दिल्ली

Gyanvapi Masjid Controversy : काशी के बाद दिल्ली में तनाव, औरंगजेब रोड पर लगा बाबा विश्वनाथ मार्ग का पोस्टर, जानें कौन दे रहा विवाद को तूल?

Janjwar Desk
20 May 2022 2:06 AM GMT
Gyanvapi Masjid Controversy : ज्ञानवापी पर दिल्ली में तनाव, बगैर इजाजत औरंगजेब रोड पर लगा बाबा विश्वनाथ मार्ग का पोस्टर, जानें कौन दे रहा तनाव को तूल?
x

Gyanvapi Masjid Controversy : ज्ञानवापी पर दिल्ली में तनाव, बगैर इजाजत औरंगजेब रोड पर लगा बाबा विश्वनाथ मार्ग का पोस्टर, जानें कौन दे रहा तनाव को तूल?

Gyanvapi Masjid Controversy : भाजपा युवा मोर्चा के लोगों ने दिल्ली सरकार के इजाजत के बगैर औरंगजेब लेन पर बाबा विश्वनाथ मार्ग का पोस्टर लगाया।

Gyanvapi Masjid Controversy : उत्तर प्रदेश ( Uttar pradesh ) के बनारस से चला ज्ञानवापी मस्जिद विवाद ( Gyanvapi Masjid row ) आगरा, मथुरा, कर्नाटक, औरंगाबाद के बाद देश की राजधानी के लुटियन जोन तक पहुंच गया है। इस मुद्दे पर देश की संसद के बिल्कुल करीब भाजपा युवा मोर्चा ( BJPYM) के कार्यकर्ताओं ने तूल देने की कोशिश की है। युवा मोर्चा के लोगों ने दिल्ली सरकार (Delhi Government ) के इजाजत के बगैर औरंगजेब लेन ( Aurangzeb Road Lane ) पर बाबा विश्वनाथ मार्ग का पोस्टर ( Baba Vishwanath Marg poster ) लगा दिया है। युवा मोर्चा की इस हरकत के बाद यह बताने की जरूरत नहीं है कि इसे कौन तूल दे रहा है।

जुमे की नमाज से पहले यूपी में अलर्ट, शांति की अपील

दिल्‍ली के औरंगजेब रोड लेन ( Aurangzeb Road Lane ) पर बाबा विश्‍वनाथ मार्ग का पोस्‍टर ( Baba Vishwanath Marg poster ) लगाने की घटना के बाद योगी सरकार के भी कान खड़े हो गए हैं। ज्ञानवापी मस्जिद पर बढ़ते ​विवाद और तनाव को देखते हुए जुमे की नमाज से पहले उत्तर प्रदेश में अलर्ट घोषित कर दिया गया है। वहीं मुस्लिम धर्मगुरुओं ने सभी से शांति बनाए रखने की अपील की है। यूपी सरकार ने गुरुवार को एक हाई लेवल मीटिंग के बाद यह फैसला लिया। मुस्लिम धर्मगुरु मौलाना खालिद रशीद फिरंगी महली ने अपील की है कि मुस्लिम किसी तरह का प्रदर्शन न करें। उन्होंने कहा कि हमें अपने मुल्क के कानून पर पूरी तरह से भरोसा रखना है।

औरंगजेब देश के लिए कलंक

दिल्ली में बाबा विश्वनाथ मार्ग का पोस्टर लगाने वाले दिल्ली भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष ने कहा कि आज हम औरंगजेब लेन का नाम बाबा विश्वनाथ मार्ग ( Baba Vishwanath Marg poster ) करने की मांग लेकर आए हैं। दरअसल, वाराणसी में ज्ञानवापी मस्जिद के सर्वे के दौरान शिवलिंग मिलने का मामला कोर्ट में लंबित है। शुक्रवार को भी इस मुद्दे पर सुप्रीम कोर्ट से लेकर बनारस सिविल कोर्ट में सुनवाई होनी है। काशी से शुरू हुआ विवाद अब दिल्ली तक पहुंच गया है। भाजपा युवा मोर्चा के कार्यकर्ताओं ने दिल्ली स्थित औरंगजेब लेन पर बाबा विश्वनाथ मार्ग का पोस्टर चस्पा कर दिया। दिल्ली भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष वासु रूखड़ ने औरंगजेब लेन पर बाबा विश्वनाथ मार्ग का बैनर लगाने के बाद कहा कि औरंगजेब इस देश के लिए कलंक था।

दिल्ली सरकार से की इस बात की मांग

वासु रूखड़ का कहना है कि औरंगजेब जैसे आक्रांता ने हमारे भगवानों का मंदिर तोड़ा। हमारे बाबा विश्वनाथ का मंदिर तोड़ा। आज आप सभी को पता चल गया होगा कि वाराणसी के ज्ञानवापी मस्जिद में एक शिवलिंग था। आज हम औरंगजेब लेन ( Aurangzeb Road Lane ) का नाम बाबा विश्वनाथ मार्ग करने की मांग लेकर आए हैं। हम दिल्ली सरकार से यह चाहते हैं कि इस मार्ग का नाम बाबा विश्वनाथ मार्ग कर दिया जाए। भाजपा युवा मोर्चा के अध्यक्ष ने कहा कि पूरी दुनिया जानती है कि मुगल आक्रांताओं ने हमारे भगवानों का मंदिर तोड़ा। हम उनका इतिहास खत्म करना चाहते हैं। हम नहीं चाहते हैं कि ये नाम इतिहास में किसी भी पन्ने पर किसी भी रोड पर लिखा जाए।

दूसरी तरफ ज्ञानवापी मस्जिद ( Gyanvapi Mosque Row ) मामले को लेकर सूबे में सियासत गरमाई हुई है। एआईएमआईएम प्रमुख सर्वे रिपोर्ट के लीक होने पर सवाल उठा रहे हैं। ओवैसी ने कहा कि निचली अदालत को रिपोर्ट सौंपे बिना मीडिया के पास कैसे यह रिपोर्ट चली गई। मामला यहीं तक सीमित नहीं है। कर्नाटक में टीपू सुल्तान के मजार को लेकर भी विवाद खड़ा हो गया है। वहीं मनसे प्रमुख राज ठाकरे ने महाराष्ट्र के औरंगाबाद में स्थित औरंगजेब के मजार को ध्वस्त करने की चेतावनी दी है। मनसे की चेतावनी के बाद से उद्धव सरकार ने वहां पर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ा दी है।


(जनता की पत्रकारिता करते हुए जनज्वार लगातार निष्पक्ष और निर्भीक रह सका है तो इसका सारा श्रेय जनज्वार के पाठकों और दर्शकों को ही जाता है। हम उन मुद्दों की पड़ताल करते हैं जिनसे मुख्यधारा का मीडिया अक्सर मुँह चुराता दिखाई देता है। हम उन कहानियों को पाठक के सामने ले कर आते हैं जिन्हें खोजने और प्रस्तुत करने में समय लगाना पड़ता है, संसाधन जुटाने पड़ते हैं और साहस दिखाना पड़ता है क्योंकि तथ्यों से अपने पाठकों और व्यापक समाज को रू-ब-रू कराने के लिए हम कटिबद्ध हैं।

हमारे द्वारा उद्घाटित रिपोर्ट्स और कहानियाँ अक्सर बदलाव का सबब बनती रही है। साथ ही सरकार और सरकारी अधिकारियों को मजबूर करती रही हैं कि वे नागरिकों को उन सभी चीजों और सेवाओं को मुहैया करवाएं जिनकी उन्हें दरकार है। लाजिमी है कि इस तरह की जन-पत्रकारिता को जारी रखने के लिए हमें लगातार आपके मूल्यवान समर्थन और सहयोग की आवश्यकता है।

सहयोग राशि के रूप में आपके द्वारा बढ़ाया गया हर हाथ जनज्वार को अधिक साहस और वित्तीय सामर्थ्य देगा जिसका सीधा परिणाम यह होगा कि आपकी और आपके आस-पास रहने वाले लोगों की ज़िंदगी को प्रभावित करने वाली हर ख़बर और रिपोर्ट को सामने लाने में जनज्वार कभी पीछे नहीं रहेगा, इसलिए आगे आयें और जनज्वार को आर्थिक सहयोग दें।)

Next Story

विविध