Top
आंदोलन

किसान आंदोलन : हिरासत में लिए गए योगेंद्र यादव, ठंड में अन्नदाताओं पर पानी की बौछारें, आंसू गैस भी दागे

Janjwar Desk
26 Nov 2020 8:04 AM GMT
किसान आंदोलन : हिरासत में लिए गए योगेंद्र यादव, ठंड में अन्नदाताओं पर पानी की बौछारें, आंसू गैस भी दागे
x
योगेंद्र यादव को हरियाणा में बिलासपुर के निकट हिरासत में लिया गया और उसके बाद उन्हें व उनके साथियों को एक स्कूल में ले जाया गया...

जनज्वार, नई दिल्ली। विभिन्न किसान संगठनों के आज दिल्ली के जंतर-मंतर पर प्रस्तावित प्रदर्शन का रोकने के लिए पुलिस ने दिल्ली की सभी सीमाएं सील कर दीं और कई जगहों पर प्रदर्शकारी किसानों पर पानी की बौछारें की और आंसू गैस के गोले दागे। वहीं, इस आंदोलन की अगुवाई कर रहे स्वराज इंडिया के प्रमुख योगेंद्र यादव सहित उनके करीब दर्जन भर साथियों को दिल्ली-राजस्थान बार्डर पर हिरासत में ले लिया।


पुलिस के साथ इस दौरान हुई नोंक-झोंक में योगेंद्र यादव ने कहा कि हम शांतिपूर्ण प्रदर्शन कर रहे हैं। योगेंद्र यादव ने पुलिस से यह भी पूछा कि आप हमारा अपराध बता दीजिए। उन्होंने ट्वीट कर बताया कि उन्हें व जय किसान आंदोलन के साथियों को बिलासपुर के निकट राठीवास मोड़, दिल्ली-जयपुर हाइवे के पास रोका गया और फिर हम सभी साथियों को यहां गांव कोलवास के स्कूल में लाया गया जहां पर उन्हें बंद किया जा रहा है।

हरियाणा के करनाल के कर्ण झील क्षेत्र के निकट बड़ी संख्या में किसान मोदी सरकार के तीन नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग करने के लिए दिल्ली जाने के लिए जुटे। हालांकि पुलिस ने उनके आगे बढने के रास्ते में जगह-जगह अवरोध पैदा किया। वहीं, हरियाणा एवं पंजाब बार्डर पर किसानों पर अश्रु गैस के गोले दागे गए।


अंबाला में पुलिस द्वारा प्रदर्शनकारियों पर कार्रवाई का दृश्य।

प्रदर्शनकारी किसानों पर अंबाला के सदोपुर बार्डर पर पुलिस ने वाटर कैनंस व अश्रु गैस का प्रयोग किया। पुलिस ने रास्ते को बेडिकेड कर आगे बढने से रोक दिया गया था, जिसे प्रदर्शनकारी तोड़ कर आगे बढने की कोशिश कर रहे थे तब पुलिस ने उन पर कार्रवाई की।

उधर, केंद्र सरकार ने कहा है कि किसानों को आंदोलन के नाम पर गुमराह किया जा रहा है। केंद्रीय मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कहा कि कुछ लोग किसानों को गुमराह कर रहे हैं, उनके पास अब मुद्दे नहीं हैं, इसलिए वे अपने राजनीतिक हितों के लिए किसानों के कंधे पर बंदूक रख कर अपनी राजनीतिक रोटियां सेंक रहे हैं।



Next Story

विविध

Share it