Top
राष्ट्रीय

मोदी-योगी की कुर्सी मैनेजमेंट के बीच मिर्जापुर में बीमार युवक को इलाज के लिए चारपाई से ले जाना पड़ा 8 किलोमीटर दूर

Janjwar Desk
12 Jun 2021 9:01 AM GMT
मोदी-योगी की कुर्सी मैनेजमेंट के बीच मिर्जापुर में बीमार युवक को इलाज के लिए चारपाई से ले जाना पड़ा 8 किलोमीटर दूर
x

मिर्जापुर के एक गांव में बीमार युवक को चारपाई में लादकर अस्पताल ले जाते लोग. photo - twitter

बीमार 42 साल के सत्तू को अस्पताल तक पहुंचाने के लिए एंबुलेंस की सुविधा नहीं मिली तो परिजन चारपाई पर ही घर से आठ किलोमीटर दूर स्थित अस्पताल ले जाने लगे। इस परिवार के सामने आई मुसीबत का न तो गांव के ग्राम प्रधान ने संज्ञान लिया और न ही प्रशासन ने...

जनज्वार, मिर्जापुर। केंद्र की मोदी और यूपी की योगी सरकार सत्ता और कुर्सी के लिए घनघोर संवाद अदायगी कर रही है। सरकार हर तरप चंगा और बढ़िया होने का जुमला परोसने से भी पीछे नहीं हट रही। बावजूद इसके कुछ इलाके ऐसे भी हैं, जहां बुनियादी सुविधाएं तक नहीं पहुंच पा रही हैं।

अनगिनत लोगों का जीवन अब भी अभाव और संघर्षों में उलझा हुआ है। शुक्रवार 11 जून को मिर्जापुर जनपद के लालगंज थाना क्षेत्र के तिलांव गांव में उस समय लोगों के आश्चर्य का ठिकाना नहीं रहा, जब कुछ लोग चारपाई पर मरीज को मरणासन्न हालत में लादकर स्वास्थ्य केंद्र ले जा रहे थे।

स्वास्थ्य केंद्र 8 किलोमीटर दूर था और मरीज की हालत बिगड़ती जा रही थी। इसलिए स्थिति की गंभीरता को देखते हुए उन लोगों ने लालगंज सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के स्थान पर झोलाछाप के यहां ही मरीज को दिखाया। उन्हें एंबुलेंस सुविधा के बारे में भी पता नहीं था और किसी के पास फोन भी नहीं था। ग्रामीण या पड़ोसी कोई भी उनकी मदद को आगे नहीं आया।

क्षेत्र के तिलांव नंबर एक गांव के निवासी बीमार 42 साल के सत्तू को अस्पताल तक पहुंचाने के लिए एंबुलेंस की सुविधा नहीं मिली तो परिजन चारपाई पर ही घर से आठ किलोमीटर दूरी स्थित अस्पताल ले जाने लगे। इस परिवार के सामने आई मुसीबत का न तो गांव के ग्राम प्रधान ने संज्ञान लिया और न ही प्रशासन ने।

पेट दर्द से कराह रहे सत्तू को परिजन 8 किलोमीटर की दूरी पर लालगंज अस्पताल तक जाने के लिए डोली खटोली से लेकर चल दिए। रास्ते में जितने भी राहगीर मिले, सभी लोग सहानुभूति जताते रहे पर किसी ने मदद नहीं की। परिजन आठ किलोमीटर दूर स्थित स्वास्थ्य केंद्र जा रहे थे पर मरीज की हालत बिगड़ने पर वे आसपास कोई आसरा तलाशने लगे।

इसके बाद एक झोलाछाप के यहां इलाज कराने पहुंचे। पूछने पर परिजनों ने बताया कि मोबाइल फोन नहीं है और किसी ने एंबुलेंस के लिए फोन नहीं किया। हम लोगों को पता नहीं था कि एंबुलेंस मुफ्त में सेवा देती है। यह कुछ सरकार को नहीं दिखता, सरकार को अगर कुछ दिखता है तो वह कुर्सी का मैनेजमेंट।

Next Story

विविध

Share it