Top
जनज्वार विशेष

अर्णब गोस्वामी के TRP घोटाले के जांचकर्ता अधिकारी को केंद्र की जांच एजेंसी ने किया गिरफ्तार

Janjwar Desk
15 March 2021 7:28 AM GMT
अर्णब गोस्वामी के TRP घोटाले के जांचकर्ता अधिकारी को केंद्र की जांच एजेंसी ने किया गिरफ्तार
x
वझे का पुलिस फोर्स में रहते हुए 'एनकाउंटर स्‍पेशलिस्‍ट' बनना, फिर एक केस में उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल होने के बाद सस्‍पेंड कर दिए जाना, फिर वझे का शिवसेना में शामिल होना, 16 साल के बाद फिर से पुलिस फोर्स में वापस आना और आते ही एक के बाद एक हाई-प्रोफाइल की जांच थमा दिए जाना... पहली नजर में सबकुछ काफी उलझा हुआ मालूम होता है।

वरिष्ठ पत्रकार दिनकर कुमार का विश्लेषण

गिरफ्तारी के बाद मुंबई पुलिस के अधिकारी सचिन वझे ने एनआईए की पूछताछ में कई 'खुलासे' किए हैं। न्‍यूज चैनल्‍स की रिपोर्ट्स के अनुसार, उन्‍होंने मुकेश अंबानी के घर (एंटीलिया) के बाहर विस्‍फोटक रखने के मामले में संलिप्‍तता स्‍वीकार कर ली है। यह भी दावा है कि उन्‍होंने एनआईए कुछ नेताओं के नाम भी बताए हैं जो इस पूरी साजिश में मुख्‍य रूप से शामिल थे। एक रिपोर्ट के अनुसार, सचिन ने कथित रूप से एनआईए से कहा, "मैं आइसबर्ग (हिमखंड) का केवल एक टुकड़ा भर हूं।"

वझे की गिरफ्तारी और अंबानी केस में एनआईए की जांच से शिवसेना खफा है। पार्टी के मुखपत्र 'सामना' में लिखा गया है कि क्‍या बीजेपी वझे को इसलिए निशाना बना रही है क्‍योंकि वे अर्णब गोस्‍वामी के खिलाफ आत्‍महत्‍या के लिए उकसाने के मामले और टीआरपी घोटाला मामले की जांच कर रहे थे।

सचिन वझे के बारे में बहुत सारी चीजें ब्‍लैक एंड वाइट में नहीं हैं। वझे का पुलिस फोर्स में रहते हुए 'एनकाउंटर स्‍पेशलिस्‍ट' बनना, फिर एक केस में उनके खिलाफ चार्जशीट दाखिल होने के बाद सस्‍पेंड कर दिए जाना, फिर वझे का शिवसेना में शामिल होना, 16 साल के बाद फिर से पुलिस फोर्स में वापस आना और आते ही एक के बाद एक हाई-प्रोफाइल की जांच थमा दिए जाना... पहली नजर में सबकुछ काफी उलझा हुआ मालूम होता है।

शनिवार (13 मार्च) को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) द्वारा सचिन हिंदुराव वझे को गिरफ्तार कर लिया गया,जो उद्योगपति मुकेश अंबानी के दक्षिण मुंबई स्थित घर एंटीलिया के बाहर 25 फरवरी को हुए बम विस्फोट की जाँच कर रही है। 25 मार्च तक एनआईए की हिरासत में वझे को रिमांड पर लिया गया है।

वझे मुंबई पुलिस के एक सहायक पुलिस निरीक्षक हैं। वह प्रदीप शर्मा और दया नाइक के साथ मुंबई के तथाकथित "मुठभेड़ विशेषज्ञों" के मूल समूह में से एक थे। वह 16 साल के अंतराल के बाद 2020 में बल में लौट आए। कुछ सालों तक वह निलंबित थे, जिसके बाद उन्होंने बल छोड़ दिया था।

एनआईए ने उन पर साजिश, आपराधिक धमकी, विस्फोटकों, जालसाजी से निपटने में लापरवाही बरतने और नकली मुहर लगाने से संबंधित धाराओं के तहत आरोप लगाया है।

वझे, जो अपराध खुफिया इकाई (सीआईयू) में थे, वस्तुतः एंटीलिया के बाहर सुरक्षा घेरे की जांच का नेतृत्व कर रहे थे। जबकि इस मामले में कोई सफलता नहीं मिली थी, पूर्व मुख्यमंत्री देवेंद्र फड़नवीस द्वारा लगाए गए चौंकाने वाले आरोपों ने वझे को संदिग्ध बना दिया।

फडणवीस ने आरोप लगाया कि वझे लगातार मनसुख हिरेन के साथ संपर्क में थे, जो ठाणे के एक कार सजावट व्यवसाय से जुड़े थे, जो उस वाहन के मालिक थे, जिसने मुंबई के कारमाइकल रोड में एंटीलिया के बाहर सुरक्षा का सवाल पैदा किया था। हिरेन ने एंटीलिया घटना से एक सप्ताह पहले इसकी चोरी होने की सूचना दी थी। फड़णवीस ने विधानसभा में वझे और हिरेन के बीच फोन कॉल के विवरणों को पढ़कर सुनाया।

बीजेपी नेता ने यह भी आरोप लगाया कि वझे पहले व्यक्ति थे जो उस स्थान पर पहुंचे जहां चोरी की गई स्कॉर्पियो गाड़ी अंबानी निवास के बाहर खड़ी थी। वझे ने इनकार किया था कि वह पहले मौके पर पहुंच गए थे।

बाद में मीडिया से बात करते हुए फडणवीस ने कहा, "यह एक संयोग हो सकता है, लेकिन इस मामले में वझे के संबंध में बहुत से संयोग एक बॉलीवुड फिल्म की तुलना में अधिक है।"

उसी दिन जब फड़नवीस ने ये आरोप लगाए थे, हिरेन का शव कालवा नाले में तैरता हुआ पाया गया था। उनकी पत्नी ने आरोप लगाया कि हिरेन की हत्या के पीछे वझे का हाथ था। उनकी पत्नी ने यह भी आरोप लगाया कि स्कार्पियो इस साल 5 फरवरी तक कई महीनों तक वझे के पास रही थी।

शिवसेना की अगुवाई वाली राज्य सरकार और मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने आरोपों का सामना करते हुए, वझे का बचाव करते हुए उन्हें पहले मामले से हटा दिया, फिर उन्हें सीआईयू से बाहर कर दिया।

उनकी भूमिका के बारे में एनआईए ने उनकी गिरफ्तारी से पहले, शनिवार को लगभग 12 घंटे तक पूछताछ की। इससे पहले महाराष्ट्र एटीएस ने भी उनसे पूछताछ की थी।

वझे उस काल में शिव सैनिक हुआ करते थे कि जब उन्होंने लंबे निलंबन के बाद बल छोड़ दिया। असामान्य रूप से, एक पुलिसकर्मी के लिए जो एक कस्टोडियल डेथ के लिए आरोपी था - जिसके खिलाफ मामला अभी भी चल रहा है - जून 2020 में उसको फिर बहाल किया गया था।

कर्मचारियों की कमी को पूरा करने के लिए कोविड -19 उपाय के रूप में उनकी बहाली की व्याख्या की गई थी। लेकिन वझे कोई स्टाफ फिलर नहीं थे। बल में वापस लेने के कुछ दिनों के भीतर वझे को मुंबई क्राइम ब्रांच में ले जाया गया और सीआईयू का प्रभारी बनाया गया। पदानुक्रम में अपनी अपेक्षाकृत जूनियर स्थिति के बावजूद वह जल्द ही मुंबई में टेलीविजन रेटिंग्स प्वाइंट (टीआरपी) घोटाले से लेकर अनेक महत्वपूर्ण मामले को संभाल रहे थे।

वझे चार पुलिसकर्मियों में से एक थे, जिन पर 27 वर्षीय इंजीनियर ख्वाजा यूनुस की हिरासत में हत्या और सबूत नष्ट करने का आरोप था। पुलिस ने यूनुस और तीन अन्य लोगों पर आरोप लगाया था कि वे 2 दिसंबर, 2002 को घाटकोपर में एक बम विस्फोट में शामिल थे। चार लोगों से पूछताछ की गई थी और यूनुस को आखिरी बार 6 जनवरी 2003 को अन्य तीन द्वारा हिरासत में देखा गया था।

पुलिस का कहना यह था कि यूनुस हिरासत से भाग गया जब वे उसे उसी साल 6-7 जनवरी को औरंगाबाद ले जा रहे थे। उच्च न्यायालय के आदेश पर राज्य सीआईडी ने उसके लापता होने की जांच की और इसे हिरासत में मौत का मामला माना। चार पुलिसकर्मियों का मुकदमा लंबित है क्योंकि न्यायाधीश को 2018 में स्थानांतरित कर दिया गया था।

1990 में पहली बार बल में शामिल हुए वझे ने अपने करियर की शुरुआत गढ़चिरौली में पोस्टिंग से की। बाद में वह ठाणे पुलिस में चले गए, जहां से वह मुंबई पुलिस अपराध शाखा में चले गए और "मुठभेड़ विशेषज्ञ" की प्रतिष्ठा हासिल कर ली।

उन्होंने 2007 में नौकरी छोड़ी और शिवसेना में शामिल हो गए। 2010 में, उन्होंने एक सामाजिक नेटवर्किंग साइट भी शुरू की, जिसे 'लाई भारी' कहा जाता है। वझे ने "लोगों की फ़ोन वार्तालापों को सुनने और उनके संदेशों तक पहुँचने" के लिए एक सॉफ़्टवेयर विकसित करने का भी दावा किया है।

उन्होंने दो किताबें लिखी हैं, एक शीना बोरा हत्या के मामले पर और दूसरी डेविड हेडली पर। बल से दूर, उनकी सेवाओं का उपयोग कुछ जांच एजेंसियों द्वारा किया गया। समाचार चैनलों द्वारा उन्हें "विशेषज्ञ" के रूप में भी दिखाया गया था।

Next Story

विविध

Share it