राष्ट्रीय

Rakesh Jhunjhunwala Akasa Airline: मुलाकात के एक हफ्ते भी नहीं हुए, मोदी सरकार ने राकेश झुनझुनवाला को दिया आकासा एयरलाइन चलाने का उपहार

Janjwar Desk
12 Oct 2021 9:14 AM GMT
Rakesh Jhunjhunwala Akasa Airline: मुलाकात के एक हफ्ते भी नहीं हुए, मोदी सरकार ने राकेश झुनझुनवाला को दिया आकासा एयरलाइन चलाने का उपहार
x

(हाल ही में मोदी और राकेश झुनझुनवाला से हुई थी मुलाकात)

Akasa Airline : राकेश झुनझुनवाला Share Market के बादशाह कहे जाते हैं। वह ऐसे समय नई एयरलाइन की शुरूआत कर रहे हैं, जब ज्यादातर विमानन कंपनियां घाटे में चल रहीं हैं।

Akasa Airline। छह अक्तूबर को ही झुनझुनवाला ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) से मुलाकात की थी। मोदी ने सोशल मीडिया (Social Media) पर इस मुलाकात की फोटो भी साझा की थी। इस अंतरंग मुलाक़ात का नतीजा सामने आ गया है। बड़े निवेशकों में शुमार राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) अगले साल तक देश में नई विमानन कंपनी शुरू करने जा रहे हैं। आकासा एयरलाइन (Akasa Airline) नाम से इस कंपनी को नागरिक उड्डयन मंत्रालय से 11 अक्टूबर को मंजूरी भी मिल गई। न्यूज एजेंसी एएनआई ने इसकी जानकारी दी है।

आकासा एयरलाइन ने अपनी वेबसाइट पर लिखा है, 'भारतीय एयरस्पेस की कठिन प्रतियोगिता के बीच आकासा एयरलाइन ने प्रवेश किया है। हम नए इनोवेशन के साथ आ रहे हैं। यात्रियों को सस्ता टिकट मिलेगा और आरामदायक सफर होगी।'

राकेश झुनझुनवाला शेयर बाजार (Share Market) के बादशाह कहे जाते हैं। वह ऐसे समय नई एयरलाइन की शुरूआत कर रहे हैं, जब ज्यादातर विमानन कंपनियां घाटे में चल रहीं हैं। बताया जाता है कि इसके लिए उन्होंने कई निजी विमानन कंपनियों के बड़े अफसरों के साथ बैठक की है। इसके अलावा वह कई बड़े विशेषज्ञों से राय भी ले रहे हैं। आकासा एयरलाइन ने यात्रियों को नए अंदाज में सफर कराने का दावा किया है। कंपनी का कहना है कि उनके विमान छोटे से छोटे एयरपोर्ट पर भी आसानी से उतर सकेंगे। ब्लूमबर्ग को पिछले दिनों दिए साक्षात्कार में झुनझुनवाला ने कहा था कि वह आकासा में 40% हिस्सेदारी रखेंगे। इस कंपनी के पास अगले चार वर्षो में 180 सीट क्षमता वाले 70 विमान होंगे। जानकारी के मुताबिक राकेश झुनझुनवाला की कुल संपत्ति 590 करोड़ डॉलर है।

झुनझुनवाला से इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में पीएम मोदी से मुलाकात को लेकर भी सवाल किया गया था। उनसे पूछा गया था, 'उन्होंने (पीएम ने) आपको क्यों आमंत्रित किया…ये नहीं पूछेंगे हम। उन्होंने आपसे क्या कहा और आपने उनसे क्या कहा?' इसके जवाब में उन्होंने कहा था, 'सुहागरात में मेरी बीवी से क्या बात की थी..ये कोई बताने वाली बात है।'

अब सोशल मीडिया यूजर्स पीएम मोदी और झुनझुनवाला की मुलाकात और उनकी एयरलाइन्स कंपनी की मंजूरी को जोड़कर तंज कस रहे हैं। ट्विटर यूजर शाहिद लिखते हैं, 'अब इसका ये मतलब है कि दूल्हे को मुंह दिखाई मिल गई है।' एक यूजर लिखते हैं, 'अब इन्हें समझ आएगा कि एयरलाइन्स चलाना कोई इनसाइडर ट्रेडिंग करने जैसा नहीं होता है।' एएसएम डेनियल ने ट्विटर पर लिखा, 'क्या ये वही झुनझुनवाला हैं जिनके सामने हमारे प्रधानमंत्री खड़े हुए थे और ये बैठे हुए थे। सरकार को ये समझना चाहिए और उनकी एयरलाइन्स की अर्जी तुरंत खारिज कर देनी चाहिए।'

एक अन्य यूजर लिखते हैं, 'एयर इंडिया का किराया अन्य एयरलाइन्स की तुलना में काफी कम है। लेकिन उसकी कनेक्टिविटी बहुत सीमित है। ऐसे में राकेश झुनझुनवाला (Rakesh Jhunjhunwala) की एयरलाइन्स को सीधा फायदा हो सकता है।' यूजर विजय ने कमेंट किया, 'अगर कोई लखपति से करोड़पति बनना चाहता है तो वो एयरलाइन्स की शुरुआत करता है। झुनझुनवाला इसका उदाहरण बनने जा रहे हैं।'

यूजर शुभाजीत ने इस पर लिखा, 'अच्छा। ये बात राकेश जी छिपा रहे थे। आखिरकार राज खुल ही गया कि उस मुलाकात में क्या बात हुई थी।' इरफान अहमद नाम के यूजर लिखते हैं, 'इसका नाम तो इनसाइडर एयरलाइन्स होना चाहिए।' यूजर धर्मेंद्र श्रीवास्तव लिखते हैं, 'जिसके सामने प्रधानमंत्री जी खड़े रहते हों उसका काम न हो ऐसा कैसे हो जाएगा।'

एक अन्य यूजर लिखते हैं, 'शुक्रिया मोदी जी। आपने देश के लोगों की चीजों को प्राइवेट कंपनियों के हाथों में देकर विकास कर दिया।' एक यूजर ने टिप्पणी की, 'तो इसीलिए पीएम मोदी मुलाकात के दौरान हाथ बांधे खड़े थे'।

'बिग बुल' के नाम से मशहूर राकेश झुनझुनवाला शेयर मार्केट का बड़ा नाम हैं। लेकिन उनके इस सफर की शुरुआत बिल्कुल साधारण तरीके से हुई थी। उनके पिता इनकम टैक्स अधिकारी थे और वह राकेश को सीए बनाना चाहते थे। उन्होंने इसके लिए बहुत कोशिश भी की थी। राकेश झुनझुनवाला ने पिता की मर्जी के अनुसार सीए में एडमिशन भी ले लिया था। हालांकि सीए खत्म करने के बाद उन्होंने शेयर मार्केट में निवेश करने का ही फैसला किया था।

Next Story

विविध

Share it