Top
आंदोलन

दिल्ली के 'शाहीन बाग' की तर्ज पर अब महाराष्ट्र में 'किसान बाग' आंदोलन, कलेक्ट्रेट के बाहर 50 किसानों ने दिया धरना

Janjwar Desk
9 Dec 2020 2:52 PM GMT
दिल्ली के शाहीन बाग की तर्ज पर अब महाराष्ट्र में किसान बाग आंदोलन, कलेक्ट्रेट के बाहर 50 किसानों ने दिया धरना
x
स्वाभिमानी शेतकारी संगठन के अध्यक्ष राजू शेट्टी ने कहा कि 8 दिसंबर का 'भारत बंद' अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति की एक संयुक्त पहल थी, जिसमें हम सभी सहयोगी थे, गुरुवार से किसान भाइयों को न्याय दिलाने के लिए हम 'किसान बाग' आंदोलन में शामिल होंगे.....

पुणे (महाराष्ट्र)। नए कृषि कानूनों के विरोध में दिल्ली की सीमाओं पर किसानों का प्रदर्शन बुधवार को 14वें दिन भी जारी है। इस बीच महाराष्ट्र के पुणे में एक जगह ऐसी है, जहां किसानों की मांगों के समर्थन में दिल्ली के 'शाहीन बाग' की तर्ज पर 'किसान बाग' आंदोलन शुरू किया गया है।

दरअसल, हाल में नागरिकता संशोधन अधिनियम (सीएए) के खिलाफ दिल्ली के शाहीन बाग में कई महीनों तक लगातार प्रदर्शन किया गया था, जिसमें बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल रही थीं। इस प्रदर्शन की चर्चा पूरे देश में हो रही थी और शाहीन बाग का नाम सबकी जुबान पर आ गया था।

अब इसी तर्ज पर समूचे भारत में किसानों और श्रमिकों को न्याय दिलाने के लिए पुणे में 'किसान बाग' आंदोलन शुरू किया गया है। बताया जा रहा है कि यह प्रसिद्ध शाहीन बाग-शैली से प्रेरणा लेते हुए शुरू किया गया है, जिसमें किसान और श्रमिकों के हितों को सुरक्षित करने की मांग को लेकर प्रदर्शन किया जा रहा है।

यह वयोवृद्ध एवं अनुभवी सामाजिक कार्यकर्ता बाबासाहेब पांडुरंग अधव (90) के दिमाग की उपज है, जिन्हें बाबा अधव के नाम से जाना जाता है। उनके साथ कई अन्य लोग इस आंदोलन का हिस्सा बने हैं, जो कि मंगलवार को भारत बंद के अवसर पर शुरू किया गया। बुधवार को किसान बाग आंदोलन के दूसरे दिन पुणे कलेक्ट्रेट के बाहर 50 किसानों को धरने पर बैठे देखा गया।

जन आंदोलन संघर्ष समिति के संयोजक विश्वास उटगी ने बताया कि गुरुवार से अंतर्राष्ट्रीय मानवाधिकार दिवस के मौके पर रायगढ़ के कोंकण भवन में आंदोलन होगा और बाद में महाराष्ट्र के सभी क्षेत्रों में 'किसान बाग' आंदोलन शुरू होगा।

बाबा अधव को भी लगता है कि यह विचार तेजी पकड़ेगा और इसी तरह के 'किसान बाग' आंदोलन पूरे भारत में देखे जा सकते हैं। उन्होंने इसके पीछे का कारण गिनवाते हुए कहा, "क्योंकि सभी किसान नाराज हैं।"

बाबा अधव ने कहा, "मैंने स्वतंत्रता आंदोलन, संयुक्त महाराष्ट्र आंदोलन, आपातकाल और कई अन्य आंदोलनों में भाग लिया है, लेकिन यह पहली बार है, जब मैंने ग्रामीण किसानों और श्रमिकों के पूर्ण समर्थन में शहरी आबादी देखी है।"

उन्होंने कोरोनावायरस के फैलाव से लागू किए गए राष्ट्रव्यापी बंद (लॉकडाउन) के समय पर किसानों की ओर से खेत में पसीने बहाए जाने पर उनकी प्रशंसा की। उन्होंने कहा कि बंद के दौरान स्वास्थ्य जोखिमों के साथ किसानों ने श्रमिकों की मदद से उपज तैयार की, जो देश के प्रत्येक घर में पहुंची।

बाबा अधव ने केंद्र सरकार की ओर से किसानों की अनदेखी किए जाने का भी आरोप लगाया। बाबा अधव ने मांग करते हुए कहा कि केंद्र सरकार को किसानों को कोरोना वॉरियर्स के तौर पर मान्यता देते हुए विभिन्न योजनाओं का समान लाभ देना चाहिए।

स्वाभिमानी शेतकारी संगठन के अध्यक्ष राजू शेट्टी ने कहा, "आठ दिसंबर का 'भारत बंद' अखिल भारतीय किसान संघर्ष समन्वय समिति की एक संयुक्त पहल थी, जिसमें हम सभी सहयोगी थे। गुरुवार से किसान भाइयों को न्याय दिलाने के लिए हम 'किसान बाग' आंदोलन में शामिल होंगे।"

Next Story

विविध

Share it