Top
शिक्षा

पढ़ाई के लिए मोबाइल-कम्प्यूटर यूज कर रहे बच्चों में सट्टेबाजी की लत लगा रहीं ऑनलाइन गेमिंग कंपनियां

Janjwar Desk
8 Jan 2021 10:52 AM GMT
पढ़ाई के लिए मोबाइल-कम्प्यूटर यूज कर रहे बच्चों में सट्टेबाजी की लत लगा रहीं ऑनलाइन गेमिंग कंपनियां
x

(प्रतीकात्मक तस्वीर, सोशल मीडिया)

एक अभिभावक ने शिकायत में कहा था कि उनके बच्चे ने 50 हजार रुपये ऑनलाइन जुआ खेल डाला, शिकायतों को बेहद गंभीरता से लेते हुए आयोग के चेयरमैन प्रियांक कानूनगो के निर्देश पर सभी कंपनियों को नोटिस भेजा गया है...

नई दिल्ली। ऑनलाइन गेमिंग की आड़ में बच्चों को जुए और सट्टेबाजी की लत लगाने वालीं कंपनियों पर शिकंजा कसना शुरू हुआ है। अभिभावकों की शिकायतों पर राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने ऑनलाइन गेमिंग कंपनियों को नोटिस भेजा है। माय टीम इलेवन, ड्रीम 11ए प्ले गेम 24 इनटू 7 आदि कंपनियों से आयोग ने जवाब तलब किया है।

दरअसल कुछ अभिभावकों ने राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग से शिकायत कर कहा था कि कई ऑनलाइन गेमिंग साइट्स बच्चों में जुआए सट्टेबाजी और शोषण को बढ़ावा दे रही हैं। एक अभिभावक ने शिकायत में कहा था कि उनके बच्चे ने 50 हजार रुपये ऑनलाइन जुआ खेल डाला। इन शिकायतों को बेहद गंभीरता से लेते हुए आयोग के चेयरमैन प्रियांक कानूनगो के निर्देश पर सभी कंपनियों को नोटिस भेजा गया है।

आयोग ने कहा है ऑनलाइन गेमिंग कंपनियां बाल अधिकारों का हनन कर रही हैं। ऐसे में उनसे कई तरह के सवाल किए गए हैं। बच्चों के बाल अधिकार हनन को रोकने के लिए उनकी ओर से क्या कार्रवाई चल रही है।कंपनियों से यह भी पूछा गया है कि बच्चों को भ्रमित होने से रोकने के लिए उनकी ओर से क्या तैयारियां की गई हैं।

आयोग के अध्यक्ष प्रियांक कानूनगो ने कहा कि भोलेभाले बच्चे ऑनलाइन कंपनियों के फरेब में आकर अपने मां बाप के पैसे खर्च कर दे रहे हैं। पूरी तरह से यह आपराधिक मामला है। इस मामले को बेहद गंभीरता से लेते हुए सभी कंपनियों से 10 दिन के अंदर जवाब तलब किया गया है।

Next Story
Share it