हाशिये का समाज

मोदीराज : छात्रवृत्ति न मिलने से ऐश्वर्या जैसे अनगिनत छात्रों की ज़िंदगी हो रही तबाह, आत्महत्या को मजबूर

Janjwar Desk
15 Nov 2020 11:00 AM GMT
मोदीराज :  छात्रवृत्ति न मिलने से ऐश्वर्या जैसे अनगिनत छात्रों की ज़िंदगी हो रही तबाह, आत्महत्या को मजबूर
x

पढ़ाई के लिए संसाधनों की कमी और गरीब मां-बाप पर बढ़ते दबाव के बाद लेडी श्रीराम कॉलेज की मेधावी छात्रा ऐश्वर्या रेड्डी ने कर ली थी आत्महत्या

मोदी सरकार युवाओं को कारसेवक, कांवड़िए या अंधभक्त में तब्दील करने के लिए उच्च शिक्षा को तबाह करना जरूरी मानती है, क्योंकि शिक्षित युवा तर्क और विज्ञान के आधार पर सवाल पूछ सकते हैं और असहमति जाहिर करते हुए प्रतिरोध जता सकते हैं....

वरिष्ठ पत्रकार दिनकर कुमार की टिप्पणी

जनज्वार। मोदी सरकार की प्राथमिकताओं में शिक्षा की कोई जगह नहीं है। वह संघ की उस विचारधारा का पालन करने में विश्वास करती है जिसके तहत अनपढ़ अनुगामी सरकार के लिए अधिक उपयोगी सिद्ध हो सकते हैं। युवाओं को कार सेवक, कांवड़िए या अंध भक्त में तब्दील करने के लिए उच्च शिक्षा को तबाह करना ये सरकार जरूरी मानती है।

शिक्षित युवा तर्क और विज्ञान के आधार पर सवाल पूछ सकते हैं और असहमति जाहिर करते हुए प्रतिरोध जता सकते हैं और वैकल्पिक रास्ता तैयार कर सकते हैं। यही वजह है कि पिछले छह सालों में मोदी सरकार ने उच्च शिक्षा के तंत्र को तहस-नहस करने के लिए अनेक कदम उठाए हैं। इस तरह की तबाही आधारित नीति ने मेधावी और निर्धन वर्ग के छात्रों के सपनों को कुचलना शुरू कर दिया है।

देश के नामी शिक्षण संस्थानों में शुमार दिल्ली के लेडी श्रीराम कॉलेज की छात्रा और प्रसिद्ध इंस्पायर छात्रवृत्ति पाने वाली ऐश्वर्या की आत्महत्या ने देशभर के शिक्षाविदों और छात्रों को झकझोर कर रख दिया है। इसके साथ ही सवाल पैदा हुआ है कि इस तरह देशभर में कितने छात्रों की ज़िंदगी तबाह होने के कगार पर है। आत्महत्या से पहले लिखे गए सुसाइड नोट में ऐश्वर्या ने अपनी आर्थिक बेबसी को बयां किया है।

"कोई भी मेरी मौत के लिए जिम्मेदार नहीं है। मेरी वजह से घर पर बहुत सारे खर्च हो रहे हैं, मैं उन पर बोझ हूँ। मेरी शिक्षा एक बोझ है। मैं पढ़ाई किए बिना नहीं रह सकती। मैं कई दिनों से सोच रही थी और मुझे ऐसा लग रहा था कि मौत ही मेरे लिए सही विकल्प है। लोग मेरी मौत के कुछ कारणों को स्थापित करने की कोशिश करेंगे, लेकिन मैंने कोई पाप नहीं किया है। कृपया प्रयास करें और सुनिश्चित करें कि इंस्पायर छात्रवृत्ति कम से कम एक वर्ष में दे दी जाए। सब लोग मुझे क्षमा करें। मैं एक अच्छी बेटी नहीं हूँ।" ऐश्वर्या ने ये अपने सुसाइड नोट में लिखा जो दिखाता है कि देश में प्रतिभा अवसर और साधन के अभाव में दम तोड़ रही है।

ऐश्वर्या केंद्र सरकार की इंस्पायर स्कॉलरशिप की पुरस्कार विजेता थीं। उसने विज्ञान का अध्ययन करने के लिए 10,000 लड़कियों और महिलाओं के लिए एसएचई (उच्च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति) हासिल की थी, लेकिन उसकी छात्रवृत्ति का पैसा कभी जारी नहीं किया गया। जिसका मतलब था कि उसे केवल छात्रवृत्ति पुरस्कार प्राप्त करने की सूचना मिली थी, राशि कभी नहीं मिली।

तेलंगाना में एक गरीब परिवार में पैदा होने वाली ऐश्वर्या अपने शैक्षिक खर्चों को पूरा करने में असमर्थ थी, जिसमें लैपटॉप की आवश्यकता भी शामिल थी। उसकी समस्याओं में इजाफा करते हुए कोरोना आपदा के दौरान एलएसआर छात्रावास प्राधिकरण ने उसे छात्रावास खाली करने के लिए नोटिस भेजा था। इसका मतलब था कि उसे किराए के आवास में रहने का इंतजाम करना था और जिसमें एक बड़ी राशि खर्च हो सकती थी।

ऐश्वर्या की तरह देशभर के शैक्षिक संस्थानों के लाखों छात्र हैं, जो सरकार या यूजीसी की तरफ से छात्रवृत्ति की राशि के लिए इंतजार कर रहे हैं। कोविड-19 के बहाने मोदी सरकार ने न केवल छात्रवृत्ति और फैलोशिप के वितरण को प्रभावित किया है, बल्कि ऐसे छात्रों के भविष्य को खतरे में डाल दिया है जो उच्च शिक्षा के लिए छात्रवृत्ति पर निर्भर हैं।

नितीश गोगोई असम के तेजपुर विश्वविद्यालय में आईसीएमआर प्रोजेक्ट फेलो हैं। पिछले चार महीनों से उन्हें कोई फेलोशिप राशि नहीं मिली है। लेकिन इस दौरान उनका प्रोजेक्ट का काम नहीं रुका है। कुछ महीनों के लॉकडाउन और किसी तरह घर से काम करने के बाद उन्हें वापस विश्वविद्यालय जाना पड़ा, लेकिन सरकार के आदेशों के अनुसार वह अपने छात्रावास के कमरे में नहीं रह सकते थे।

नितीश गोगोई कहते हैं, "मैं तेजपुर टाउन में एक किराए के कमरे में रहता हूं। तो अब एक तीन-स्तरीय लागत है : किराया, परिवहन और भोजन। पिछले चार महीनों से हाथ में फेलोशिप नहीं होने के कारण यह न केवल समस्या बन गई है, बल्कि इसने अपरिहार्य तनाव को भी जन्म दिया है।"

चाहे वह आईसीएमआर फेलोशिप हो या कोई अन्य स्कॉलरशिप कोरोना का बहाना छात्रों पर भारी पड़ रहा है। तेजपुर विश्वविद्यालय में देबाश्री ओझा को दूसरी बार अपने छात्रवृत्ति विवरण को नवीनीकृत करने के लिए कहा गया है, जबकि पहली बार जो राशि मिलनी थी वह अभी तक नहीं मिली। ओबीसी छात्रों के लिए पोस्ट मैट्रिक छात्रवृत्ति की प्राप्तकर्ता ओझा को अभी भी पता नहीं है कि उन्हें कब राशि मिलेगी। राष्ट्रीय छात्रवृत्ति पोर्टल छात्रवृत्ति के विवरण को ट्रैक करने की अनुमति देता है। लेकिन उसके लिए यह पिछले कुछ महीनों से 'प्रगति पर' दिखाई दे रहा है।

सुष्मिता फुकन असम के मरियानी कॉलेज की छात्रा हैं। उनको छात्रवृत्ति के रूप में 22,100 रुपये मिलने वाले थे, लेकिन वर्तमान में 'प्रसंस्करण के तहत' के रूप में दिखाई जाने वाली राशि केवल 2,480 रुपये है।

डोली मिजोरम विश्वविद्यालय की छात्र है। चाय बागान कल्याण निदेशालय द्वारा टीजीएल छात्रवृत्ति उनको घोषित की गई थी। उन्होंने बताया, "मेरा नाम पहली सूची में नहीं था, लेकिन दूसरी सूची में दिखाई दिया। लेकिन फिर किसी कारण से दोनों सूचियों को खारिज कर दिया गया और एक अंतिम सूची बनाई गई। मैं भाग्यशाली थी कि सूची में मेरा नाम था। लेकिन एक हफ़्ते पहले जब छात्रवृत्ति जारी की गई तो मेरे खाते में कोई पैसा जमा नहीं हुआ। हम अधिकारियों को लिख रहे हैं, लेकिन लगभग कोई जवाब नहीं मिला। मुझे नहीं पता कि आगे क्या होगा।"

पूर्वोत्तर के छात्र यूजीसी की ईशान उदय छात्रवृत्ति के लिए पात्र हैं, लेकिन सभी छात्रों ने न केवल देरी की शिकायत की, बल्कि इसकी सम्पूर्ण प्रक्रिया के बारे में कई गंभीर सवाल किए। ईशान और उदय शब्द का आम तौर पर अर्थ है 'धन का स्वामी' और 'वृद्धि'। लेकिन बी.ए. की एक छात्रा रश्मि के लिए यह धन की तुलना में चिंता में वृद्धि का कारण बन चुका है।

2017-20 अंडर-ग्रेजुएट बैच की छात्रा रश्मि को 2020 में 2017 की आधी राशि और रुपये की छात्रवृत्ति मिली। 1.08 लाख का वितरण किया जाना बाकी है। "महामारी के दौरान मैं अपने मास्टर्स के लिए कई प्रवेश परीक्षाओं के लिए आवेदन करने जा रही हूं। यदि वे इन कठिन समय में राशि जारी नहीं करते हैं, तो हमसे ऐसी छात्रवृत्ति का वादा क्यों किया जाता है?" रश्मि ने पूछा।

मुद्दा सिर्फ उच्च शिक्षा तक ही सीमित नहीं है। भारत सरकार ने असम के अल्पसंख्यक छात्रों के लिए प्री-मैट्रिक छात्रवृत्ति की घोषणा की थी। लेकिन सीआईडी द्वारा की गई जाँच के अनुसार छात्रवृत्ति निधि का भारी दुरुपयोग हुआ। सीआईडी ने इस मामले में 21 लोगों को आरोपी बनाया है, जिनमें चार हेडमास्टर, 10 मिडिल-पर्सन हैं। एक आरोपी के घर में तीन लैपटॉप, 217 छात्रों की तस्वीरें, 104 छात्रों के निवास प्रमाण पत्र, 173 आवेदन पत्र और 11 बैंक पासबुक बरामद किए गए।

छात्रों की वर्तमान स्थिति ने विश्वविद्यालय के शिक्षकों को भी नाराज और निराश कर दिया है। जोरहाट के जगन्नाथ बरुवा कॉलेज में सहायक प्रोफेसर पंचानन हजारिका ने कहा, "छात्रवृत्ति छात्रों का अधिकार है, न कि केवल सरकार द्वारा घोषित विलासिता। यदि छात्रों को नियमित रूप से छात्रवृत्ति नहीं मिलती है, तो आर्थिक रूप से पिछड़े छात्रों के लिए शिक्षण- प्रक्रिया आसान नहीं रहती है। कई छात्र किताबें और नोट्स खरीदने, अध्ययन सामग्री के साथ-साथ छात्रावासों के लिए किराए के लिए अपनी छात्रवृत्ति राशि पर निर्भर हैं। इसी तरह बिना रिसर्च फेलोशिप के वर्तमान संदर्भ में शोधकर्ताओं के लिए अपने शोध को पूरा करना असंभव हो गया है।"

"उसके बाद भी, कई राज्य विश्वविद्यालयों में, शोधकर्ताओं को जेआरएफ को छोड़कर कोई शोध फेलोशिप नहीं मिलती है, जिसके कारण अधिकांश शोधकर्ताओं को अन्य अंशकालिक नौकरियां करनी पड़ती हैं। देश के सभी विश्वविद्यालयों को इस संबंध में स्पष्ट नीतियों का निर्माण और निर्धारण करना चाहिए, "उन्होंने कहा।

कोई आश्चर्य नहीं कि छात्र एक विरोधाभास में फंस गए हैं। एक ओर वे ऑनलाइन कक्षाओं के लिए जा रहे हैं और दूसरी ओर वे डिजिटल डिवाइड, खराब कनेक्टिविटी, खराब आर्थिक स्थिति और व्हाट्सएप के मुद्दों से जूझ रहे हैं। छात्रवृत्ति एक लक्जरी नहीं है, बल्कि एक मूल अधिकार है। रोहित वेमुला, पायल तडवी और अब ऐश्वर्या; उनके सुसाइड नोट केवल व्यक्तिगत नहीं हैं, बल्कि समाज और देश की सामूहिक विफलता को दर्शाते हैं और जोर-शोर से यह सवाल उठाते हैं कि क्या वे सिर्फ आत्महत्या थीं या संस्थागत हत्याएं थीं।

Next Story

विविध

Share it