर्भवती महिला भी शामिल है...

जनज्वार। कल 2 मई को पंचायत चुनावों का रिजल्ट आना है, इससे पहले एक बार फिर से कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी योगी सरकार पर हमलावर हो चुकी हैं। इससे पहले उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ द्वारा जारी की गयी लिस्ट के आधार पर दावा किया था कि चुनावी ड्यूटी करने वाले 500 से ज्यादा ​शिक्षकों की कोरोना से मौत हुयी है, अब उन्होंने एक बार फिर इस मुद्दे को उठाते हुए दावा किया है कि यूपी में पंचायत चुनाव में ड्यूटी करने वाले लगभग 700 शिक्षकों की कोरोना से मौत हुयी है।

प्रियंका गांधी ने शनिवार 1 मई को योगी सरकार पर सच दबाने का आरोप लगाते हुए दावा किया कि राज्य में चुनावी ड्यूटी करने वाले लगभग 700 शिक्षकों की अब तक मौत हो चुकी है, जिनमें एक गर्भवती महिला भी शामिल है।

योगी सरकार को कटघरे में खड़ा करते हुए प्रियंका ने राज्‍य निर्वाचन आयोग पर भी गंभीर आरोप लगाये हैं। उन्होंने ट्वीट किया है, उप्र में चुनाव ड्यूटी करने वाले लगभग 700 शिक्षकों की मौत हो चुकी है और इनमें एक गर्भवती महिला भी शामिल है जिसे चुनाव ड्यूटी करने के लिए जबरन मजबूर किया गया। अपने ट्वीट में उन्होंने कहा, कोरोना की दूसरी लहर की भयावहता के बारे में एक बार भी विचार किए बिना यूपी की लगभग 60,000 ग्राम पंचायतों में इन चुनावों को कराया गया। बैठकें हुईं, चुनाव अभियान चला और अब ग्रामीण इलाकों में कोरोना का प्रकोप बढ़ता ही जा रहा है।

एक के बाद एक 6 ट्वीट्स में प्रियंका गांधी ने आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में लोगों की बड़ी संख्या में मौतें हो रही हैं, जो कि झूठे सरकारी आंकड़ों से कहीं ज्यादा हैं।

प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है, उत्तर प्रदेश के ग्रामीण इलाकों में लोगों की घरों में मृत्यु हो रही है और इनको कोविड से होने वाली मौतों के आंकड़ों में भी नहीं गिना जा रहा, क्योंकि ग्रामीण इलाकों में जांच ही नहीं हो रही है। दूसरी तरफ सरकार का रुख सच दबाने की तरफ है और उसका अधिकतम प्रयास जनता और लोगों की दिन-रात सेवा कर रहे मेडिकल समुदाय को भयभीत करने में रहा है।

कांग्रेस महासचिव अपने एक अन्य ट्वीट में लिखती हैं, उत्तर प्रदेश में जो घट रहा है, वह मानवता के खिलाफ अपराध से कम नहीं है और राज्य निर्वाचन आयोग इसमें भागीदार है। प्रियंका ने अपने ट्वीट के साथ उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ द्वारा जारी की गई मृत शिक्षकों की सूची भी लगायी है।

इससे पहले 29 अप्रैल को योगी सरकार को घेरते हुए प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया था, 'प्रियंका लिखती हैं 'यूपी पंचायत चुनावों की ड्यूटी में लगे लगभग 500 शिक्षकों की मृत्यु की खबर दुखद और डरावनी है। चुनाव ड्यूटी करने वालों की सुरक्षा का प्रबंध लचर था तो उनको क्यों भेजा? सभी शिक्षकों के परिवारों को 50 लाख रुपये मुआवजा व आश्रितों को नौकरी की माँग का मैं पुरजोर समर्थन करती हूँ।'

Next Story
Share it