हाशिये का समाज

Kushinagar accident : बार-बार फोन करने पर भी 3 किलोमीटर दूर से नहीं पहुंची एंबुलेंस, लीपापोती में जुटा पूरा अमला

Janjwar Desk
17 Feb 2022 2:57 AM GMT
Kushinagar accident :  बार-बार फोन करने पर भी 3 किलोमीटर दूर से नहीं पहुंची एंबुलेंस, लीपापोती में जुटा पूरा अमला
x

एक कुएं ने खुशी के मौके को मातम बदला, मचा कोहराम।

Kushinagar accident : घटना के बाद लोग डेढ़ घंटे तक एंबुलेंस के लिए फोन मिलाते रहे, हर बार जवाब मिलता कि बस पहुंच रही है, लेकिन मौके पर कोई एंबुलेंस नहीं पहुंची।

Kushinagar accident : उत्तर प्रदेश ( Uttar Pradesh ) के कुशीनगर ( Kushinagar accident ) में बीती रात एक दर्दनाक हादसे से खुशी का मौका मातम में तब्दील हो गया। दिल दहला देने वाले इस हादसे में 13 लोगों की मौत हुई है। इनमें 9 बच्चियां शामिल भी हैं। ताजा जानकारी के मुताबिक गांव में शादी समारोह से पहले हल्दी रस्म के दौरान स्लैब से ढके कुंए पर बैठकर पूजा कर रही थीं। तभी ज्यादा भार के कारण स्लैब टूटने से सभी मृतक व घायल कुएं में गिर गए।

मृतक के परिजनों का आरोप है कि हादसा होने के बाद वे लोग करीब डेढ़ घंटे तक सरकारी एंबुलेंस सेवा को मदद के लिए फोन करते रहे लेकिन कोई भी मदद के लिए नहीं पहुंचा। हादसे में मारी गई बच्चियों की उम्र 5 से 15 साल के बीच है। रेस्क्यू जारी है और अंदेशा जताया जा रहा है कि मौत का आंकड़ा बढ़ सकता है।

पीड़ित परिजनों ने एक निजी न्यूज चैनल को बताया कि चीख-पुकार सुनकर आस-पास के लोगों ने सभी को कुएं से बाहर निकाला। अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने 13 लोगों को मृत घोषित कर दिया। सभी की मौत कुएं में डूबने से हुई। घटनास्थल पर मौजूद लोग बता रहे हैं कि इस हादसे के बाद अफरा-तफरी का माहौल था। लोग मदद के लिए इधर से उधर भाग रहे थे। घटना के बाद चारों तरफ कोहराम मच गया। ये हालात तब देखने को मिले जब इलाके में सिर्फ तीन किलोमीटर दूर ही एक अस्पताल है।

थाना पुलिस ने सभी को अस्पताल पहुंचाया

हालांकि, हादसे के कुछ देर बाद कॉल करने के तुरंत बाद सहायता के लिए थाना पुलिस पहुंच गई थी। उन्हीं की तरफ से रेस्क्यू ऑपरेशन शुरू किया गया। ग्रामीणों के मुताबिक पुलिस की मौजूदगी में 23 महिला, युवती और बच्चियों को कुएं से बाहर निकाला गया है।

फिर पुलिस गाड़ी में ही कई घायलों को अस्पताल ले जाया गया। हादसे की सूचना के बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने लोगों की मृत्यु पर गहरा शोक व्यक्त किया है। उन्होंने संबंधित अधिकारियों को तत्काल बचाव व राहत कार्य संचालित कराने तथा घायल लोगों का समुचित उपचार कराने के निर्देश दिए हैं।

हादसे मारे गए लोगों की हुई पहचान

1. पूजा यादव (20) पुत्री बलवंत 2. शशिकला (15) पुत्री मदन 3. आरती (13) पुत्री मदन 4. पूजा चौरसिया (17) पुत्री राम बड़ाई 5. ज्योति चौरसिया (10) राम बड़ाई 6. मीरा (22) पुत्री सुग्रीव 7. ममता (35) पत्नी रमेश 8. शकुंतला (34) पत्नी भोला 9.परी (20) पुत्री राजेश 10. राधिका (20) पुत्री महेश कुशवाहा 11. सुंदरी (9) पुत्री प्रमोद कुशवाहा और दो अन्य मृतक भी शामिल हैं। दो महिलाओं की अभी शिनाख्त नहीं हो पाई है।

4 लाख रुपए सहायता राशि की घोषणा

कुशीनगर के डीएम ने हादसे में मरने वाले प्रत्येक के परिजन को चार-चार लाख रुपए सहायता राशि दिए जाने की घोषणा की है। जानकारी के मुतबिक जिस कुएं के पास कार्यक्रम चल रहा था, उसे आरसीसी स्लैब बनाकर बंद किया गया था। रस्म के दौरान बड़ी संख्या में महिला, युवती व बच्चियां कुएं पर बने स्लैब पर जाकर खड़े हो गए थे। अचानक स्लैब टूट गया और उसपर खड़ी महिला, युवतियां व बच्चियां कुएं में गिर गईं। कुआं काफी गहरा है और पानी से भरा था। बता दें कि जिस कुएं के पास कार्यक्रम चल रहा था उसे आरसीसी स्लैब बनाकर बंद किया गया था।

Next Story

विविध