Top
आंदोलन

लालकिला हिंसा फैलाने के आरोपी दीप सिद्धू ने कोर्ट में कहा, 'रिपब्लिक-डे पर हिंसा नहीं भड़काई, पुलिस की मदद की

Janjwar Desk
26 Feb 2021 10:29 AM GMT
लालकिला हिंसा फैलाने के आरोपी दीप सिद्धू ने कोर्ट में कहा, रिपब्लिक-डे पर हिंसा नहीं भड़काई, पुलिस की मदद की
x
दीप सिद्धू ने कहा कि लाल किले के सीसीटीवी फुटेज से पता चलता है कि उसने हिंसा में भाग नहीं लिया और पुलिस को भीड़ को शांत करने में मदद की, जांच एजेंसी के पास यह फुटेज पहले से ही है...

नई दिल्ली। पंजाबी फिल्मों के अभिनेता-कार्यकर्ता दीप सिद्धू ने अदालत से गणतंत्र दिवस हिंसा मामले में निष्पक्ष जांच की मांग करते हुए जोर देकर कहा है कि उसने हिंसा नहीं भड़काई, बल्कि भीड़ को शांत करने में पुलिस की मदद की।

दीप सिद्धू को गणतंत्र दिवस पर लाल किले की हिंसा के सिलसिले में गिरफ्तार किया गया था और वह 26 जनवरी को, तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ ट्रैक्टर रैली के दौरान प्रदर्शनकारी किसान पुलिस से भिड़ गए थे। झड़प के दौरान प्रदर्शनकारियों के एक वर्ग ने लाल किले में प्रवेश किया और एक धार्मिक झंडा फहराया। पुलिस ने 9 फरवरी को सिद्धू को गिरफ्तार किया और कहा कि उसने हिंसा भड़काई और वह मुख्य साजिशकर्ता था।

सिद्धू की ओर से एक आवेदन उनके वकील अभिषेक गुप्ता ने दिया और एजेंसियों की निष्पक्ष जांच पर संदेह जताया। उन्होंने अदालत को बताया कि वह हिंसा के दिन 12 बजे तक मुरथल के एक होटल में था और दोपहर 2 बजे लाल किले पहुंचा।

उन्होंने कहा कि आरोपियों के वहां पहुंचने से पहले ही भारी भीड़ घटनास्थल पर जमा हो गई थी। सिद्धू ने आवेदन में कहा, "मैंने पुलिस से कार के नेविगेशन सिस्टम और फोन स्थान का डेटा प्राप्त करके इन दावों की जांच कर लेने का आग्रह किया, लेकिन एजेंसी ने जांच नहीं की।"

आरोपी ने आगे कहा कि लाल किले के सीसीटीवी फुटेज से पता चलता है कि उसने हिंसा में भाग नहीं लिया और पुलिस को भीड़ को शांत करने में मदद की। जांच एजेंसी के पास यह फुटेज पहले से ही है।

"आरोपी आशंकित है कि सीसीटीवी फुटेज और वीडियो पर भी विचार नहीं किया जाएगा।"

उनके वकील ने मुख्य मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट गजेंद्र सिंह नागर से कहा कि उनके पास एफआईआर दर्ज करने और जांच से असंतुष्ट होने पर उचित जांच का आदेश देने की शक्ति है।

सिद्धू ने कहा, "मीडिया ट्रायल हो चुका है और मेरे इर्द-गिर्द बुनी गई कहानी यह है कि मैं मुख्य व्यक्ति हूं। हर बार जांच एजेंसी आती है और कस्टडी में लेने की कोशिश करती है।"

Next Story

विविध

Share it