आजीविका

परीक्षा पर चर्चा करने वाले प्रधानमंत्री मोदी पेपरलीक पर चर्चा न करके युवाओं को दे रहे हैं धोखा

Janjwar Desk
6 Feb 2024 8:32 AM GMT
Yuva Halla Bol Anupam:
x

file photo

संसद में प्रस्तुत ‘लोक परीक्षा विधेयक’ का युवा हल्ला बोल के अनुपम ने किया स्वागत, कहा परीक्षाओं में सुधार के लिए कानून के अलावा राजनीतिक इच्छाशक्ति की भी जरूरत...

Delhi news : संसद में सोमवार 5 फरवरी को सरकार द्वारा प्रस्तुत किए गए ‘लोक परीक्षा विधेयक’ का युवा हल्ला बोल संस्थापक अनुपम ने स्वागत किया है। रोज़गार को राष्ट्रीय बहस का मुद्दा बनाने वाले युवा नेता अनुपम ने कहा कि ‘लंबे समय से हमारी मांग रही है कि परीक्षाओं में होने वाली अनियमिताओं और भ्रष्टाचार को दूर करने के लिए सरकार ठोस कदम उठाए। इस कानून के बन जाने के बाद सरकार के पास एक और कारगर हथियार होगा जिससे पेपर लीक की समस्या का निराकरण किया जा सके।’

लंबे समय से इस बिषय को गंभीरता से उठा रहे अनुपम ने कहा कि ‘सत्ताधारी नेताओं में जब तक राजनीतिक इच्छाशक्ति न हो तब तक सुधार नहीं हो सकता, चाहें कितना भी कानून बना लिए जाएं। परीक्षा पे चर्चा करने वाले प्रधानमंत्री पेपरलीक पर चर्चा न कर वो युवाओं को धोखा दे रहे हैं।’

बता दें की ‘युवा हल्ला बोल’ लंबे समय से केंद्र एवं राज्य स्तर पे सरकारी भर्तियों में हो रहीं गड़बड़ी और लेट लतीफी के खिलाफ़ आंदोलन का सहारा लेता रहा है। रेलवे भर्ती के पद बढ़ाने से लेकर अग्निपथ योजना को वापस लेने की मांग युवा हल्ला बोल अध्यक्ष अनुपम ने प्रमुखता से उठाई थी।

विधेयक का समर्थन करते हुए युवा हल्ला बोल के राष्ट्रीय महासचिव रजत यादव ने कहा कि ‘इस विधेयक के साथ-साथ सरकार को ख़ाली पड़े पदों को भरने और भर्ती परीक्षाओं के समय पर पूर्ण कराने के लिए भी कदम उठाने चाहिए। युवा हल्ला बोल द्वारा ‘मॉडल एग्जाम कोड’ बनाया गया है, जिसके लागू होने पर हर भर्ती समय से पूरी करी जा सकती है।’

Next Story

विविध