दिल्ली

Amazon Online: ऑनलाइन गांजा बेचने के आरोप में अमेजन पर FIR, पहले भी कई विवादास्पद प्रोडक्ट बेचती रही है कंपनी

Janjwar Desk
21 Nov 2021 5:32 AM GMT
Amazon Online: ऑनलाइन गांजा बेचने के आरोप में अमेजन पर FIR, पहले भी कई विवादास्पद प्रोडक्ट बेचती रही है कंपनी
x

(ऑनलाइन गांजा बेचने के आरोप में फंसा Amazon)

Amazon Online: ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म के जरिए कथित तौर पर कड़ी पत्ते की आड़ में अमेजन पर गांजे की तस्करी हो रही थी। पुलिस ने करीब 20 किलो गांजा सहित अमेजन की पैकिंग के डिब्बे, रैपर, बारकोड टैगिंग आदि सामान बरामद किए...

Amazon Online: कभी ऑनलाइन गोबर के उपले बेचकर पैसे कमाने वाली कंपनी अमेजन (Amazon) एक बार फिर अपने एक प्रोडक्ट को लेकर विवादों में फंस गया है। मध्य प्रदेश (Madhya Pradesh) के भिंड जिले की पुलिस ने ऑनलाइन गांजा बेचने के आरोप में कंपनी के कार्यकारी निदेशक के खिलाफ मामला दर्ज कराया है। मध्य प्रदेश के भिंड जिले में पुलिस ने पिछले दिनों दो लोगों की गिरफ्तारी और करीब 20 किलोग्राम गांजा (Marijuana) बरामद करने के बाद अमेजन के माध्यम से संचालित एक कथित ऑनलाइन ड्रग तस्करी का भंडाफोड़ करने का दावा किया था।

कड़ी पत्ता के नाम पर मरिजुआना की बिक्री

गांजा रैकेट का भंडाफोड़ करने के बाद शनिवार, 20 नवंबर को अमेजन इंडिया (Amazon India) के कार्यकारी निदेशकों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। आरोप है कि ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म (E-Commerce Platform) के जरिए कथित तौर पर कड़ी पत्ते की आड़ में अमेजन पर गांजे की तस्करी हो रही थी। पुलिस ने करीब 20 किलो गांजा सहित अमेजन की पैकिंग के डिब्बे, रैपर, बारकोड टैगिंग आदि सामान बरामद किये थे जिसके बाद मामले ने तूल पकड़ लिया। बताया जा रहा है कि तस्करी विशाखापट्टनम से हो रही थी। पुलिस पूछताछ में चौंकाने वाली बात ये सामने आई कि आरोपी अब तक एक टन से अधिक गांजा ऑनलाइन सप्लाई करने में कामयाब रहे।

भिंड के पुलिस अधीक्षक मनोज कुमार सिंह ने बताया कि अमेजन इंडिया के कार्यकारी निदेशकों के खिलाफ नारकोटिक ड्रग्स एंड साइकोट्रोपिक सब्सटांसेस (NDPS) एक्ट की धारा 38 के तहत मामला दर्ज किया गया है। हालांकि, एसपी ने बताया कि दर्ज प्राथमिकी में किसी व्यक्ति विशेष का नाम नहीं है। ग्वालियर निवासी बिजेंद्र तोमर और सूरज उर्फ कल्लू पवैया के पास से 21.7 किलोग्राम गांजा बरामद होने के बाद जिले के गोहद थाने में एनडीपीएस एक्ट के तहत मामला दर्ज किया गया।

आर्यन खान से ज्यादा गंभीर अपराध

इस मामले में कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स (कैट) ने भारत सरकार से इस मुद्दे पर तत्काल कार्रवाई की मांग की और कही कि नारकोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (NCB) को अमेजन के खिलाफ कार्रवाई करनी चाहिए, क्योंकि कंपनी ने एक विक्रेता के रूप में काम किया। अमेजन ने पैसे किए, अपनी वेबसाइट पर प्रोडक्ट को पोस्ट किया और कमीशन अर्जित किया। कैट ने कहा कि अमेजन ने आर्यन खान (Aryan Khan) पर लगाये गए आरोपों से भी ज्यादा गम्भीर काम किया और इसके लिए ऑनलाइन कंपनी पर सख्त से सख्त कार्रवाई होनी चाहिए।

Next Story

विविध

Share it