राष्ट्रीय

Superstars Spat Over Hindi : हिंदी पर दो सिने अभिनेता आपस में भिड़े, अजय देवगन ने किच्चा सुदीप से कहा-अगर हिंदी राष्ट्रीय भाषा नहीं, तो इसमें अपनी फिल्म डब क्यों करते हो?

Janjwar Desk
27 April 2022 3:00 PM GMT
Actors Spat Over Hindi : हिंदी पर दो सिने अभिनेता आपस में भिड़े, अजय देवगन ने किच्चा सुदीप से कहा-अगर हिंदी राष्ट्रीय भाषा नहीं, तो इसमें अपनी फिल्म डब क्यों करते हो?
x

Actors Spat Over Hindi : हिंदी पर दो सिने अभिनेता आपस में भिड़े, अजय देवगन ने किच्चा सुदीप से कहा-अगर हिंदी राष्ट्रीय भाषा नहीं, तो इसमें अपनी फिल्म डब क्यों करते हो?

Superstars Spat Over Hindi : आपको बता दें कि एक्टर अजय देवगन ने कन्नड़ स्टार किच्चा सुदीप के उस बयान का जवाब दिया है जिसमें उन्होंने कहा था कि हिंदी अब राष्ट्र भाषा नहीं है। किच्चा सुदीप के ऐसा बयान देने पर अजय ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर किया था...

Actors Spat Over Hindi : हिंदी (Hindi) को लेकर दो सुपरस्टार सोशल मीडिया (Social Media) पर प्रतिक्रिया देते हुए दिखे हैं। आपको बता दें कि इन दिनों देश में हिन्दी राष्ट्रीय भाषा है या नहीं इस बात पर भी चर्चा चल रही है। हिन्दी को राष्ट्रीय भाषा मानने पर दक्षिण के राज्यों के कई लोग सहमत नहीं दिखते हैं। ताजा विवाद ​बॉलीवुड अभिनेता (Bollywood Actors) अजय देवगन (Ajay Devgan) और कन्नड़ ​अभिनेता किच्चा सुदीप (Kichha Sudeep) के बीच का है। आपको बता दें कि एक्टर अजय देवगन ने कन्नड़ स्टार (Kannad Star) किच्चा सुदीप (Kiccha Sudeep) के उस बयान का जवाब दिया था जिसमें उन्होंने कहा था कि हिंदी अब राष्ट्र भाषा नहीं है। किच्चा सुदीप के ऐसा बयान देने पर अजय ने सोशल मीडिया पर एक पोस्ट शेयर किया था। इस पोस्ट में उन्होंने किच्चा सुदीप से सवाल किया था कि अगर हिंदी राष्ट्रीय भाषा नहीं है तो दक्षिण भारतीय फिल्मों के निर्माता अपनी फिल्मों को हिंदी में डब करके क्यों रिलीज करते हैं?

अजय देवगन ने पोस्ट में लिखा, "किच्चा सुदीप मेरे भाई, आपके अनुसार अगर हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा नहीं है तो आप अपनी मातृभाषा की फिल्मों को हिंदी में डब करके क्यूं रिलीज करते हैं? हिंदी हमारी मातृभाषा और राष्ट्रीय भाषा थी, है और हमेशा रहेगी। जन गण मन।"

किच्चा सुदीप ने अजय की पोस्ट का कुछ इस अंदाज में दिया था जवाब

अजय देवगन के जवाब पर किच्चा सुदीप ने कमेंट कर सफाई देते हुए लिखा, "सर, जिस कॉन्टेक्स्ट में मैंने वह बात कही, मुझे लगता है कि मेरी उस बात को बहुत अलग तरीके से पेश किया गया है। शायद मैं अपनी बात को बेहतर ढंग से आपके सामने तभी रख सकता हूं, जब मैं आपसे मिलूंगा। मेरा कहने का मतलब यह नहीं था कि मैं किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाऊं, उत्तेजित करूं या फिर किसी विवाद को बढ़ावा दूं। मैं ऐसा क्यों करूंगा सर।"

इसके बाद किच्चा सुदीप ने लिखा, "मैं अपने देश की हर भाषा की इज्जत करता हूं। मैं इस टॉपिक को आगे नहीं बढ़ाना चाहता। मैं चाहता हूं कि यह यहीं खत्म हो जाए। जैसा कि मैंने कहा कि मेरे कहने का मतलब वह नहीं था, जो समझा जा रहा है। आपको ढेर सारा प्यार। उम्मीद करता हूं कि आपसे मैं जल्द ही मिलूंगा।"

इसके बाद एक पोस्ट में किच्चा सुदीप ने लिखा, "और अजय सर, आपने जो टेक्स्ट हिंदी में भेजा है, वह मुझे समझ में आ गया। केवल इसलिए कि हम सभी ने हिंदी का सम्मान किया है, प्यार किया और सीखा है। नो ओफेंस सर, लेकिन सोच रहा था कि अगर मेरी प्रतिक्रिया कन्नड़ में टाइप की गई तो क्या स्थिति होगी। क्या हम भी भारत के नहीं हैं सर।"

सुदीप के इस पोस्ट के जवाब में अजय ने लिखा, "हाय सुदीप, तुम एक दोस्त हो। गलतफहमी दूर करने के लिए धन्यवाद। मैंने हमेशा फिल्म इंडस्ट्री को एक के रूप में ही देखा है। हम सभी भाषाओं का सम्मान करते हैं और हम उम्मीद करते हैं कि हर कोई हमारी भाषा का भी सम्मान करेगा। शायद, ट्रांसलेशन में कुछ मिसिंग था।"

इसके जवाब में किच्चा ने लिखा, "ट्रांसलेशन और इंटरप्रिटेशंस सिर्फ पर्सपेक्टिव हैं सर। पूरे मामले को जाने बिना रिएक्ट नहीं करना चाहिए और यही मायने रखता है। अजय सर मैं आपको दोष नहीं देना चाहता, लेकिन मुझे खुशी होती, अगर मुझे आपसे कुछ क्रिएटिव चीजों पर ट्वीट मिलते। आपको ढेर सारा प्यार।"

आपको बता दें कि सिने संगठन FWICE ने भी किच्चा सुदीप के बयान पर नाराजगी जाहिर की थी। FWICE के प्रेसिडेंट बीएन तिवारी (BN Tiwari) ने कहा, किच्चा सुदीप का बयान गैरजिम्मेदाराना है। हम इसकी निंदा करते हैं। उन्हें माफी मांगनी चाहिए। अगर वो फिर भी अड़े रहते हैं तो आगे से हम उनके और साउथ की बाकी फिल्मों के नॉर्थ में रिलीज और वॉर्म वेलकम पर दोबारा से विचार करेंगे।

वहीं, डायरेक्टर राज शांडिल्य ने भी किच्चा सुदीप के बयान की आलोचना की है। राज ने विरोध जाहिर करते हुए कहा, 'किच्चा सुदीप से पूछा जाना चाहिए कि अगर बॉलीवुड साउथ में स्ट्रग्ल कर रहा है, तो वो लोग हिंदी में अपनी फिल्में डब कर क्यों चला रहें हैं? वो वैसे ही क्यों नहीं चल रही हैं?

हिंदी अब राष्ट्र भाषा नहीं रही है : किच्चा सुदीप

आपको बता दें कि किच्चा सुदीप ने इससे पहले हिंदी भाषा को लेकर एक विवादित बयान दिया था। उन्होंने एक इवेंट में कहा था कि हिंदी अब राष्ट्र भाषा नहीं रही है। बॉलीवुड पैन इंडिया फिल्में बनाने में स्ट्रगल कर रहा है, जबकि साउथ इंडस्ट्री इस मामले में सफल रही है। दरअसल, उन्होंने यह बयान KGF-2 की सक्सेस पर दिया था। 14 अप्रैल को रिलीज हुई यह फिल्म साउथ समेत हिंदी बॉक्स ऑफिस पर कमाई के सारे रिकॉर्ड्स तोड़ रही है। फिल्म के हिंदी वर्जन ने ही 13 दिन में अब तक 330 करोड़ रुपए से ज्यादा की कमाई कर ली है।

हिन्दी के दर्शक भी पसंद करते हैं दक्षिण भारतीय फिल्में

आपको बता दें कि तमिल, तेलुगु और कन्नड़ की फिल्में साउथ के अलावा हिंदी बेल्ट में भी खूब पसंद की जाती हैं। हिंदी में डब की हुई​ फिल्मों को भी अच्छी खासे दर्शक मिल जाते हैं। इसके साथ ही ये फिल्में कमाई के मामले में भी बॉलीवुड से आगे रहती हैं। KGF के पहले 'RRR', 'पुष्पा' और 'बाहुबली' जैसी फिल्में हिंदीभाषी राज्यों में भी अच्छा बिजनेस कर चुकी है।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रु-ब-रु कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं। हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है। सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आएं और अपना सहयोग दें।)

Next Story

विविध