दिल्ली

Delhi News: जेल में मचने वाली है अफरा-तफरी, बृहस्पतिवार से कैदी एक जेल से दूसरी जेल में होंगे शिफ्ट

Janjwar Desk
20 March 2022 6:09 AM GMT
Delhi News: जेल में मचने वाली है अफरा-तफरी, बृहस्पतिवार से कैदी एक जेल से दूसरी जेल में होंगे शिफ्ट
x

Delhi News: जेल में मचने वाली है अफरा-तफरी, बृहस्पतिवार से कैदी एक जेल से दूसरी जेल में होंगे शिफ्ट

Delhi News: अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन पहले की तरह जेल संख्या दो के हाई सिक्योरिटी सेल में ही रहेगा बंद पहली बार अपराध करके जेल आने वाले कैदियों को अब जेल संख्या चार में रखा जाएगा

Delhi News: 24 मार्च से दिल्ली की तिहाड़, रोहिणी और मंडोजी जेल में अफरा-तफरी मचने वाली है। जेल में बंद करीब 14 हजार कैदियों में से तीन से चार हजार कैदियों पर इसका असर पड़ सकता है। जेल में नई लॉजिंग पॉलिसी के तहत तीन से चार हजार कैदियों को एक जेल से दूसरी जेल में किया जा सकता है शिफ्ट। इस संबंध में तिहाड़ जेल मुख्यालय की ओर से आदेश जारी कर दिया गया है।

दिल्ली पुलिस की तीसरी बटालियन की यह जिम्मेदारी होगी कि वह इन कैदियों को सुरक्षित तरीके से एक जेल से दूसरी जेल में शिफ्ट करे। जेल शिफ्ट करन में कई खतरनाक कैदी भी होंगे इसलिए तिहाड़ जेल कर्मियों को भी सुरक्षा की दृष्टी से शतर्क रहने के निर्देश दिये गए हैं। संभव है कुछ खतरनाक कैदियों को अलग से एक जेल से दूसरी जेल में शिफ्ट किया जाएगा।

पहली बार अपराध करने के बाद जो भी कैदी अब जेल आयेगा उसे जेल संख्या चार में रखा जाएगा जबकि 18 से 21 वर्ष के कैदियों को तिहाड़ जेल संख्या पांच में रखा जाएगा। इसके अलावा महिलाओं के खिलाफ अपराध करने वाले और भ्रष्टाचार के आरोप में जेल आने वाले कैदियों को जेल संख्या सात में रखा जाएगा। सजायफ्ता कैदियों को पहले की तरह ही जेल संख्या दो में रखा जाएगा। अंडरवर्ल्ड डॉन छोटा राजन को पहले की तरह नए नियम के बाद भी सुरक्षा कारणों से इसी जेल में रखा जाएगा।

इसके अलावा कड़कडडूमा और रोहिणी अदालत के अलावा बाकी जिला अदालतों से जो जिन महिला कैदियों को जेल भेजा जाएगा, उन्हें तिहाड़ जेल संख्या छह में रखा जाएगा। कड़कड़डूमा और रोहिणी कोर्ट से जेल जाने वाली महिला कैदियों को जेल संख्या संख्या-16 मंडोली में रखा जाएगा।

जेल संख्या 15 पहले की तरह हाई सिक्योरिटी जेल बना रहेगा। यहां ऐसे कैदियों को रखा जाएगा, जिसे दूसरे कैदियों से अलग रखने की जरूरत होगी। तिहाड़-प्रशासन के इस फैसले से उन कैदियों की परेशानी बढ़ जाएगी जो वर्तमान में जिस जेल में बंद हैं वहां अपनी सुविधानुसार कर्मचारियों के साथ सांठगांठ करके आराम तलब जीवन जी रहे हैं या ऐसी सुविधा ले रहे हैं जो जेल में कानून के अनुसार मिलना मुश्किल है।

Next Story

विविध