राष्ट्रीय

असम : नक्सली हमले के शहीदों पर सवाल उठाने को लेकर लेखिका देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार

Janjwar Desk
8 April 2021 2:30 AM GMT
असम : नक्सली हमले के शहीदों पर सवाल उठाने को लेकर लेखिका देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार
x
रेखा को दो वकीलों - उम्मी डेका बरुआ और कंगना गोस्वामी द्वारा एक प्राथमिकी दर्ज कराए जाने के बाद गिरफ्तार किया गया....

गुवाहाटी। सोशल मीडिया पर शहीदों के खिलाफ विवादित टिप्पणी करने के आरोप में असम पुलिस ने गुवाहाटी स्थित लेखिका रेखा सरमा को गिरफ्तार किया है। पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी।

गुवाहाटी के पुलिस आयुक्त मुन्ना प्रसाद गुप्ता ने कहा कि 48 वर्षीया असमिया लेखिका को मंगलवार को छत्तीसगढ़ में नक्सली हमले में 22 सुरक्षाकर्मियों के मारे जाने के बाद इस घटना से संबंधित कथित फेसबुक पोस्ट के लिए राजद्रोह सहित विभिन्न आरोपों में गिरफ्तार किया गया था। गुप्ता ने फोन पर बताया, "न्यायिक हिरासत की मांग करते हुए रेखा सरमा को जल्द ही अदालत में पेश किया जाएगा।"

रेखा को दो वकीलों - उम्मी डेका बरुआ और कंगना गोस्वामी द्वारा एक प्राथमिकी दर्ज कराए जाने के बाद गिरफ्तार किया गया। एक अन्य पुलिस अधिकारी ने कहा कि रेखा को दिसपुर पुलिस ने तलब किया था और कुछ समय तक पूछताछ के बाद उन्हें देशद्रोह, सूचना प्रौद्योगिकी अधिनियम के उल्लंघन और भारतीय दंड संहिता की अन्य धाराओं के तहत गिरफ्तार किया गया था।

पुलिस के अनुसार, सरमा ने कथित रूप से फेसबुक पर लिखा था : "ड्यूटी के दौरान मरने वाले वेतनभोगी सुरक्षाकर्मियों को शहीद नहीं कहा जा सकता। इस तर्क के अनुसार, बिजली विभाग के कर्मी जो बिजली से मरते हैं, उन्हें भी शहीद करार दिया जाना चाहिए। लोगों को भावुक न करे मीडिया।"

सोमवार को अपने फेसबुक पेज पर एक अन्य पोस्ट में, रेखा सरमा ने कहा, "क्या मेरे पोस्ट को गलत बताकर मुझे परेशान करना अपराध नहीं है? क्या वे मेरे खिलाफ झूठी बदनामी के लिए कानून के तहत आएंगे?"

मीडिया से बात करते हुए, असम प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रिपुन बोरा ने कहा कि कानून अपना रास्ता अपनाएगा, क्योंकि पुलिस ने रेखा सरमा को गिरफ्तार कर लिया है, लेकिन कुछ लोगों ने उन्हें सामूहिक दुष्कर्म की धमकी दी है और पुलिस को उनके खिलाफ भी कार्रवाई करनी चाहिए।

केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के कुलीन वर्ग (कमांडो बटालियन फॉर रिजोल्यूट एक्शन) की 210 बटालियन के निरीक्षक दिलीप कुमार दास, कांस्टेबल बबलू राभा और संभू रॉय - असम और त्रिपुरा के तीन बहादुर जवानों में से 22 सुरक्षाकर्मी छत्तीसगढ़ में रविवार के नक्सली हमले में शहीद हो गए।

Next Story

विविध

Share it