शिक्षा

BHU News: बीएचयू में छात्रों को उपले बनाने की विधि सिखाने पर BJP सांसद ने लोकसभा में उठाई कार्रवाई की मांग

Janjwar Desk
12 Feb 2022 4:19 AM GMT
lucknow news
x

(उपले बनाने की विधि सिखाने को लेकर शिक्षक पर कार्रवाई की मांग)

BHU News: काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) के एक प्रोफेसर द्वारा छात्रों को कथित तौर पर उपले बनाने की विधि बताना 'निंदनीय' है और ऐसे शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए...

BHU News: काशी हिंदू विश्वविद्यालय (BHU) के एक प्रोफेसर द्वारा छात्रों को कथित तौर पर उपले बनाने की विधि बताना 'निंदनीय' है और ऐसे शिक्षक के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। भारतीय जनता पार्टी (BJP) की सांसद संघमित्रा मौर्य (Sanghamitra Maurya) ने शुक्रवार को लोकसभा में यह मांग उठाई है।

बता दें कि उत्तर प्रदेश के बदायूं से लोकसभा (Loksabha) सदस्य संघमित्रा ने सदन में शून्यकाल के दौरान यह विषय उठाया। संघमित्रा उत्तर प्रदेश सरकार के पूर्व मंत्री और अब भाजपा छोड़कर समाजवादी पार्टी में शामिल हो चुके स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) की पुत्री हैं।

संघमित्रा ने सदन में कहा, 'बीएचयू में एक प्रोफेसर की नियुक्ति हुई जो हाल में छात्रों को उपले बनाने की विधि बता रहे थे। बीएचयू जैसे परिसर में उपले बनाने की विधि बताई जा रही है तो हम कैसे उच्च शिक्षा की बात कर सकते हैं।' भाजपा सांसद ने कहा, 'यह व्यवहार निंदनीय है और चिंतनीय भी है। मैं चाहती हूं कि शिक्षा के मंदिर में ऐसी हरकत करने वाले शिक्षकों के खिलाफ कार्रवाई हो।'

इन्होने भी किया समर्थन

द्रमुक के डीएनवी सेंथिलकुमार ने आईआईटी-मद्रास में एक शिक्षक के साथ कथित भेदभाव का विषय उठाया और उचित कार्रवाई की मांग की। ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के सांसद इम्तियाज जलील ने अपने क्षेत्र औरंगाबाद (महाराष्ट्र) में 'दिशा' समिति की बैठकें समय पर नहीं होने का विषय उठाया और लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला से संरक्षण की मांग की।

एक चौथाई हो रही बैठकें

इस पर बिरला ने सदन में मौजूद ग्रामीण विकास मंत्री गिरिराज सिंह से कहा कि वह सुनिश्चित करें कि 'दिशा' की बैठकें समय से हों और सभी अधिकारी उनमें आएं। गिरिराज सिंह ने कहा, 'दिशा की बैठकें जितनी होनी चाहिए, उसकी एक चौथाई हो रही हैं। आपके (बिरला) दिशानिर्देश से सबकी समिति बन सकती है।' जनता दल (यूनाइटेड) के आलोक कुमार सुमन और कुछ अन्य सदस्यों ने भी लोकहित से जुड़े अलग-अलग विषय शून्यकाल में उठाए।

Next Story

विविध