Top
राष्ट्रीय

डायरेक्टर अनुराग कश्यप पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली अभिनेत्री पायल घोष राजनीति के मैदान में कूदीं

Janjwar Desk
27 Oct 2020 3:25 AM GMT
डायरेक्टर अनुराग कश्यप पर दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली अभिनेत्री पायल घोष राजनीति के मैदान में कूदीं
x

File photo

पायल घोष भारतीय रिपब्लिकन पार्टी (अठावले) में शामिल हो गईं हैं, पायल पार्टी प्रमुख एवं केंद्रीय मंत्री राम दास आठवले की उपस्थिति में पार्टी में शामिल हुईं....

जनज्वार। फ़िल्म निर्माता अनुराग कश्यप के खिलाफ दुष्कर्म का आरोप लगाने वाली अभिनेत्री पायल घोष आखिरकार राजनीति के मैदान में कूद पड़ीं। सोमवार को पायल घोष भारतीय रिपब्लिकन पार्टी (अठावले) में शामिल हो गयी। पायल पार्टी प्रमुख एवं केंद्रीय मंत्री राम दास आठवले की उपस्थिति में पार्टी में शामिल हुयी।

पायल घोष के पार्टी में शामिल होने के अवसर पर आठवले ने कहा, 'पार्टी में शामिल होने के लिये मैं उनका धन्यवाद करता हूं और उनका स्वागत करता हूं।'

फ़िल्म निर्देशक अनुराग कश्यप ने पायल के आरोपों से इनकार किया है। जब पायल घोष ने उनपर आरोप लगाया था तो बॉलीवुड में भी दो गुट बन गए थे और एक गुट अनुराग और दूसरा गुट पायल के समर्थन में उतर गया था।

जानकारी के मुताबिक, पायल को रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया की महिला विंग का उपाध्यक्ष बनाया गया है। बता दें कि बीते कई दिनों से ऐसी चर्चा थी कि पायल आठवले की पार्टी में शामिल हो सकती हैं। सोमवार को इन चर्चाओं पर तब विराम लग गया, जब पायल ने एक कार्यक्रम में आरपीआई का झंडा थाम लिया।

उल्लेखनीय है कि पायल घोष 'मीटू' मुहिम के दौरान चर्चा में आई थीं। उन्होंने हाल ही में फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप पर 'मी टू' का आरोप लगाया था। इस बाबत उन्होंने मुंबई के ओशिवारा पुलिस स्टेशन में मामला भी दर्ज करवाया था। हालांकि उनके इस आरोप का अनुराग कश्यप की तरफ से खंडन किया गया था।

उस वक्त केंद्रीय सामाजिक न्याय मंत्री और आरपीआई के मुखिया रामदास आठवले ने पायल घोष का इस मामले में समर्थन किया था और उन्होंने पायल घोष से मुलाकात भी की थी।

पीटीआई के साथ बातचीत में रामदास अठावले ने कहा, 'मैंने पायल को कहा था कि आरपीआई बाबा साहेब अंबेडकर की पार्टी है। ये समाज के हर वर्ग की मदद करती है फिर चाहे दलित हों,आदिवासी हों, ओबीसी हों, गांव वाले या झुग्गी बस्तियों में रहने वाले हों। अगर आप पार्टी जॉइन करती हैं तो आरपीआई पार्टी को एक मजबूत चेहरा मिलेगा।' इस संवाद के बाद पायल ने पार्टी को जॉइन करने का फैसला किया था।

Next Story

विविध

Share it