राष्ट्रीय

बढ़ती महंगाई को लेकर किसानों का देशव्यापी हल्लाबोल, 2 घंटे के लिए जरूरी सेवाओं को छोड़ सब बंद

Janjwar Desk
8 July 2021 6:21 AM GMT
बढ़ती महंगाई को लेकर किसानों का देशव्यापी हल्लाबोल, 2 घंटे के लिए जरूरी सेवाओं को छोड़ सब बंद
x

पेट्रोल-डीजल, रसोई गैस की बढ़ी कीमतों के खिलाफ किसानों का हल्ला बोल (सांकेतिक फोटो)

संयुक्त किसान मोर्चा के बनैर तले हो रहे देशव्यापी प्रदर्शन का पंजाब-हरियाणा में दिख रहा असर, रसोई गैस के साथ किसान संगठनों का प्रदर्शन, मोहाली में लगी गाड़ियों की कतार

जनज्वार हरियाणा। देश में महंगाई बेलगाम है। कई राज्यों में पेट्रोल-डीजल के दाम ने सौ का आंकड़ा पार कर लिया है। तेल के दाम बढ़ने से दूसरी चीजों की कीमत पर भी असर पड़ रहा है। वहीं रसोई गैस की कीमत में 25 रुपये के उछाल ने आम आदमी की जेब काट दी है। इस बढ़ती महंगाई से देश की जनता त्रस्त है। और बीते कई महीनों से नये कृषि बिल का विरोध कर रहे किसानों ने अब महंगाई के खिलाफ मोर्चा खोल दिया है।

कृषि बिल के खिलाफ सात महीनों से भी ज्यादा समय से प्रदर्शन कर रहे देशभर के किसान गुरुवार 8 जुलाई को भी सड़कों पर है। लेकिन ये प्रदर्शन बढ़ती महंगाई के खिलाफ है। पेट्रोल-डीजल की कीमतों में हुई बेतहाशा बढ़ोतरी और महंगी हुई रसोई गैस के खिलाफ किसान देशव्यापी प्रदर्शन कर रहे हैं। इस देशव्यापी प्रदर्शन का हरियाणा और पंजाब में मिला-जुला असर देखने को मिल रहा है। कई स्थानों पर आंदोलनकारी जुटना शुरू हो गए हैं।

बता दें कि संयुक्त किसान मोर्चा की ओर से इस देशव्यापी प्रदर्शन की घोषणा की गयी है। जिसको कई जगह ट्रांसपोर्टरों ने भी समर्थन दिया है। महंगाई के खिलाफ इस प्रदर्शन में दो घंटे तक जरूरी सेवाओं को छोड़कर बाकी सब बंद रहेगा।

पंजाब-हरियाणा में दिखा असर

पंजाब-हरियाणा में प्रदर्शन का असर दिख रहा है। सुबह सबसे पहले कुरुक्षेत्र में गोल्डन हट ढाबे के आगे लगाए गए बैरिकेड्स को किसानों ने ट्रैक्टर की मदद से हटा दिया है। वही रेवाड़ी के जिला सचिवालय के नजदीक राजीव चौक पर सवा 11 किसान संगठन एकत्रित होकर महंगाई को लेकर प्रदर्शन करेंगे। वहीं पंजाब में जालंधर के भंडारी पुल पर ऑल इंडिया किसान सभा के बैनर तले किसान रसोई गैस सिलेंडर लेकर पहुंचे है।

इस दौरान मोदी सरकार को अंबानी और अडानी की गुलाम सरकार बताकर नारे लगाए गये। वही मोहाली के गुरुद्वारा सिंह शहीदां के सामने किसान संगठनों की तरफ से लोगों की गाड़ियों को सड़क के किनारे रुकवा लिया गया। जिसके कारण दोनों ओर गाड़ियों की लंबी लाइनें देखने को मिली, वहीं प्रदर्शनकारियों ने सरकार और बढ़ती महंगाई के खिलाफ नारे लगाए।

संयुक्त किसान मोर्चा के आह्वान पर प्रदर्शन

नए कृषि कानूनों के विरोध में 40 से ज्यादा किसान संगठन, संयुक्त किसान मोर्चा के नेतृत्व में पिछले सात महीनों से भी ज्यादा समय से देशभर में विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं। किसान जत्थेबंदियों ने अपनी आवाज बुलंद करते हुए महंगाई के खिलाफ दो घंटे के लिए जरूरी सेवाओं को छोड़कर सबकुछ बंद रखने का आह्वान किया है। इसे लेकर किसान नेता गुरनाम सिंह चढूनी की ओर से एक वीडियो भी जारी किया गया था। चढूनी ने किसानों से अपील करते हुए कहा था कि 8 जुलाई को देशभर में दो घंटे के लिए प्रदर्शन हो, देशभर में कहीं भी जाम ना लगाया जाए। सिर्फ हाईवे पर, वो भी सड़क के साइड में वाहनों को खड़ा कर ही रोष प्रदर्शन करना है।

वहीं चंडीगढ़ में एक प्रेस कांफ्रेंस को संबोधित करते हुए संयुक्त किसान मोर्चा (SKM) के अध्यक्ष बलबीर सिंह राजेवाल ने बताया था कि किसान संगठन प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के थाली बजाने के विचार की तर्ज पर 8 मिनट तक हॉर्न बजाएंगे। संयुक्त किसान मोर्चा ने लोगों से सुबह 10 बजे से दोपहर 12 बजे तक राज्य और राष्ट्रीय राजमार्गों पर अपने वाहन सड़क किनाने लगाने को कहा।

Next Story

विविध