शिक्षा

IIT Kanpur: आईआईटी ने लॉन्च किया भू-परीक्षण उपकरण, महज 90 सेकंड में लगाएगा मिट्टी के स्वास्थ्य का पता

Janjwar Desk
13 Dec 2021 10:57 AM GMT
iit kanpur
x

(IIT Kanpur ने विकसित किया भू-परीक्षक उपकरण)

रैपिड मृदा परीक्षण उपकरण व्यक्तिगत किसानों को उर्वरकों की अनुशंसित खुराक के साथ कृषि क्षेत्रों के मृदा स्वास्थ्य मानकों को प्राप्त करने में सहायता करेगा...

IIT Kanpur: फाउंडेशन फॉर इनोवेशन एंड रिसर्च इन साइंस एंड टेक्नोलॉजी (FIRST-IITK) में, आईआईटी कानपुर ने एक पोर्टेबल मिट्टी परीक्षण उपकरण विकसित किया है जो एक एम्बेडेड मोबाइल एप्लिकेशन के माध्यम से केवल 90 सेकंड में मिट्टी के स्वास्थ्य का पता लगा सकता है। रैपिड मृदा परीक्षण उपकरण व्यक्तिगत किसानों को उर्वरकों की अनुशंसित खुराक के साथ कृषि क्षेत्रों के मृदा स्वास्थ्य मानकों को प्राप्त करने में सहायता करेगा। पोर्टेबल मृदा परीक्षण उपकरण शीर्षक वाली तकनीक अर्थात "भू परीक्षक" को AgroNxt Services Pvt Ltd नाम की एक एग्रीटेक कंपनी में स्थानांतरित किया गया है।

यह अपनी तरह का पहला नवीन आविष्कार नियर इन्फ्रारेड स्पेक्ट्रोस्कोपी तकनीक पर आधारित है, जो Google Play Store पर भू-परीक्षक नामक एक एम्बेडेड मोबाइल एप्लिकेशन के नाम से उपलब्ध है। जो कि 90 सेकंड के अंदर स्मार्ट फोन पर वास्तविक समय में मिट्टी की विश्लेषण रिपोर्ट प्रदान करता है। डिवाइस मिट्टी के छह महत्वपूर्ण मापदंडों - नाइट्रोजन, फास्फोरस, पोटेशियम, कार्बनिक कार्बन, मिट्टी की सामग्री और कैटीअन एक्सचेंज कपैसिटी का पता लगा सकता है।

भू-परीक्षक उपकरण

यह खेत और फसलों के लिए उर्वरकों की आवश्यक खुराक की भी सिफारिश करता है। मोबाइल एप्लिकेशन को यूजर इंटरफेस के माध्यम से उपयोगकर्ता के अनुकूल बनाया गया है जो स्थानीय भाषाओं में उपलब्ध है, जैसे कि कक्षा 8 वीं पास व्यक्ति भी आसानी से डिवाइस और मोबाइल एप्लिकेशन को इस्तेमाल कर सकता है। यह उपकरण 1 लाख मृदा परीक्षण नमूनों का परीक्षण कर सकता है, जो कि अब तक के पूर्ववर्ति उपकरणों के बीच मृदा परीक्षण उपकरण की उच्चतम परीक्षण क्षमता रखता है।

थोक उत्पादन के माध्यम से उपकरण के निर्माण के उद्देश्य से प्रौद्योगिकी को एग्रोनक्स्ट में स्थानांतरित कर दिया गया है, जिससे अंततः किसानों को लाभ होगा। प्रौद्योगिकी लाइसेंस समझौते पर औपचारिक रूप से आईआईटी कानपुर और एग्रोनक्स्ट (AgroNxt) सेवाओं के बीच 11 दिसंबर, 2021 को हस्ताक्षर किए गए। MoU विनिमय समारोह में आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रोफेसर अभय करंदीकर और रजत वर्धन, निदेशक एग्रोनेक्स्ट सर्विसेज ने भाग लिया था। इस मौके पर प्रो अमिताभ बंद्योपाध्याय, प्रो ए आर हरीश और आईआईटी कानपुर से रवि पांडे भी समझौते पर हस्ताक्षर समारोह में उपस्थित रहेl

इस उपलब्धि पर आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रो. अभय करंदीकर ने कहा कि, 'किसान हमारे अन्नदाता हैं। लेकिन उन्हें काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। ऐसी ही एक कठिनाई उनकी मिट्टी का परीक्षण करवाना और परिणाम के लिए दिनों तक इंतजार करना है। इससे अब कोई परेशानी नहीं होगी। मुझे आईआईटी कानपुर की टीम के द्वारा एक ऐसा नया उपकरण विकसित करने पर खुशी हो रही है जिसकी मदद से किसानों को उनकी मिट्टी के स्वास्थ्य का आकलन पलक झपकते ही मिल सकेगा। यह प्रौद्योगिकी आत्मनिर्भरता के लक्ष्य को प्राप्त करने की दिशा में एक और कदम है, जिसके लिए आईआईटी कानपुर सतत प्रयासरत रहता है।'

प्रो. अभय करंदीकर (मध्य में) व अन्य प्रोफेसर्स

इस उपकरण को आईआईटी कानपुर की एक टीम द्वारा विकसित किया गया है जिसमें केमिकल इंजीनियरिंग विभाग के प्रो जयंत कुमार सिंह, पल्लव प्रिंस, अशर अहमद, यशस्वी खेमानी और मोहम्मद आमिर खान शामिल हैं। आविष्कार का विचार किसानों द्वारा सामना की जाने वाली आम समस्या के सामान्य अवलोकन से उत्पन्न हुआ, जिसमें एक किसान को दूर के जिला मृदा परीक्षण प्रयोगशालाओं से मृदा स्वास्थ्य कार्ड प्राप्त करने के लिए एक पखवाड़े तक इंतजार करना पड़ता है, जिसमें काफी कार्यबल और समय लगता है।

मिट्टी में मौजूद मैक्रोन्यूट्रिएंट्स का पता लगाने के लिए पोर्टेबल और वायरलेस मिट्टी परीक्षण उपकरण को केवल 5 ग्राम सूखी छनी हुई मिट्टी के नमूने की आवश्यकता होती है। 5 सेमी लंबे बेलनाकार आकार के उपकरण में मिट्टी डालने के बाद, यह ब्लूटूथ के माध्यम से खुद को मोबाइल से जोड़ता है, और 90 सेकंड के लिए मिट्टी का विश्लेषण करना शुरू कर देता है। विश्लेषण के बाद, परिणाम स्क्रीन पर मृदा स्वास्थ्य रिपोर्ट के रूप में दिखाई देते हैं, जो कि यूनिक आईडी के साथ भू परीक्षक क्लाउड सेवा पर उपलब्ध है। रिपोर्ट में उर्वरकों की अनुशंसित मात्रा की जानकारी भी आती है।

जानिए आईआईटी कानपुर के बारे में

देश के प्रतिष्ठित संस्थानों में होती है गिनती

भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान, कानपुर, भारत सरकार द्वारा स्थापित प्रमुख संस्थानों में से एक है। 1959 में पंजीकृत, संस्थान को 1962-72 की अवधि के दौरान अपने शैक्षणिक कार्यक्रमों और प्रयोगशालाओं की स्थापना में यूएसए. के नौ प्रमुख संस्थानों द्वारा सहायता प्रदान की गई थी। अग्रणी नवाचारों और अत्याधुनिक अनुसंधान के अपने रिकॉर्ड के साथ, संस्थान को इंजीनियरिंग, विज्ञान और कई अंतःविषय क्षेत्रों में ख्याति के एक शिक्षण केंद्र के रूप में दुनिया भर में जाना जाता है। औपचारिक स्नातक और स्नातकोत्तर पाठ्यक्रमों के अलावा, संस्थान उद्योग और सरकार दोनों के लिए महत्वपूर्ण क्षेत्रों में अनुसंधान और विकास में सक्रिय रहा है।

Next Story

विविध