राष्ट्रीय

conversion : दिल्ली में धर्म परिवर्तन के आरोप में पादरी को डिवाइडर से बांधकर पीटा, लगवाए ये नारे

Janjwar Desk
4 March 2022 9:12 AM GMT
Religious Conversion, Delhi News
x

file photo

conversion : बदमाशों ने पहले पादरी को डिवाइडर से बांधकर पीटा। उसके बाद पादरी से 'जय श्री राम' के नारे भी लगवाए।

Conversion : देश की राजधानी दिल्ली ( Delhi ) के मैदान गढ़ी ( Maidan Garhi ) इलाके में एक 35 वर्षीय पादरी पर धर्म परिवर्तन ( Religious Conversion ) का आरोप लगाते हुए अज्ञात हमलावरों ने ​कथित तौर पर पीटा और धार्मिक नारे लगाने पर मजबूर किया। इस घटना के बाद पादरी ने आरोप लगाया है कि अज्ञात लोगों के एक समूह ने उसे डिवाइडर से बांधकर लगभग दो घंटे तक पीटा। यही नहीं पादरी ( Padri ) से 'जय श्री राम' ( Jay Shri Ram ) के नारे भी लगवाए। यह घटना 25 फरवरी की है। अब पीड़ित पादरी की शिकायत पर मैदान गढ़ी पुलिस ने FIR दर्ज कर आरोपियों की तलाश कर रही है।

दक्षिण जिला डीसीपी बेनीटा मेरी जैकर ने बताया कि पादरी केलेम कल्याण ने 28 फरवरी को दी शिकायत में कहा है कि 25 फरवरी को भाटी माइंस इलाके में उस पर अज्ञात लोगों ने हमला कर दिया। घटना सुबह 10 बजकर 50 मिनट से 12 बजकर 30 बजे के बीच की है। उस वक्त वह भाटी माइंस इलाके में अपने एक दोस्त से मुलाकात के लिए जा रहे थे। इसी दौरान वहां मौजूद कुछ लोगों ने उन्हें रोक लिया और मारपीट की। पादरी के मुताबिक बदमाशों ने उन पर धर्म परिवर्तन करने का आरोप लगाते हुए भीड़ ने मारपीट की।

दिल्ली पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों के मुताबिक मैदान गढ़ी थाने में FIR दर्ज कर ली गई है। पादरी की शिकायत पर आज्ञात लोगों के ख़िलाफ़ आईपीसी की धरा 323, 365 और 341 के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है। पुलिस मामले की छानबीन कर रही है। वहीं इस घटना का वीडियो भी सामने आ गई है। पुलिस इस वीडियो को आधार मान रही है।

बता दें कि पीड़ित पादरी का नाम केलेम कल्याण है। पादरी ने 28 फरवरी को पुलिस को दी अपनी शिकायत में कहा है कि 25 फरवरी को भाटी माइंस क्षेत्र में उसपर अज्ञात लोगों की भीड़ ने हमला कर दिया। पादरी केलेम सुबह भाटी माइंस इलाके में अपने एक दोस्त से मिलने जा रहे थे तभी उनके साथ यह घटना घटी। भारत में स्वतंत्रता संविधान द्वारा गारंटीकृत मौलिक अधिकारों में से एक है। भारत एक धर्मनिरपेक्ष देश है जहां धर्म बदलना कानूनी है और कोई भी किसी भी प्रतिबंध के बिना अपने धर्म का प्रचार और प्रसार कर सकता है।

Next Story

विविध