आंदोलन

कोशी पीड़ितों की सत्याग्रह पदयात्रा में शामिल होंगे मेधा पाटकर, किसान नेता सुनीलम, पर्यावरणविद प्रफुल्ल सामंत्रा समेत दर्जनों दिग्गज

Janjwar Desk
10 Feb 2024 1:02 PM GMT
कोशी पीड़ितों की सत्याग्रह पदयात्रा में शामिल होंगे मेधा पाटकर, किसान नेता सुनीलम, पर्यावरणविद प्रफुल्ल सामंत्रा समेत दर्जनों दिग्गज
x
कुशेश्वर पश्चिम प्रखंड के झझरा हाईस्कूल पर मानस बिहारी वर्मा की स्मृति में कोशी के साथ करेह के बागमती और कमला के तटबंधों के बीच के जलजमाव पर चर्चा हुई। वहां से यात्रा समस्तीपुर के राजघाट पुल से आगे बढ़ी हसनपुर प्रखंड के पटसा, मर्रा में मीटिंग हुई....

पटना। कोशी नव निर्माण मंच द्वारा निकाली गई कोशी पीड़ितों की सत्याग्रह पदयात्रा 12 दिन पूरा कर आज वैशाली जिले के बिदुपुर पहुंची और 11 फरवरी को गायघाट पहुंचेगी। यात्रियों के समर्थन में सुप्रसिद्ध सामाजिक कार्यकर्ता मेधा पाटकर, किसान नेता डाॅ. सुनीलम, पर्यावरण के लिए गोल्ड मैन पुरस्कार से सम्मानित प्रफुल्ल सामंत्रा इसमें शामिल होंगे। यह यात्रा 11 को गायघाट में ठहरने के बाद 12 को दोपहर गर्दनी बाग पहुंचेगी, जहां सत्याग्रह शुरू होगा।

कोशी के कटाव से विस्थापित तटबंध और बांध पर बसे लोगों, कोशी तटबंध के भीतर के लोगों का सर्वे कराकर पुनर्वास से वंचित लोगों को पुनर्वास देने, कोशी पीड़ित विकास प्राधिकार को पुनः सक्रिय और प्रभावी बनाने, लगान माफी के बावजूद उसकी वसूली पर रोक लगाते हुए उसे ब्याज समेत वापस कराने, सर्वे में व्याप्त भ्रष्टाचार पर रोक लगाते हुए नदी के बीच की रैयत की जमीन का रकबा मालिक के नाम दर्ज कराने लगान मुक्ति कानून, कोशी समस्या के विज्ञान सम्मत लोग भागीदारी से समाधान तलाने की मांग को लेकर निकाली गई है।

महात्मा गांधी के बलिदान दिवस पर 30 जनवरी को इस यात्रा को शहीद भगत सिंह के भांजे प्रो जगमोहन सिंह ने रवाना किया था।

सुपौल से आगे बढ़ते ही सहरसा जिले के नौहट्टा, डुमरा चौक के पास कटाव पीड़ितों के साथ संवाद आयोजित हुआ। एकार में बैठक हुई और बलुआहा में सभा हुई, भेलाह़ी में बैठक हुई, स्व परमेश्वर कुअर की 102 वीं जयंती पर उनके गांव तरही में उनको श्रद्धांजलि देने के बाद सभा आयोजित हुई। घोंघेपुर में बाढ़ पीड़ितों के साथ मीटिंग हुई। वहां से यात्रा दरभंगा जिले कुशेश्वर पूर्वी प्रखंड के इटहर पहुंची, जहां कमला, बलान और कोशी के सवालों पर साझा संवाद हुआ।

कुशेश्वर पश्चिम प्रखंड के झझरा हाईस्कूल पर मानस बिहारी वर्मा की स्मृति में कोशी के साथ करेह के बागमती और कमला के तटबंधों के बीच के जलजमाव पर चर्चा हुई। वहां से यात्रा समस्तीपुर के राजघाट पुल से आगे बढ़ी हसनपुर प्रखंड के पटसा, मर्रा में मीटिंग हुई। रोसड़ा के सानवी विवाह भवन में आयोजित कार्यक्रम में अवकाश प्राप्त चीफ इंजीनियर फुलेंद्र कुमार की अध्यक्षता में सभा हुई।

बिभुतीपुर प्रखंड के तरुणीया के पूर्व जिला परिषद सदस्य अनामिका देवी ने स्वागत किया। दलसिंह सराय, विद्यापति नगर के काचा में बैठके हुईं, मोहिउद्दीन नगर अंचल कार्यालय में सभा हुई, जिसमें जेएनयू के अवकाश प्राप्त प्रो एसएन मालाकार ने मुद्दों का समर्थन करते हुए खगड़िया में कोशी बाढ़ की पीड़ा, मोहनपुर प्रखंड के बीनगामा में गंगा के कटाव पीड़ितों से संवाद हुआ। वैशाली जिले में आने पर हसनपुर, महनार और बिद्दुपुर में बैठक हुई।

यात्रा में सैकड़ों की संख्या में मौजूद लोगों ने बुलंद नारा लगाते, गीत गाते, अपनी मांगों का पर्चा बांटते, नुक्कड़ मीटिंग और मीटिंग करते हुए चल रहे हैं। यात्रा में भारी संख्या में महिलायें भी मौजूद हैं। ये लोग 14वें दिन 250 किलोमीटर चलकर 12 फरवरी को पटना पहुंचकर सरकार को अपनी फरियाद सुनाएंगे।

Next Story

विविध