बिहार

बिहार के सीतामढ़ी में लड़की का अपहरण करके ले जा रहे थे दबंग, मां ने किया विरोध तो तलवार से गला कर दिया धड़ से अलग

Janjwar Desk
30 Oct 2020 4:45 PM GMT
बिहार के सीतामढ़ी में लड़की का अपहरण करके ले जा रहे थे दबंग, मां ने किया विरोध तो तलवार से गला कर दिया धड़ से अलग
x
बेटी को बचाने के लिए मां गुंडों से भिड़ गई, इसी दौरान बदमाशों ने तलवार से रामवृक्ष ठाकुर की पत्नी की गर्दन पर वार कर दिया, जिससे मां का सिर धड़ से अलग हो गया...

जनज्वार ब्यूरो। बिहार में विधानसभा चुनाव के बीच एक दर्दनाक हादसा सामने आया है। यहां के जिला सीतामढ़ी में बेटी का अपहरण होते देख मां ने विरोध किया तो गांव के ही दबंगों ने तलवार से महिला का सिर ही धड़ से काटकर अलग कर दिया। इस भयावह घटना को अंजाम देने के बाद सभी आरोपी मौके से फरार हो गये।

गौरतलब है कि सीतामढ़ी के बथनाहा थाना क्षेत्र के कोईली गोट गांव में रामवृक्ष ठाकुर अपनी पत्नी व बच्चों के साथ रहता है। उसी गांव के दबंग सुरेंद्र शर्मा ने कल 29 अक्टूबर की दोपहर का अपने साथियों के साथ मिलकर उसके घर पर हमला कर दिया। हमला करने के बाद दबंग उसकी बेटी को जबरदस्ती अपने साथ ले जाने लगे, जिसका रामवृक्ष की पत्नी ने विरोध किया।

अपनी बेटी को बचाने के लिए मां गुंडों से भिड़ गई। इसी दौरान बदमाशों ने तलवार से रामवृक्ष ठाकुर की पत्नी की गर्दन पर वार कर दिया, जिससे मां का सिर धड़ से अलग हो गया। महिला का बेटा नीतेश भी जब बचाव के लिए आगे आया तो दबंगों ने उसे भी बुरी तरह पीटा।

घटना को अंजाम देने के बाद आरोपी मौके से फरार हो गए। जानकारी मिलते ही नजदीकी थाने की पुलिस मौके पर पहुंची। पुलिस ने घटनास्थल का निरीक्षण करने के साथ ही मामले की जांच शुरू कर दी है।

मृतका की बेटी काजल ने पुलिस को दिये बयान में बताया कि गांव के ही सुरेन्द्र शर्मा, रामू, शत्रुघ्न शर्मा, राघवेंद्र कुमार, किशन कुमार और कपिलेश्वर शर्मा काले रंग की दो मोटरसाइकिलों पर सवार होकर उसके घर आए थे। ये 6 लोग उसे जबरन अपने साथ ले जाने लगे। लड़की के मुताबिक मां ने विरोध किया, तो दबंगों में से एक ने तलवार से मां का गला काट दिया।

इस मामले में थानाध्यक्ष बथनाहा का कहना है कि सभी आरोपी फरार हैं। सभी को जल्द गिरफ्तार कर लिया जाएगा। हमलावरों का रामवृक्ष के परिवार से पुरानी रंजिश चल रही है। इतना ही नहीं रामवृक्ष की बेटी और बेटे के बयानों के आधार पर इन अपराधियों के खिलाफ थाने में दो एफआईआर भी दर्ज की जा चुकी हैं। इन दोनों मुकदमों में सुलह कर लेने का दबाव भी दबंगों द्वारा लगातार बनाया जा रहा था।

मृतका की पुत्री काजल ने पुलिस को दिये बयान में कहा कि गांव के ही उसके चचेरे भाई सुरेंद्र शर्मा व उसके पुत्र राजू कुमार, रामू कुमार, शत्रुघ्न शर्मा, राघवेंद्र कुमार, किशन कुमार और रामसोगारथ शर्मा के पुत्र कपिलेश्वर शर्मा आदि लोगों ने उसकी मां को मौत के घाट उतारा और वो लोग उसका अपहरण करके ले जा रहे थे। काजल का अपहरण करने की नीयत से ये लोग हथियारों के साथ वहां आये थे। घटना से पूरे गांव में सन्नाटा पसरा हुआ है। पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है।

Next Story
Share it