Top
झारखंड

लोकसभा न विधानसभा सबसे ऊंची ग्राम सभा! दुनियावालो सुन लो आज हमारे गांव में हमारा राज!

Janjwar Desk
23 Sep 2020 9:47 AM GMT
लोकसभा न विधानसभा सबसे ऊंची ग्राम सभा! दुनियावालो सुन लो आज हमारे गांव में हमारा राज!
x
दिनांक 23 सितंबर 2020 को अंचल पोटका के हाता में सचिन होटल में 25 से 27 सितम्बर 2020 जनता कर्फ्यू को लेकर प्रेस वार्ता किया गया जिसमें नाचोसाई के ग्राम प्रधान रामकृष्णा सरदार व गोपाल सरदार ने प्रेस को संबोधित किया।

जनज्वार। दिनांक 23 सितंबर 2020 को झारखंड के जिला पूर्वी सिंहभूम अंचल पोटका के हाता में सचिन होटल में 25 से 27 सितम्बर 2020 जनता कर्फ्यू को लेकर प्रेस वार्ता किया गया जिसमें नाचोसाई के ग्राम प्रधान रामकृष्णा सरदार व गोपाल सरदार ने प्रेस को संबोधित किया।

गोपाल सरदार ने कहा कि अभी तक झारखंड के जिला पूर्वी सिंहभूम अंचल, डीसी कार्यालय, सचिव, मुख्यमंत्री, राज्यपाल, राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग, राष्ट्रपति तक को मेमोरेंडम दिया जा चुका है।14 फरबरी 2020 को ग्राम सभा की ओर से जन सुनवाई भी की गयी। इसमें लीजधारी और प्रशासनिक अधिकारियों को भी बुलाया गया था। जन सुनवाई में खनन को गलत माना गया। सरकार को जनसुनवाई के फैसले की जानकारी दी जा चुकी है। इसके बावजूद ओम मेटल और लीडिंग कन्स्ट्रक्शन का अवैध खनन नहीं रूका है। इसी महीने में सितंबर 2020 में हाईकोर्ट रांची में पी.आई.एल. भी दायर किया गया है। लेकिन सरकार की ओर से अभी तक कोई ठोस निर्णय नहीं लिया गया। इसलिए पारंपरिक ग्राम सभा नाचोसाई के तरफ से 25 सितंबर से 27 सितंबर तक तीन दिन का जनता कर्फ्यू लागू होगा और इस दरमियान कोई भी बिना ग्राम प्रधान के आदेश से क्षेत्र में प्रवेश वर्जित रहेगा।

वहीं नाचोसाई के ग्राम प्रधान रामकृष्णा सरदार ने कहा कि ग्राम सभा इस लीज और खनन का शुरू से विरोध कर रही है।12 जनवरी 2019 को ग्रामीणों का शांतिपूर्ण प्रदर्शन चल रहा था। लेकिन लीडिंग कन्स्ट्रक्शन के ईशारे पर ग्रामीणों पर प्रशासन कल ओर से दमन ढ़ाया गया। गाली-गलौज, मारपीट की गयी। महिलाओं के कपड़ें फाड़े गये। बच्चों बूढ़ों, लड़कियों को भि नहीं छोड़ा गया। थाना में रखा गया। ग्राम सभा के सदस्यों पर अपराध की धारायें लगायी गयीं। तब भी विरोध जारी रहा और अब भी विरोध जारी रहेगा जब तक सदन गुटु और सुंडी डुंगरी में किरपड़ सुसुन अखाड़ा, माग बुरू बंगा मसना का स्थल अवैध खनन से मुक्त ना हो जाए। यहां आदिवासी अस्तित्व और पहचान बचाने को लेकर लोकतांत्रिक और संवैधानिक अधिकारों के लिए गांव की पारंपरिक ग्रामसभा की ओर से 2016 से संघर्ष जारी है और अब इस पूरे जोन में सरकार को गहरी नींद से जागाने के लिए तीन दिन का जनता कर्फ्यू लागू रहेगा।

झारखंड के जिला पूर्वी सिंहभूम के 12 गांव के ग्राम प्रधान आज प्रेस वार्ता में मौजूद थे और विभिन्न जन संगठन ने इस प्रेस वार्ता में हिस्सा लिया और 25 सितंबर से लेकर 27 सितंबर को जनता कर्फ्यू में पोटका प्रखंड के तमाम ग्राम प्रधान व विभिन्न संगठनों के नेता व आमजन इस संघर्ष में हिस्सा लेंगे।

Next Story

विविध

Share it