शिक्षा

Uttar Pradesh Crime News : ट्रांसफर रुकवाने के लिए 2 शिक्षिकाओं ने 20 छात्राओं को बनाया बंधक, पुलिस ने लड़कियों को कराया मुक्त

Janjwar Desk
23 April 2022 10:49 AM GMT
Uttar Pradesh Crime News : ट्रांसफर रुकवाने के लिए 2 शिक्षिकाओं ने 20 छात्राओं को बनाया बंधक, पुलिस ने लड़कियों को कराया मुक्त
x

ट्रांसफर रुकवाने के लिए 2 शिक्षिकाओं ने 20 छात्राओं को बनाया बंधक, पुलिस ने लड़कियों को कराया मुक्त

Uttar Pradesh Crime News : लखीमपुर खीरी ( Lakhimpur Kheri ) में जनपद के बेहजाम ब्लाक के केजीबीवी की करीब 20 छात्राओं को दो सरकारी शिक्षिकाओं ( Government Teachers ) ने अपना ट्रांसफर रुकवाने के कथिक तौर पर बंधक बना लिया...

Uttar Pradesh Crime News : उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh )के जिले लखीमपुर खीरी ( Lakhimpur Kheri ) में दो सरकारी शिक्षिकाओं ( Government Teachers ) ने अपना ट्रांसफर रुकवाने के लिए घिनौनी हरकत कर दी। जनपद के बेहजाम ब्लाक के कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय ( kasturba gandhi balika vidyalaya ) यानी केजीबीवी की करीब 20 छात्राओं को उनकी दो शिक्षिकाओं ( Teachers Hostage Students) ने बीते गुरुवार की रात कथिक तौर पर बंधक बना लिया। इस मामले के सामने आने के बाद दोनों ही शिक्षिकाओं के खिलाफ मुकदमा दर्ज हो गया है।

तबादला रुकवाने के लिए बनाया बंधक

बेहजाम ब्लाक के कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय की छात्राओं की उनकी ही शिक्षिकाओं द्वारा बंधक बना लेने पर छात्राओं को रो-रोकर बुरा हाल था। इस घटना के बाद से परिजनों में भी काफी आक्रोश हैं। इस ब्लाक के केजीबीवी में गुरुवार की रात पर मनोरमा मिश्रा और गोल्डी कटियार नाम की शिक्षिकाओं ने 20 छात्राओं को बंधक बनाया था। इन्होंने अपना ट्रांसफर रुकवाने के लिए यह शर्मनाक हरकत की। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार 20 छात्राओं को अपने कब्जे में लेकर प्रशासन पर ट्रांसफर रोकने का दबाव बना रही थी। काफी देर तक यह हंगामा चलता ही रहा और लोगों ने जब इसकी सूचना पुलिस को दी तब पुलिस की टीम ने बंधक बनाए गए सभी छात्राओं को शिक्षिका के कब्जे से छुड़ाया।

दोनों शिक्षिकाओं पर केस दर्ज

बता दें कि कस्तूरबा गांधी बालिका विद्यालय ( KGBV ) की छात्राओं का आरोप है कि दोनों शिक्षिकाओं ने जब बंधक बनाने पर उन्हें प्रताड़ित कर रही थी। पुलिस ने दोनों शिक्षिकाओं पर 342, 504, 336 धारा के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। इस मामले में बेसिक शिक्षा अधिकारी लक्ष्मीकांत पांडे ने बताया कि शिक्षकों ने अनुशासनात्मक आधार पर दूसरे केजीबीवी में हुए उनके तबादले को रद्द करने के लिए जिले के अधिकारियों पर दबाव बनाने के लिए इस तरह का तरीका अपनाया।

वार्डन ललित कुमारी ने उन्हें और जिला समन्वयक, बालिका शिक्षा रेणु श्रीवास्तव को घटना के बारे में जानकारी दी। जिसके बाद वे स्कूल पहुंचे और वहां कई घंटों तक मौजूद रहे। सुचना मिलते ही पुलिस मौके पर पहुंची और महिला पुलिस को बुलाकर लड़कियों को अपने छात्रावास के कमरे में वापस लाया गया।

जांच के बाद शिक्षिकाओं पर होगी सख्त कार्रवाई

बेसिक शिक्षा अधिकारी लक्ष्मीकांत पण्डे ने इस संबंध में जिला समन्वयक बालिका शिका रेनू श्रीवास्तव द्वारा दो शिक्षिकाओं मनोरमा मिश्रा और गोल्डी कटियार के खिलाफ भारतीय दंड संहिता की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज कराई गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार इस मामले में चार सदस्यीय समिति द्वारा विभागीय जांच की जाएगी। पूरे घटनाक्रम की रिपोर्ट समिति को तीन दिन में देने को कहा गया है। इसके साथ ही उन्होंने यह भी बताया कि जांच में दोषी पाए जाने पर शिक्षकों के खिलाफ सेवा अनुबंध को समाप्त करने सहित सख्त कार्रवाई की जाएगी।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू—ब—रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध