गवर्नेंस

यूपी विधानसभा में अश्लीलता : विशेष सचिव शिक्षा का नग्न वीडियो हुआ वायरल तो जांच में जुटी साइबर सेल

Janjwar Desk
4 Aug 2021 3:52 AM GMT
यूपी विधानसभा में अश्लीलता : विशेष सचिव शिक्षा का नग्न वीडियो हुआ वायरल तो जांच में जुटी साइबर सेल
x

विशेष सचिव शिक्षा आरवी सिंह ने शिकायत की है. (photo - social media)

सचिवालय की सेवा से प्रमोट हुए आरवी सिंह बेसिक शिक्षा विभाग में विशेष सचिव के पद पर प्रोन्नत हुए थे, उनका यह कथित वीडियो नितिन नाम के एक युवक ने उनकी ही फेसबुक आईडी से उनकी वॉल पर शेयर किया...

जनज्वार, लखनऊ। पहले भी विवादों में रह चुके उत्तर प्रदेश विशेष सचिव शिक्षा आरवी सिंह एक बार फिर चर्चा में हैं। इस बार उनका एक अश्लील ​वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। वीडियो में आरवी सिंह सचिवालय के ही किसी कमरे में एक महिला के साथ ऑनलाइन अश्लील हरकत करते हुए दिखायी दे रहे हैं।

गौरतलब है कि इससे पहले आईपीएस वैभव कृष्ण भी इसी तरह का कारनामा कर चुके हैं। विशेष सचिव ने साइबर क्राइम सेल (Cyber Crime) में इसकी शिकायत की है। आरवी सिंह ने मुकदमा दर्ज कराने की बात कही है। यह वीडियो डेढ़ मिनट का है।

सचिवालय की सेवा से प्रमोट हुए आरवी सिंह (RV Singh) बेसिक शिक्षा विभाग में विशेष सचिव के पद पर प्रोन्नत हुए थे। उनका यह कथित वीडियो नितिन नाम के एक युवक ने उनकी ही फेसबुक आईडी से उनकी वॉल पर शेयर किया है। वीडियो शेयर होने के बाद दोनो ही एकाउंट बंद हो गये।

एसीपी (ACP) साइबर क्राइम विवेक रंजन राय के मुताबिक, विशेष सचिव द्वारा की गई शिकायत में कहा गया है कि, वीडियो भेजने वाले शख्स ने उनके निजी मोबाइल पर वीडियो भेजकर रंगदारी भी मांगी है। एक महीने पहले भी उनने इसकी मौखिक शिकायत की थी।

तब के बाद अब उन्होने लिखित शिकायत की है। जिसकी जांच साइबर क्राइम सेल के प्रभारी निरीक्षक मथुरा राय (Mathura Roy) की टीम कर रही है। साइबर सेल के मुताबिक इस तरह के वीडियो बनाने का गिरोह राजस्थान में सक्रिय रहता है। वह पहले दोस्ती करते हैं, फिर हनीट्रैप का शिकार बनाकर ब्लैकमेलिंग करते हैं।

क्या है शिकायती पत्र में

विशेष सचिव शिक्षा आरवी सिंह ने शिकायत पत्र में कहा है कि, वीडियो मार्च का है। उन्हें छोखे में लेकर यह वीडियो बनाया गया है। वह सचिवालय में काम कर रहे थे, इसी दौरान सोशल वर्कर के रूप में एक युवती ने फ्रेंड रिक्वेस्ट भेजी थी। युवती की फ्रेंड सर्किल में कुछ स्थानीय पत्रकार भी थे। जिसके चलते उन्होने फ्रेंड रिक्वेस्ट स्वीकार कर ली। कुछ समय बाद उनके मोबाइल पर एक लिंक आया। लिंक का वीडियो देखकर वह परेशान हो गये। इस क्लिप को भेजकर लोग उन्हें ब्लैकमेल करने लगे।

Next Story

विविध

Share it