Top
राष्ट्रीय

सनी देओल के लिए भाई जैसा था दीप सिद्धू, बीच चुनाव में दिल्ली ले जाकर पीएम मोदी से करायी थी भेंट

Janjwar Desk
27 Jan 2021 6:12 AM GMT
सनी देओल के लिए भाई जैसा था दीप सिद्धू, बीच चुनाव में दिल्ली ले जाकर पीएम मोदी से करायी थी भेंट
x

दीप सिद्धू व सनी देओल का फाइल फोटो।

सनी देओल विवाद के बाद भले यह कह रहे हों कि उनका व उनके परिवार का दीप सिद्धू से कोई रिश्ता नहीं है, लेकिन एक समय था जब वे उसे अपना छोटा भाई बताते नहीं थकते थे और वह उनके परिवार के सदस्यों के भी करीब था...

जनज्वार। देश के 72वें गणतंत्र दिवस के मौके पर दो महीने से अधिक समय से आंदोलन कर रहे किसानों द्वारा निकाले गए ट्रैक्टर मार्च के दौरान हुए उपद्रव को लेकर अभिनेता से राजनेता बने भाजपा सांसद सनी देओल विवाद में पड़ गए हैं। किसान प्रदर्शनकारियों में शामिल दीप सिद्धू नामक शख्स से लालकिले में गैर तिरंगा झंडा फहरा दिया और उसके सनी देओल से रिश्ते की बात सामने आने पर सांसद ने सफाई दी है।

दरअसल किसानों के एक जत्थे ने लालकिले के भीतर जाकर हंगामा किया। इतना ही नहीं इस दौरान दीप सिद्धू ने लालकिले की प्राचीर पर अपने संगठन का झंडा फहराया। सोशल मीडिया में लोग सक्रिय हुए और लालकिले पर झंडा फहराने वाले व्यक्ति की पहचान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, गृहमंत्री अमित शाह समेत सनी देओल तक निकली। इनके साथ इसका फोटो शेयर किया जाने लगा।

बॉलीवुड एक्टर और सांसद सनी देओल ने ट्वीट कर कहा कि उनका दीप से कोई रास्ता नहीं है और पहले भी वह इस बात को कह चुके हैं और लाल किले पर जो कुछ हुआ उससे वे बहुत दुःखी हैं। उन्होंने कहा कि उनके परिवार का उससे कोई नाता नहीं है। दीप सिद्धू खुद को सनी देओल का भाई बताता रहा है।

इस बीच सोशल मीडिया पर एक पुराना वीडियो शेयर किया जा रहा है, जिसमें सनी देओल के साथ दीप सिद्धू है और सनी उसे अपना भाई बता रहे हैं। दीप ने 2019 के लोकसभा चुनाव में गुरुदासपुर में सनी देओल के चुनाव प्रबंधक की जिम्मेवारी निभायी थी। वह प्रचार में भी सनी देओल के साथ रहता था।

सनी देओल के साथ वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से 2019 के लोकसभा चुनाव के दौरान भी मिला था। सनी देओल उसे प्रधानमंत्री से मिलवाने खास तौर पर दिल्ली ले गए थे और 28 अप्रैल 2019 को मुलाकात हुई थी। दीप सिद्धू किसान आंदोलन में शुरुआत से सक्रिय नजर आ रहा था और उसका अंग्रेजी में बात करता हुआ वीडियो खूब चर्चा में आया था। उस समय भी दबे स्वर में उसे प्रो खालिस्तानी बताया गया था। बाद में दिसंबर में सनी देओल ने उससे किनारा कर लिया। हाल में उसे सिख फॉर जस्टिस मामले की जांच के सिलसिले में पूछताछ के लिए एनआइए ने समन भी भेजा था।


2019 के लोकसभा चुनाव में प्रचार के दौरान सनी देओल के साथ दीप सिद्धू।

दीप सिद्धू ने क्या सफाई दी है?

विवादों के बीच दीप सिद्दू ने अपना एक वीडियो जारी करके सफाई दी है कि उस पर जो आरोप लगाया जा रहा है कि लाल किले में हुई घटना के लिए वो अकेले ही जिम्मेदार है और उसने ही कुछ किसानों को भड़का कर इस घटना को अंजाम दिया है, वह सही नहीं है। उसने कहा है कि वह और उसके साथियों ने लाल किले पर निशान साहिब और किसान मजदूर एकता के दो झंडे लहराए हैं लेकिन दिल्ली में दाखिल होने वाले सभी किसानों को उन्होंने नहीं भड़काया है।

सनी देओल के पिता धर्मेंद्र व सौतेली मां BJP MP हेमा मालिनी के साथ दीप सिद्धू एक खुशनुमा माहौल में।

बल्कि कई और किसान संगठनों के नेताओं ने भी ये पहले ही कह दिया था कि वो दिल्ली पुलिस द्वारा बताए गए रूट पर नहीं जाएंगे बल्कि रिंग रोड से लाल किले तक जाने की कोशिश करेंगे। ऐसे में बेवजह यह आरोप लगाया जा रहा है कि दीप सिद्धू ही इस आंदोलन को बदनाम करने की साजिश कर रहा है।

Next Story
Share it