बिहार

लोजपा महासचिव केशव सिंह का दल में टूट और लोजपा (रामविलास गुट) बनाने का दावा, चिराग ने पार्टी से बाहर निकाला

Janjwar Desk
4 Dec 2020 4:39 PM GMT
लोजपा महासचिव केशव सिंह का दल में टूट और लोजपा (रामविलास गुट) बनाने का दावा, चिराग ने पार्टी से बाहर निकाला
x
पार्टी के लिए इन तमाम झंझावातों के बीच लोक जनशक्ति पार्टी के प्रदेश महासचिव केशव सिंह ने राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है, इसके बाद आज उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया है...

जनज्वार ब्यूरो, पटना। एक तरफ तो लोजपा को बिहार चुनावों में करारा झटका लगा, दूसरी तरफ पार्टी के संस्थापक रामविलास पासवान की राज्यसभा सीट भी बीजेपी के हाथों गंवानी पड़ी। रामविलास पासवान के निधन के बाद केंद्रीय मंत्रिमंडल की उनकी सीट पर भी लोजपा से अबतक किसी का एडजस्टमेंट नहीं हो पाया है। होगा भी या नहीं, यह स्पष्ट नहीं।

पार्टी के लिए इन तमाम झंझावातों के बीच लोक जनशक्ति पार्टी के प्रदेश महासचिव केशव सिंह ने राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है। इसके बाद आज उन्हें पार्टी से निकाल दिया गया है।


लोक जनशक्ति पार्टी के महासचिव सह प्रवक्ता केशव सिंह ने जल्द ही पार्टी में टूट होने का दावा कर सनसनी मचा दी। उन्होंने आगामी जनवरी माह के तीसरे हफ्ते में पार्टी में बड़ी टूट का दावा किया। साथ ही लोजपा से अलग होकर लोजपा (रामविलास पासवान गुट) बनाने का दावा भी किया।

हालांकि उनके इस दावे के बाद लोजपा ने उन्हें पार्टी से बाहर का रास्ता दिखा दिया है। पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष प्रिंस राज की ओर से पत्र जारी कर उन्हें छह वर्षों के लिए पार्टी की प्राथमिक सदस्यता से निलंबित कर दिया गया है।


केशव सिंह ने पिछले दो दिनों में एक के बाद एक कई फेसबुक पोस्ट कर ये दावे किए हैं। उन्होंने नई पार्टी बनाने का ऐलान किया है। उनका दावा है कि 30 जिलाध्यक्ष, राष्ट्रीय और राज्य कार्यकारिणी के सदस्यों को साथ लेकर वे इस नई पार्टी का गठन करेंगे। उन्होंने यहां तक लिख दिया है कि वे अगर मुंह खोलेंगे तो कई चेहरे बेउर जेल में नजर आएंगे।

बता दें कि बिहार विधानसभा चुनाव में लोजपा एनडीए से अलग होकर अकेले चुनाव मैदान में उतर गई थी। लेकिन उसे महज एक सीट पर ही सफलता मिल सकी थी। पार्टी ने 135 सीट पर उम्मीदवार उतारे थे, पर उसके 134 उम्मीदवार चुनाव हार गए।


हालांकि समीक्षा बैठक में चिराग पासवान ने कहा कि बिहार चुनावों में पार्टी ने अच्छा प्रदर्शन किया है और उसे अकेले दम पर 25 लाख वोट मिले हैं। वैसे इन चुनावों में लोजपा को तो कोई खास सफलता नहीं मिल सकी पर कहा गया कि कई सीटों पर वह एनडीए, खासकर जेडीयू की हार का कारण जरूर बन गई।

हार के बाद लोजपा अध्यक्ष चिराग पासवान ने बिहार प्रदेश की सभी जिला इकाई को भंग कर दिया है। चिराग ने बुधवार को पटना में लोजपा कार्यालय में पार्टी के नेताओं के साथ बैठक की। इसमें मेन विंग के साथ-साथ सभी प्रकोष्ठ को भी भंग कर दिया गया। बैठक में कहा गया कि दो महीने के अंदर सभी नई कमेटी का गठन किया जाएगा।


बिहार चुनावों में प्रचार के दौरान चिराग पासवान ने खुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का हनुमान बताते हुए मुख्यमंत्री नीतीश कुमार के विरुद्ध काफी आक्रामक बयानबाजी की थी। उन्होंने नलजल योजना में भ्रष्टाचार का आरोप लगाते हुए उनकी सरकार बनने पर इसकी जांच कराने और नीतीश कुमार के जेल जाने जैसी बातें भी कही थीं। उन्होंने बीजेपी और लोजपा की सरकार बनने का दावा भी किया था, हालांकि ऐसा हो नहीं सका।

Next Story

विविध

Share it