शिक्षा

UPSC Exam Success Rate : 2020 यूपीएससी एग्जाम में 1040060 अभ्यर्थियों ने भरे फॉर्म और पास हुए मात्र .07 प्रतिशत

Janjwar Desk
30 Sep 2021 11:55 AM GMT
UPSC Exam Success Rate : 2020 यूपीएससी एग्जाम में 1040060 अभ्यर्थियों ने भरे फॉर्म और पास हुए मात्र .07 प्रतिशत
x

(UPSC में 10,40060 अभ्यर्थियों ने भरे फार्म, पास हुए मात्र पास 761)

UPSC के अनुसार, मुख्य परीक्षा के लिए भर्ती होने वाले उम्मीदवारों की संख्या इस परीक्षा के माध्यम से वर्ष में भरी जाने वाली रिक्तियों की कुल अनुमानित संख्या का लगभग बारह से तेरह गुना होगी.....

UPSC Exam Success Rate जनज्वार। हर साल लगभग 10 लाख से अधिक उम्मीदवार संघ लोक सेवा आयोग (UPSC) के तहत आवेदन करते हैं। जबकि रिक्तियों की कुल संख्या 1000 के आस-पास रहती हैं। इसमें सभी 24 सेवायें जैसे भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS), भारतीय विदेश सेवा (IFS) आदि शामिल हैं।

भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS) परीक्षा को व्यापक रूप से भारत में कठिन परीक्षा माना जाता है। बेशक, आईएएस परीक्षा के प्रारंभिक, मुख्य या साक्षात्कार चरणों में आने वाले प्रश्न आसान नहीं होते हैं। लेकिन आईएएस परीक्षा को पास करना कठिन है क्योंकि चयन अनुपात बहुत कम है।

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार, एक आंकड़े के मुताबिक 2014 में 1291 पदों के लिए आवेदन मंगाए गए थे। जबकि 2021 में रिक्तियों की संख्या में भारी गिरावट आई है और 2014 के मुकाबले अब ये 712 पर आ गई है। हर साल ये गिरावट दर्ज की जा रही है। यही हालत 2018 में भी देखा गया था जब 782 पदों के लिए आवेदन मंगाए गए थे। 2019 में पदों की संख्या 2018 के मुकाबले बढ़ी जरुर थी लेकिन तब भी 927 सीटों के लिए ही परीक्षा हुई थी।




यूपीएससी (UPSC) के अनुसार, मुख्य परीक्षा के लिए भर्ती होने वाले उम्मीदवारों की संख्या इस परीक्षा के माध्यम से वर्ष में भरी जाने वाली रिक्तियों की कुल अनुमानित संख्या का लगभग बारह से तेरह गुना होगी।

उपरोक्त चार्ट का विश्लेषण करते हुए, यह देखा जा सकता है कि यह आंकड़ा (Data) आमतौर पर अनुमानित रिक्तियों का 12.5 गुना होगा। यूपीएससी के अनुसार, साक्षात्कार के लिए बुलाए जाने वाले उम्मीदवारों की संख्या भरी जाने वाली रिक्तियों की संख्या से लगभग दोगुनी होगी। लेकिन ऊपर दिए गए आंकड़ों को देखते हुए यह देखा जा सकता है कि, यह संख्या 2.5 के आसपास होगी ।

पिछले 10 वर्षों में लगभग 8,00,000 नए यूपीएससी प्रारंभिक परीक्षा आवेदकों को जोड़ा गया, लेकिन सभी 24 सेवाओं की संयुक्त रिक्तियों में केवल 100 या 200 की वृद्धि हुई। लेकिन चिंता की कोई बात नहीं है - अगर आप एक गंभीर आकांक्षी हैं। आईएएस परीक्षा (IAS Exam) में जो मायने रखता है वह है सही रणनीति और मार्गदर्शन।

सिविल सर्विसेज परीक्षाओं (Civil Service Exam) का आयोजन हर साल यूपीएससी तीन चरणों में करता है जिनमें प्रारंभिक परीक्षा, मुख्य परीक्षा और साक्षात्कार शामिल हैं। परीक्षा पंजीयन के लिए सामान्य (Gen.), ओबीसी (OBC), इडब्ल्यूएस वर्ग (EWS) के छात्रों को 100 रूपये देने होते है। एससी (SC), एसटी (ST), पीडब्ल्यूडी (PWD) और महिला उम्मीदवार का नि:शुल्क पंजीयन होता है।

आईएएस (IAS) परीक्षा न केवल डॉक्टरों, इंजीनियरों या पीएचडी वाले लोगों द्वारा उत्तीर्ण की जाती है, बल्कि यह एक समावेशी परीक्षा है। वित्तीय, सामाजिक या शैक्षिक पृष्ठभूमि के बावजूद इसे सभी ने समान रूप से जीता है। अगर आपमें क्षमता और आत्मविश्वास है तो आपको इस परीक्षा को आजमाना चाहिए। आप आईएएस क्लियर कर सकते हैं!

सिविल सर्विसेज प्रारंभिक परीक्षा, 2020 (Civil Services Prelims Exam 2020) का आयोजन पिछले वर्ष चार अक्टूबर को हुआ था। बयान में बताया गया कि 10,40,060 उम्मीदवारों (Candidates) ने परीक्षा के लिए आवेदन दिया था जिनमें से 4,82,770 परीक्षा में बैठे। मुख्य परीक्षा (Mains Exam) के लिए 10,564 उम्मीदवार उत्तीर्ण हुए जिसका आयोजन जनवरी 2021 में हुआ। बयान में बताया गया कि इनमें से 2053 उम्मीदवार साक्षात्कार (Interview) के लिए चुने गए। केवल 761 उम्मीदवार पास (UPSC Exam Success Rate) हो पाए हैं। परीक्षा में पास हुए 761 उम्मीदवारों में 545 पुरुष और 216 महिला अभ्यर्थी हैं। यानि की मात्र .07 प्रतिशत अभ्यर्थी ही पास हुए।

यूपीएससी (UPSC) ने कट-ऑफ मार्क्स (Cut Off Marks) भी जारी किए हैं। सामान्य वर्ग के लिए सीएस प्रीलिम्स कट-ऑफ 92.51 रहा। यह पिछले कुछ सालों से लगातार घटा है। मुख्य परीक्षा में कट-ऑफ 736 और फाइनल में 944 अंक रहा। ओबीसी की कट-ऑफ प्रीलिम्स में 89.12, मेन में 698 व फाइनल में 907 है।

एससी वर्ग की प्रिलिम्स में कट-ऑफ 74.84, मेन में 682 और फाइनल में 876 अंक है। एसटी में प्रिलिम्स कट-ऑफ 86.71, मेन में 648 और फाइनल में 867 अंक है। कट-ऑफ मार्क्स केवल जीएस पेपर-1 आधार पर बनते हैं। जीएस पेपर-2 में क्वालीफाइंग 33% था।

यूपीएससी ने इस बार 712 पदों के लिए आवेदन मंगाए हैं। भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय पुलिस सेवा, भारतीय विदेश सेवा, भारतीय राजस्व सेवा समेत कई अन्य विभागों के लिए ये आवेदन मंगाए गए हैं। इसके अलावा 110 भारतीय वन सेवा के अधिकारियों का चयन भी किया जायेगा। छात्रों में यूपीएससी के लिए क्रेज बढ़ता जा रहा है। आवेदन करने वालों की संख्या में बढ़ोतरी देखी जा रही है। लेकिन सीटों की संख्या में लगातार हो रही कमी से छात्रों में भी निराशा है।

Next Story

विविध

Share it