राष्ट्रीय

Ayodhya Sucide Case : अयोध्या में युवती के सुसाइड पर रिटायर्ड IAS का तंज- 'घाटों पर लेजर शो और बेटी को पुलिस प्रताड़ना'

Janjwar Desk
30 Oct 2021 6:17 PM GMT
Ayodhya Sucide Case : अयोध्या में युवती के सुसाइड पर रिटायर्ड IAS का तंज- घाटों पर लेजर शो और बेटी को पुलिस प्रताड़ना
x

(अयोध्या में प्रताड़ना से तंग आकर महिला बैंक ऑफिसर ने आत्महत्या कर ली) File pic.

Ayodhya Sucide Case : अयोध्या में एक महिला बैंक अधिकारी के आत्महत्या मामले को लेकर रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह ने प्रदेश की योगी सरकार पर बड़ा हमला बोला है।

Ayodhya Sucide Case : अयोध्या में एक महिला बैंक अधिकारी (Woman Bank offucer) के आत्महत्या मामले को लेकर रिटायर्ड आईएएस सूर्य प्रताप सिंह (Retired IAS Surya Pratap Singh) ने प्रदेश की योगी सरकार पर बड़ा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि एक तरफ घाटों पर लेजर शो करा कर दीवाली मनाई जा रही है वहीं, दूसरी तरफ बीजेपी की पुलिस ने एक बेटी को इस कदर प्रताड़ित किया कि उसे अपनी जान देनी पड़ी। उन्होंने ट्वीट के साथ एक नोट भी पोस्ट किया है, जिसे कथित तौर पर मृतका का सुसाइड नोट बताया जा रहा है।

सूर्य प्रताप सिंह ने ट्वीट कर लिखा, "अयोध्या में सपा सरकार के दौरान अखिलेश यादव द्वारा बनाए गए घाट पर बड़ी इवेंट कंपनियों से लेजर शो करवा कर दिवाली मनाई जा रही है। और अयोध्या की बेटी को भाजपा की पुलिस ने इस कदर प्रताड़ित किया कि उसने अपनी जान दे दी। प्रभु श्रीराम की अयोध्या पर आज कलंक लगा दिया भाजपा सरकार ने।"


बता दें कि अयोध्या में एक युवा महिला बैंक अधिकारी द्वारा फांसी लगाकर आत्महत्या करने का सनसनीखेज मामला सामने आया है। मौका-ए-वारदात से पुलिस को युवती का एक सुसाइड नोट भी मिला है। कथित सुसाइड नोट सोशल मीडिया पर भी वायरल हो रहा है। वायरल सुसाइड नोट में युवती ने लखनऊ में तैनात एक आईपीएस अधिकारी, फैजाबाद के एक पुलिस अधिकारी समेत अपने पूर्व मंगेतर का नाम लिखा है।

यह सनसनीखेज वारदात अयोध्या के खवासपुरा मोहल्ले में हुई है। महिला बैंक अधिकारी की पहचान लखनऊ के राजाजीपुरम निवासी 30 वर्षीय श्रद्धा गुप्ता के रूप में हुई है। वह अयोध्या स्थित पंजाब नेशनल बैंक के क्षेत्रीय कार्यालय में स्केल वन ऑफिसर थी।

पुलिस ने मौके से बरामद श्रद्धा के सुसाइड नोट को जांच के लिए कब्जे में ले लिया है। सुसाइड नोट में अयोध्या में तैनात रहे एसएसपी आशीष तिवारी सहित तीन लोगों को आत्महत्या का जिम्मेदार बताया गया है। तीसरा युवक विवेक किस प्रकार श्रद्धा का उत्पीडऩ कर रहा था, यह बात मृतका के सुसाइड नोट से स्पष्ट नहीं था।

माता-पिता के नाम लिखे गए महज तीन लाइन के इस सुसाइड नोट में युवती नें इन तीनों को अपनी मौत का जिम्मेदार बताया है। साथ ही अपने माता-पिता से अपने इस कदम के लिए माफी मांगी है।

वहीं, रिपोर्ट्स के मुताबिक अयोध्या में युवती के आत्महत्या मामले में उसके पिता राजकुमार गुप्ता ने थाने में तहरीर दी है। जिसमें कहा गया है कि अप्रैल 20 में युवती की विवेक गुप्ता के साथ शादी तय हुई थी लेकिन कोरोना के कारण शादी नहीं हो सकी।

फोन पर दोनों की बातचीत होती थी। विवेक की आदतें ठीक न होने के कारण उनकी बेटी ने विवेक का साथ छोड़ दिया था। इसके बाद विवेक पुलिस अधिकारियों से फोन करवाकर लगातार युवती को प्रताड़ित कर रहा था।

मिली जानकारी के मुताबिक, युवती लखनऊ की रहने वाली थी। वह यहां कोतवाली नगर के खवासपुरा में किराए के मकान में रहती थी। युवती के आत्महत्या करने की जानकारी मिलने पर परिजन भी अयोध्या पहुंच गए हैं। फिलहाल पुलिस मामले की जांच में जुटी हुई है।

Next Story

विविध