हाशिये का समाज

Uttarakhand Crime News : डीडीहाट में पत्थर से कुचलकर दलित युवक की हत्या का आरोप, बीबी ने लगाया ये आरोप

Janjwar Desk
21 Feb 2022 10:11 AM GMT
x
Uttarakhand Crime News : मृतक की पत्नी ममता देवी ने कहा है कि मेरे पति कांग्रेसी थे और उन्हें बीजेपी वालों ने मार दिया है, मेरे पति को राजेंद्र सिंह ने पार्टी के बहाने अपने घर बुलाकर मार डाला...

Uttarakhand Crime News : उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव के बीच डीडीहाट विधानसभा में तल्ली भैसोढ़ी गांव में 13 फरवरी को एक दलित युवक रामी राम की पत्थर से कुचल कर हत्या कर दी गई। इस मामले के बारे में जानने के लिए जनज्वार की टीम डीडीहाट पहुंची| ग्रामीणों और रिश्तेदारों से बातचीत कर पूरे मामले की जानकारी ली है।

यह घटना 13 फरवरी को घटी

इस मामले में तल्ली भैसोढ़ी गांव में चुनाव से एक दिन पहले 13 फरवरी को एक दलित युवक की हत्या कर की गई| इस मामले में मृतक के चचेरे भाई ने बताया कि 13 फरवरी को रामी राम को राजेंद्र सिंह देउपा ने फोन कर बुलाया था। राजेंद्र सिंह ने रामी राम को रात के करीब 10:30 बजे फोन कर कहा कि यहां पार्टी चल रही है इसलिए खाने पीने आ जाओ। भाई ने आगे बताया कि रामी राम राजेंद्र सिंह देउपा के बुलाने पर उसके घर चला गया। वहां एक गोकुल सिंह देउपा का नाम का व्यक्ति मौजूद था।

गोकुल सिंह देउपा पर लगे हत्या के आरोप

मृतक के रिश्तेदारों का कहना है कि राजेंद्र सिंह देउपा के घर हो रही पार्टी में उनका जानने वाला एक व्यक्ति प्रकाश राम मौजूद था। प्रकाश राम का कहना है कि रामी राम गोकुल सिंह के साथ चला गया। जिसके 10 मिनट बाद ही रामी राम की हालत गंभीर हो गई थी। जिसके बाद सुचना मिलने पर रामी राम का चेहरा भाई वहां पंहुचा और उसे बताया गया की रामी राम को गिरने से चोट लग गई है लेकिन भाई का कहना ही कि वो चोट गिरने की नहीं थी| आगे उन्होंने बताया कि रामी राम को देखकर ऐसा लग रहा था कि उसे किसी ने पत्थर से कुचला है। रामी राम का पूरा सिर फटा हुआ था और खून बह रहा था। जिसके बाद उसे हॉस्पिटल पहुंचाया गया तो डॉक्टरों ने भी कहा कि यह गिरने के चोट नहीं है बल्कि पत्थर से कुचलकर मारने की चोट है।

मामले की जांच जारी

गांव के निवासियों ने बताया कि डीडीहाट हेडक्वार्टर पर दो बड़े-बड़े पत्थर लाए गए हैं और उन पत्थरों पर खून के निशान भी मौजूद है। इस मामले में पुलिस में मुकदमा दर्ज हो चुका है। फिलहाल इस मामले की कार्यवाही जारी है।

रंजिश के चलते हत्या की आशंका

मृतक के चचेरे भाई ने बताया कि 25 साल पहले लड़ाई हुई थी। साथ ही मृतक के भतीजे ने बताया कि 'हम अनुसूचित जाति के हैं और ठाकुर वर्ग हमें देखना नहीं चाहते हैं। जिस कारण ऐसी घटनाएं होती रहती हैं।'

पत्नी ने बीजेपी पर हत्या के लगाए आरोप

मृतक की पत्नी ममता देवी ने कहा है कि 'मेरे पति कांग्रेसी थे और उन्हें बीजेपी वालों ने मार दिया है। यह घटना चुनाव से 1 दिन पहले हुई है। मेरे पति को राजेंद्र सिंह ने पार्टी के बहाने अपने घर बुलाकर मार डाला। मेरे पति को मारने के बाद वह लोग डीडीहाट लेकर आए और हमें सूचित किया गया। हम हॉस्पिटल गए तो मुझे मिलने नहीं दिया गया और ना ही अंदर जाने दिया गया।' बता दें कि मृतक की पत्नी ममता देवी का कहना है कि इस मामले में चार आरोपी, राजेंद्र सिंह देउपा, वीरेंद्र सिंह, पवन सिंह और प्रवीण सिंह पर कार्यवाई की मांग की जा रही है।

प्रशासन पर धांधली का आरोप

इस मामले पर भीम आर्मी द्वारा प्रशासन पर आरोप लगाए गए हैं कि वह कोई कार्यवाई नहीं कर रही है। यह घटना 13 फरवरी को घटित हुई थी जिसके बाद पुलिस में मुकदमा दर्ज करवाया गया था लेकिन पुलिस ने धारा 307 यानी हत्या की कोशिश का मुकदमा दर्ज किया है जबकि हत्या हो चुकी है। इसके साथ ही आरोप लगाए जा रहे हैं कि हत्या का मुकदमा दर्ज होने के साथ-साथ एसटी एससी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज होना चाहिए था क्योंकि रामी राम एक दलित था और उसकी हत्या सर्वणों द्वारा हुई है लेकिन इस मामले में पुलिस का कहना है कि हम अभी मुकदमा दर्ज नहीं करेंगे, विवेचना करने के बाद पूरे मुकदमा दर्ज किया जाएगा। भीम आर्मी ने प्रशासन को चेतावनी दी है कि जल्द से जल्द इस मामले में कोई कार्यवाई की जाए और सही मुकदमा दर्ज कर आरोपियों को सजा दी जाए। यदि इस मामले में कोई कार्यवाई नहीं होती है तो भीम सेना उग्र आंदोलन के लिए बाध्य होगी|

Next Story

विविध