शिक्षा

फिर एक बार बमबाजी और गोलीबारी से दहला पटना विश्वविद्यालय, बवाल के बाद हिंसा के डर से भारी पुलिस बल तैनात

Janjwar Desk
4 Dec 2023 12:33 PM GMT
फिर एक बार बमबाजी और गोलीबारी से दहला पटना विश्वविद्यालय, बवाल के बाद हिंसा के डर से भारी पुलिस बल तैनात
x

file photo

Patna University violence : कुछ छात्र दबी जुबान में कह रहे हैं कि कैंपस में न सिर्फ बमबाजी हुई, बल्कि जमकर फायरिंग भी की गयी थी। यह सब दोनों गुट अपनी शक्ति का प्रदर्शन करने और एक दूसरे को डराने के लिए कर रहे थे...

Patna news : जुर्म और गुंडागर्दी से तो बिहार का लगता है जैसे बड़ा रिश्ता है, जोकि छूटने का नाम ही नहीं लेता है। अब एक बार फिर यहां घटी एक घटना मीडिया की सुर्खियां बनी है। जानकारी के मुताबिक राजधानी स्थित पटना विश्वविद्यालय में छात्रों के बीच हुआ बवाल इतना ज्यादा बढ़ गया कि कैंपस में ही बमबाजी हो गयी।

प्रत्यक्षदर्शी छात्रों का कहना है कि बमबाजी से विश्वविद्यालय कैंपस में भारी हड़कंप मच गया। सामने आ रही जानकारी के मुताबिक 2 छात्र गुटों के बीच झड़प हुई थी, जो देखते ही देखते इतनी विकराल हो गयी कि उग्र छात्रों ने कैंपस में ही बमबाजी कर शक्ति प्रदर्शन कर डाला। बमबाजी के बाद छात्रों के बीच हड़कंप मच गया, हालांकि अभी तक जो सूचना मीडिया में आ रही है उसके मुताबिक इस दौरान किसी भी छात्र को चोट नहीं आयी है, मगर घटनास्थल पर पहुंची पुलिस ने जिंदा बम जरूर बरामद किया है। शुरुआती जांच के बाद पुलिस की तरफ से सूचना दी गयी है कि बमबाजी में कोई घायल नहीं हुआ है और विश्वविद्यालय परिसर में पुलिस बल को तैनात कर दिया गया है। हालांकि घटना में एक छात्र के घायल होने की बात भी मीडिया में आयी थी, मगर पुलिस ने इसे नकार दिया है।

कैंपस में मचे हंगामे के बाद जब बवाल मचा तो स्थानीय थाना पुलिस के अलावा हिंसा की आशंका को देखते हुए कई थानों की पुलिस फोर्स विश्वविद्यालय कैंपस में पहुंच गयी और स्थिति पर काबू पाया जा सका। पुलिस ने जब पूछताछ की तो सामने आया कि दो छात्र गुटों से इकबाल और मिंटो के बीच मारपीट हुयी थी, जिसने उग्र रूप धारण कर लिया। कुछ छात्र दबी जुबान में कह रहे हैं कि कैंपस में न सिर्फ बमबाजी हुई, बल्कि जमकर फायरिंग भी की गयी थी। यह सब दोनों गुट अपनी शक्ति का प्रदर्शन करने और एक दूसरे को डराने के लिए कर रहे थे। माना जा रहा है कि अगर समय से पुलिस नहीं पहुंचती तो बवाल बड़ी हिंसा की घटना में तब्दील हो जाता।

फिलहाल मामले की जांच कर रही पुलिस कैंपस के सीसीटीवी खंगाल रही है। पुलिस का कहना है कि वह बवाल को अंजाम देने वाले छात्रों की पहचान के लिए ऐसा कर रही है। बकौल पुलिस अभी तक इस बात की जानकारी नहीं मिल पाई है कि विवाद हुआ क्यों था।

बिहार पुलिस द्वारा ट्वीटर पर पोस्ट कर बताया गया है, 'आज प्रातः में #पटना_कॉलेज कैंपस में दो गुटों के बीच मारपीट होने की सूचना प्राप्त हुई थी। त्वरित कार्रवाई द्वारा पुलिस घटनास्थल पर पहुंच कर घटना की जांच प्रारंभ की गई। प्रथमदृष्टया पत्थरबाजी व सुतली बम का प्रयोग किए जाने की बात सामने आई है।'

गौरतलब है कि पटना यूनिवर्सिटी और हिंसक वारदातों का चोली दामन जैसा साथ है। मीडिया में आई खबरों के मुताबिक, इस साल सात महीने में 15 बार पटना यूनिवर्सिटी कैंपस में बमबाजी, गोलीबारी, पत्थरबाजी और मारपीट जैसी घटनाएं हुई हैं। वहीं इस मामले में पटना विश्वविद्यालय प्रशासन ने सफाई देते हुए कहा है कि जल्द ही इस संबंध में कार्रवाई शुरू की जाएगी।

पुलिस द्वारा अनुमानित आंकड़ों के अनुसार हर साल इस तरह की घटनाओं में 100 से अधिक छात्रों पर मुकदमा दर्ज किया जाता है। जांच शुरू होने के बाद पुलिस हॉस्टल से लेकर घर तक छापेमारी करती है। 307 और 302 जैसे संगीन मामले दर्ज होने के कारण छात्रों का भविष्य खराब होता है, लेकिन इसके बावजूद छात्र बमबाजी, गोलीबारी और मारपीट करने से बाज नहीं आते हैं।

Next Story

विविध