राष्ट्रीय

असम-मिजोरम विवाद गहराया, सीएम हेमंत बिस्वा पर मिजोरम में दर्ज हुआ केस तो केंद्रीय बल की भी होगी तैनाती

Janjwar Desk
31 July 2021 6:00 AM GMT
असम-मिजोरम विवाद गहराया, सीएम हेमंत बिस्वा पर मिजोरम में दर्ज हुआ केस तो केंद्रीय बल की भी होगी तैनाती
x

(असम-मिजोरम के बीच विवाद गहराता जा रहा है)

दोनों राज्यों के बीच सीमा विवाद को लेकर आरोप- प्रत्यारोप का दौर भी लगातार जारी है, दोनों राज्यों ने एक- दूसरे राज्य के पुलिस अधिकारियों को समन जारी किया है..

जनज्वार। पूर्वोत्तर के दो राज्यों के बीच पिछले कुछ दिनों से जारी विवाद असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्वा सरमा पर मिजोरम में केस दर्ज किए जाने के बाद और गहरा गया है। इस विवाद को लेकर कई दफा झड़पें हो चुकी हैं और दोनों राज्यों के मुख्यमंत्री सोशल मीडिया पर भिड़े हुए हैं। दोनों राज्यों द्वारा एक-दूसरे के पुलिस अधिकारियों के खिलाफ सम्मन भी जारी किए जा चुके हैं। इस विवाद के बीच केंद्र ने दोनों राज्यों की सीमा पर केंद्रीय सुरक्षा बल की तैनाती का फैसला किया है।

मिजोरम सरकार ने असम के मुख्यमंत्री हेमंत बिस्व सरमा सहित असम के कुछ पुलिस अधिकारियों के खिलाफ एफआईआर दर्ज की है। यह केस कोलासिब में दर्ज किया गया है। उधर दोनों राज्यों के बीच सीमा विवाद को लेकर आरोप- प्रत्यारोप का दौर भी लगातार जारी है। दोनों राज्यों ने एक- दूसरे राज्य के पुलिस अधिकारियों को समन जारी किया है।

असम के सीएम पर क्या दर्ज हुआ है केस

इन लोगों के खिलाफ हत्या का प्रयास, आपराधिक साजिश रचने समेत अन्य कई धाराओं के तहत मुकदमा दर्ज किया गया है। इसके अलावा असम पुलिस के 200 अज्ञात कर्मियों के खिलाफ भी मामले दर्ज किये गए हैं।

मिजोरम के पुलिस महानिरीक्षक (मुख्यालय) जॉन एन ने न्यूज़ एजेंसी को बताया, "इन सभी के खिलाफ हत्या का प्रयास और आपराधिक साजिश समेत अन्य धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।" उल्लेखनीय है कि सीमांत नगर के पास मिजोरम और असम पुलिस बल के बीच हुई हिंसक झड़प के बाद सोमवार देर रात को राज्य पुलिस की तरफ से वैरेंगते थाने में भी एफआईआर दर्ज की गई थी। असम पुलिस के 200 अज्ञात कर्मियों के खिलाफ भी मामले दर्ज किए गए हैं।

दोनों राज्यों की सीमा पर तैनात होंगे केंद्रीय बल

इस बीच केंद्रीय गृह मंत्रालय की एक बैठक में फैसला लिया गया कि असम-मिजोरम की अंशात सीमा पर तटस्थ केंद्रीय बलों को तैनात किया जाएगा। केंद्र दोनों राज्यों के उच्चाधिकारियों के साथ बैठक भी कर चुका है लेकिन मामला अभी सुलझ नहीं सका है। केंद्र सरकार द्वारा दोनों सूबों के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशकों को दिल्ली बुलाकर एक बैठक करवाई गई। केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह 24 जुलाई को दो दिनों के पूर्वोत्तर दौरे के लिए पहुंचे। 25 जुलाई को शिलांग में एक बैठक हुई, जिसमें गृह मंत्री के साथ पूर्वोत्तर के सभी राज्यों के मुख्यमंत्री भी शामिल हुए।

क्या है विवाद की जड़

बता दें कि असम के बराक घाटी के जिले कछार, करीमगंज और हैलाकांडी की मिजोरम के तीन जिलों आइजोल, कोलासिब और मामित के साथ 164 किलोमीटर लंबी सीमा लगती है।

मिजोरम की सीमा असम के कछार और हाइलाकांडी जिलों से लगती है. यहां जमीन को लेकर दोनों सूबों के बीच आए दिन तनातनी होती रहती है। पहाड़ी इलाकों में कृषि के लिए जमीन बहुत कम है, इसीलिए जमीन के छोटे से टुकड़े की अहमियत बहुत बड़ी होती है। कुछ मीडिया रिपोर्ट्स में बताया जा रहा है कि हालिया विवाद तब गंभीर हुआ जब असम की पुलिस ने अपना इलाका खाली कराने के लिए कुछ लोगों को खदेड़ा। असम पुलिस ने कहा कि ये लोग अतिक्रमणकारी थे।

Next Story

विविध

Share it