स्वास्थ्य

N-95 और N-99 मास्क का IIT कानपुर में शुरू हुआ उत्पादन, कोविड-19 से बचाव में साबित होंगे कारगर

Janjwar Desk
19 Jun 2020 10:55 AM GMT
N-95 और N-99 मास्क का IIT कानपुर में शुरू हुआ उत्पादन, कोविड-19 से बचाव में साबित होंगे कारगर
x
आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रोफेसर अभय करंदीकर ने कहा, 'फेस मास्क कोविड-19 के खिलाफ जनता की सुरक्षा में पूर्ण बुनियादी आवश्यकता बन गए हैं और उपलब्धता या सामर्थ्य के कारण किसी को भी इस पर समझौता नहीं करना चाहिए।

जनज्वार ब्यूरो/कानपुर। देश का प्रतिष्ठित संस्थान आईआईटी कानपुर में N95 मास्क का उत्पादन शुरू कर दिया गया है। भारत में कोविड -19 के मामलों की बढ़ती संख्या के मद्देनजर आईआईटी कानपुर और स्टार्टअप इनोवेशन एंड इन्क्यूबेशन सेंटर ने N-95 और N-99 ग्रेड फेस मास्क के उत्पादन के लिए एक विशेष प्रावधान किया है। फेस मास्क आम जनता के साथ-साथ स्वास्थ्यकर्मियों के लिए बीमारी के फैलाव को रोकने के लिए आवश्यक सुरक्षात्मक उपकरण हैं।

N95 और N99 ग्रेड फेस मास्क का उत्पादन आईआईटी कानपुर के बिजनेस इनक्यूबेटर के परिसर में इनक्यूबेटर ई-स्पिन नैनोटेक की स्नातक उपाधि प्राप्त कंपनी द्वारा वर्तमान में इनक्यूबेटेड कंपनी इंडीमा फाइबर्स के साथ सहयोग से किया जायेगा, जिसमे आईआईटी के संकाय सदस्यों प्रोफेसर शिवकुमार, प्रोफेसर रामकुमार, प्रोफेसर राजा अंगमुथु, प्रोफेसर गोपकुमार, और वरिष्ठ वैज्ञानिक अधिकारी डॉ० मनीष कुलकर्णी सहित डॉक्टर प्रभात द्विवेदी की मुख्य भूमिका है।

आईआईटी कानपुर के निदेशक प्रोफेसर अभय करंदीकर ने कहा, 'फेस मास्क कोविड-19 के खिलाफ जनता की सुरक्षा में पूर्ण बुनियादी आवश्यकता बन गए हैं और उपलब्धता या सामर्थ्य के कारण किसी को भी इस पर समझौता नहीं करना चाहिए। मैं ई-स्पिन नैनोटेक, इंडेमा फाइबर्स और हमारे संकाय को जनता के लिए व्यापक रूप से मास्क उपलब्ध कराने की चुनौती के लिए आभारी हूं।'

ई-स्पिन नैनोटेक प्राइवेट लिमिटेड के प्रोफेसर डॉक्टर संदीप पाटिल ने बताया, 'आज हर एक चेहरे पर मास्क इस कोविड-19 महामारी में एक नियमित वस्तु है। चूंकि वर्तमान में बाजार में कई उत्पादों की बाढ़ आ रही है, इसलिए किसी ग्राहक के लिए उत्पाद पर भरोसा करना बहुत महत्वपूर्ण है। ई-स्पिन नैनोटेक प्राइवेट लिमिटेड लगातार सामाजिक लाभ के लिए काम कर रहा है और भारतीय समुदाय को सुरक्षित और परीक्षण उत्पाद प्रदान कर रहा है।'


कंपनी N-95 और N-99 SWASA मास्क दोनों का निर्माण करेगी। लक्ष्य उत्पादन की मात्रा 25,000 मास्क प्रतिदिन है। उत्पादन के दौरान प्रदूषण को रोकने के लिए और एक सुरक्षित उत्पाद की जनता को आश्वस्त करने के लिए उत्पादन लाइन पूरी तरह से स्वचालित है। इस पहल के पीछे का विचार महामारी से लड़ने के लिए देश के सामूहिक प्रयास में योगदान करना है। इस कारण से, मास्क बहुत ही सस्ती कीमत पर आम जनता के लिए उपलब्ध होंगे। ये मास्क कंपनी की वेबसाइट के साथ-साथ कई प्रमुख ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म पर उपलब्ध होंगे।

इस बारे में आईआईटी कानपुर के मीडिया प्रभारी गिरीश पंत ने जनज्वार से हुई बातचीत में बताया कि भारत सरकार को ही मजबूत करने की दिशा में भारतीय उपक्रम का योगदान है, 'मेड इन इंडिया' 0 आई आई टी कानपूर देश का पहला संस्थान है जिसने अपने यहाँ ऐसे मास्कों का प्रोडक्शन शुरू किया है।

यह किसी भी आईआईटी या भारत के किसी भी शैक्षणिक संस्थान के टेक्नोलॉजी बिजनेस इनक्यूबेटर द्वारा की गई अपनी तरह की पहली पहल है। साथ ही उन्होंने कहा यह दोनों ही मास्क आम आदमी के लिए इकोनोमिकल ही होगा।

Next Story

विविध

Share it