शिक्षा

Bihar के सोनू ने सीएम नीतीश के सामने खोली शराबबंदी और स्कूलों में पढ़ाई की हकीकत, कहा - ' सर सुनिए, पढ़ाई में मदद कीजिए'

Janjwar Desk
15 May 2022 3:02 AM GMT
बिहार के सोनू ने सीएम नीतीश के सामने खोली शराबबंदी और स्कूलों में पढ़ाई की हकीकत, कहा -  सर सुनिए, पढ़ाई में मदद कीजिए
x

बिहार के सोनू ने सीएम नीतीश के सामने खोली शराबबंदी और स्कूलों में पढ़ाई की हकीकत, कहा - ' सर सुनिए, पढ़ाई में मदद कीजिए'

Bihar : सीएम के गृह जिले नालंदा के 11 साल के सोनू ने सीएम नीतीश कुमार से गुहार लगाई कि हमको शिक्षा दे दो सरकार। मैं, पढ़ना चाहता हूं। इसलिए मेरी मदद करें।

नालंदा। बिहार (Bihar) के नालंदा जिले में 11 साल के एक बच्चे ने मुख्यमंत्री नीतीश कुमार (CM Nitish Kumar) से बेहतर शिक्षा की गुहार लगाई है। साथ ही सुशासन बाबू के शराबबंदी और स्कूली शिक्षा की हकीकत बयां कर उनको आइना दिखाने का काम किया है। सोनू ( Sonu Kumar ) ने एक तरफ मुख्यमंत्री को अपनी फरियाद सुनाई तो दूसरी तरफ बातों-बातों में उसने सीएम के गृह जिले नालंदा ( Nalanda ) की पोल भी खोल दी।

दरअसल, सोनू ( Sonu Kumar ) पढ़ना चाहता है। उसकी गरीबी और पिता का शराबी होने की वजह से वो सही शिक्षा नहीं ले पा रहा है। सरकारी स्कूल की शिक्षा से 11 साल का सोनू संतुष्ट नहीं है। उसे लगता है कि अगर सरकारी स्कूल के भरोसे रहे तो भविष्य बर्बाद हो जाएगा। यही वजह है कि उसने सीएम नीतीश कुमार से मदद की गुहार लगाई है। इसके साथ ही सोनू ने शराबबंदी और सरकारी स्कूलों की गुणवत्ता पर भी सवाल खड़े किए हैं।

क्या कहा सोनू ने

छात्र सोनू कुमार ने बताया कि वह मध्य विद्यालय नीमा कौल के सरकारी स्कूल में पढ़ता है। जहां उसे अच्छी शिक्षा नहीं मिल पा रही है। मुझे शिक्षा चाहिए। शिक्षकों को भी पढ़ना लिखना नहीं आता है। इसके साथ ही एक शिक्षक का नाम लेते हुए सोनू ने कहा कि उन्हें इंग्लिश पढ़ने में भी दिक्कत होती है।

पिता पर लगाया शराब का लती होने का आरोप

11 साल के सोनू ने अपने पिता पर शराब पीने का भी आरोप लगाया है। सोनू ने कहा कि मेरे पिता शराब पीते हैं। उसमें हमारा सारा पैसा खत्म हो जाता है। हम जो पढ़ाकर लाते हैं वो पैसा भी ले लेते हैं। आपको बता दें कि बिहार में शराब बंदी है।

सीएम ने दिया ये जवाब

सोनू की फरियाद पर सीएम नीतीश कुमार ने मौके पर मौजूद अधिकारियों को बच्चे की अच्छी शिक्षा की व्यवस्था करने के निर्देश दिए हैं। सीएम ने कहा कि ये पढ़ना चाहता है लेकिन अभिभावक नहीं पढ़ा पा रहे। इसकी पढ़ाई का इंतजाम कीजिए।

बता दें कि 14 मई को मुख्यमंत्री नीतीश कुमार अपनी पत्नी स्वर्गीय मंजू सिन्हा की 16वीं पुण्यतिथि के मौके पर कल्याण बिगहा गांव पहुंचे थे। इस दौरान उन्होंने कल्याण बिगहा मध्य विद्यालय में जनसंवाद कार्यक्रम (Jan Samvad Program In Nalanda) के तहत लोगों की समस्याएं सुन रहे थे। वहां पर सोनू पहुंच गया और सीएम से अपनी गुहार लगाई मेरा भविष्य बचा लो।

कौन है सोनू ?




सोनू मुख्य रूप से बिहार के नालंदा जिले के हरनौत प्रखंड के नीमा कौल गांव का निवासी है। वह छठी कक्षा का छात्र है और पांचवीं कक्ष्रा तक के 40 बच्चों को पढ़ाता है। उसका दुर्भाग्य देखिए 11 साल का बच्चा गरीबी की वजह से जो पैसा कमाकर लाता है उसे भी उसका शराब पिता हरप कर जाता है। यहां पर ये भी बता दें कि सोनू जिस नालंदा जिले का रहने वाला है वो सीएम नीतीश कुमार का गृह नगर भी है। सोनू के पिता रणविजय यादव दही की दुकान चलाकर घर चलाते हैं। सोनू कुमार ने जनसंवाद में सीएम नीतीश कुमार से मुलाकात कर कड़वे सच कहने का काम किया। सोनू ने सीएम से कहा - हमारी ये मांग है कि हमको शिक्षा चाहिए और सरकारी स्कूलों में शिक्षा नहीं होती है। मेरे पापा रोज शराब पीते हैं। हम जो पैसा कमाकर के लाते हैं वो भी पैसा वो ले लेते हैं। अच्छी शिक्षा की व्यवस्था करवा दीजिए।

(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध