Top
बिहार

सुशांत केस : DGP गुप्तेश्वर पाण्डेय ने कहा- BMC को सुप्रीम कोर्ट की भी परवाह नहीं

Janjwar Desk
6 Aug 2020 5:42 AM GMT
सुशांत केस : DGP गुप्तेश्वर पाण्डेय ने कहा- BMC को सुप्रीम कोर्ट की भी परवाह नहीं
x

Photo source : social media

DGP ने ट्विट कर लिखा 'वे सुप्रीम कोर्ट की भी परवाह नहीं करते, अब इसको आप क्या कहेंगे, अफसोस!..

जनज्वार ब्यूरो, पटना। मुंबई में BMC द्वारा पटना के सिटी एसपी (City S.P) विनय तिवारी को क्वारन्टीन किए जाने को लेकर बिहार पुलिस कोर्ट जा सकती है। डीजीपी डीजीपी गुप्तेश्वर पाण्डेय (DGP Gupteshwar Pandey) लगातार इसपर कड़ी नाराजगी जता रहे हैं। कल सुप्रीम कोर्ट ने भी इसे लेकर टिप्पणी की थी। पटना के जोनल आईजी (Zonal IG) द्वारा BMC को पत्र भेज सिटी एसपी को क्वारन्टीन मुक्त करने का अनुरोध किया जा चुका है, पर उन्हें अभी तक वहीं रखा गया है।

डीजीपी ने कहा 'माननीय सर्वोच्च न्यायालय द्वारा ये गंभीर टिप्पणी की गई है कि बिहार के IPS विनय तिवारी को मुंबई में जबरदस्ती क्वारन्टीन किया जाना गलत है फिर भी BMC ने उन्हें मुक्त नहीं किया है। वे सुप्रीम कोर्ट की भी परवाह नहीं करते! अब इसको आप क्या कहेंगे??? अफसोस!'


इस बीच ये भी खबरें आ रहीं हैं कि बिहार पुलिस (Bihar Police)की पहले से गई टीम को भी बीएमसी क्वारन्टीन करने के लिए तलाश कर रही है और वे बच-बचाकर किसी तरह जांच को आगे बढ़ा रहे हैं।

इससे पहले रिया चक्रवर्ती द्वारा पटना के केस को मुंबई ट्रांसफर करने संबन्धी दायर याचिका (Writ Petition) पर कल 5 अगस्त को सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई (Hearing) हुई। बताया जा रहा है कि कोर्ट में सिटी एसपी विनय तिवारी को क्वारन्टीन किए जाने का मामला उठा था और कोर्ट ने उसपर टिप्पणी भी की थी।

बीएमसी ने राज्य में लागू क्वारन्टीन नियमों का हवाला देते हुए सिटी एसपी विनय तिवारी को क्वारन्टीन किए जाने की बात कही थी। हालांकि उसपर यह सवाल उठा था कि फिर पहले से गई उस टीम को क्वारन्टीन क्यों नहीं किया गया, जो जांच के क्रम में लगातार मुंबई पुलिस से मिल-जुल रही थी।

इससे पहले पटना के जोनल आईजी संजय सिंह ने बीएमसी को पत्र लिखकर विनय तिवारी को क्वारन्टीन मुक्त किए जाने का अनुरोध किया था, पर बीएमसी ने उस अनुरोध पर कोई पहल नहीं की थी। इसपर भी डीजीपी ने प्रतिक्रिया दी है।


उन्होंने ट्विट कर लिखा 'पटना IG ने BMC के चीफ़ को पत्र लिखकर IPSविनय तिवारी को कोरंटिन करने का विरोध करते हुए उनको मुक्त करने का अनुरोध किया था जिसको ठुकरा दिया गया है.BMC ने पत्र का जबाब भी पटना पुलिस को भेज दिया है.यानि हमारे SP विनय तिवारी अब 14 दिन तक वहीं क़ैद रहेंगे.BMCका यह फ़ैसला दुर्भाग्यपूर्ण!'

Next Story

विविध

Share it