Top
हाशिये का समाज

UP : पिता की हत्या के बाद 3 बेटियों ने मांगा शस्त्र लायसेंस, कहा पुलिस से ज्यादा हथियारों पर भरोसा

Janjwar Desk
17 Oct 2020 5:21 PM GMT
UP : पिता की हत्या के बाद 3 बेटियों ने मांगा शस्त्र लायसेंस, कहा पुलिस से ज्यादा हथियारों पर भरोसा
x

हथियारों को पुलिस से ज्यादा भरोसेमंद बताने के साथ ही मौत के घाट उतार दिये गये बांदा के शख्स की बेटियों ने मांगा प्रशासन ने शस्त्र लाइसेंस (photo : Social Media)

पिता को मौत के घाट उतार दिये जाने के बाद अतर्रा क्षेत्र की तीन बेटियों ने मजिस्ट्रेट के सामने रखी शस्त्र लायसेंस दिये जाने की मांग और लायसेंस न मिलने पर दी आत्महत्या की धमकी, कहा योगीराज में पुलिस से ज्यादा भरोसेमंद हथियार...

जनज्वार। उत्तर प्रदेश की बेटियों को अब पुलिस से ज्यादा बंदूक पर भरोसा हो गया है। बांदा के इस मामले से तो यही साबित होता है। यहां के थाना अतर्रा क्षेत्र की तीन बेटियों ने प्रशासन से शस्त्र लाइसेंस आवंटित किए जाने की मांग की है। लायसेंस न मिलने पर उन्होंने आत्महत्या कर लेने की धमकी भी दी है।

दरअसल 2018 के सितंबर महीने की 23 तारीख को अतर्रा में रहने वाले एक व्यक्ति को गोली मार दी गई थी। जिसे गोली मारी गई थी वह एक स्कूल का प्रधानाचार्य था और इलाज के दौरान तीसरे दिन उसकी मौत हो गई थी। इस मामले में परिवार ने छह नामजद और दो अज्ञात के खिलाफ रिपोर्ट दर्ज कराई थी। परिवार ने बताया हत्या के तीनों आरोपी जमानत पर बाहर हैं।

यह तीनों लड़कियां इसी परिवार की सदस्य और मारे गए प्रधानाचार्य की बेटियां हैं। कल 16 अक्टूबर को सिटी मजिस्ट्रेट के सामने पेश हुई बेटियों के मुताबिक आरोपित जमानत पर हैं। उन्होंने कहा कि गोली मारकर हत्या करने जैसे संगीन आरोप के भी आरोपितों को इतनी जल्दी और आसानी से जमानत मिल जाती है। आरोप यह भी हैं कि जमानत पर बाहर आए आरोपी परिवार को रोज ब रोज जान से मारने की धमकी देते हैं। बताया जाता है कि आरोपियों में से एक खुलेआम तमंचा लेकर घूमता है।

परिवार ने आरोपियों से जान को खतरा बताया है। इन सभी ने आशंका जताई है कि, कभी भी परिवार के सदस्यों की हत्या हो सकती है। इसी के तहत आज परिवार की तीनों बेटियां सिटी मजिस्ट्रेट को जाकर प्रार्थना पत्र दिया है। प्रार्थना पत्र में लिखा है कि, यदि 10 दिन के भीतर उन्हें शस्त्र का लायसेंस नहीं दिया गया तो 30 अक्तूबर को तीनो बेटियां मुख्यमंत्री कार्यालय के सामने आत्महत्या कर लेंगी। और इसकी जिम्मेदारी प्रशासन की होगी।

तीनो लड़कियों का प्रार्थना पत्र शुक्रवार 16 अक्टूबर को सिटी मजिस्ट्रेट को सौंपा गया। परिवार के मुताबिक, सिटी मजिस्ट्रेट ने मांग पत्र पर विचार करने का आश्वासन दिया है। तीनों बेटियों ने यह भी बताया है कि पिता की हत्या के तीनों आरोपियों पर जिले के रसूखदार नेताओं का हाथ है। इससे उनका मन बढ़ गया है।

Next Story

विविध

Share it