Top
दिल्ली

दिल्ली में साप्ताहिक बाजारों को मिली अनुमति, एक हफ्ते के लिए नाईट कर्फ्यू समाप्त

Janjwar Desk
30 July 2020 3:50 PM GMT
दिल्ली में साप्ताहिक बाजारों को मिली अनुमति, एक हफ्ते के लिए नाईट कर्फ्यू समाप्त
x
दिल्ली सरकार के एक अधिकारी ने एक आदेश जारी करते हुए कहा कि आज निर्णय लिया गया कि भविष्य में सड़क पर चलने वाले फेरीवालों को भविष्य में बिना किसी समय सीमा अंदर अपना काम करने की अनुमति दी जाएगी....

नई दिल्ली। दिल्ली सरकार ने रात के कर्फ्यू को समाप्त करने का फैसला लिया है। पहले यह कर्फ्यू रात 10 बजे से सुबह 5 बजे तक था। सरकार ने ट्रायल के आधार पर साप्ताहिक बाजारों को खोलने का भी निर्णय लिया है। चूंकि दिल्ली के होटल अब अस्पतालों से जुड़े हुए नहीं हैं, इसलिए दिल्ली सरकार ने होटलों में समान्य कामकाज शुरू करने करने की अनुमति देने का फैसला किया है।

दिल्ली सरकार ने एक अधिकारी का आदेश जारी करते हुए कहा, 'एक सप्ताह के लिए सुबह 10 बजे से रात 8 बजे तक ट्रायल के आधार पर दिल्ली में स्ट्रीट हॉकर्स को काम करने की अनुमति दी थी। आज निर्णय लिया गया कि भविष्य में सड़क पर चलने वाले फेरीवालों को भविष्य में बिना किसी समय सीमा अंदर अपना काम करने की अनुमति दी जाएगी। दिल्ली सरकार ने ट्रॉयल के आधार पर साप्ताहिक बाजारों को एक सप्ताह के लिए सोशल डिस्टेंसिंग और सभी आवश्यक एहतियाती उपायों के साथ काम करने की अनुमति दी है।'

मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने गुरुवार को केंद्र सरकार द्वारा जारी अनलॉक-3 के दिशा-निदेशरें के तहत दिल्ली की अर्थव्यवस्था को खोलने के लिए कई महत्वपूर्ण निर्णय लिए। पिछले कुछ दिनों में मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल द्वारा लगातार कई महत्वपूर्ण फैसले लिए गए, ताकि लॉकडाउन के दौरान बुरी तरह से प्रभावित हुई दिल्ली की अर्थव्यवस्था को वापस पटरी पर लाया जा सके।

पिछले पहले सप्ताह मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने जॉब की तलाश कर रहे लोगों और जॉब देने वाले कारोबारियों के बीच तालमेल सुनिश्चित करने के लिए 'रोजगार बाजार' जॉब्स पोर्टल लांच किया था। स्ट्रीट हॉकर को ट्रायल के आधार पर एक सप्ताह के लिए अपना काम शुरू करने की अनुमति दी गई थी। साथ ही कोविड अस्पतालों से अटैच होटलों को डी-लिंक किया, ताकि वे सामान्य रूप से काम करना शुरू कर सकें।

दिल्ली में फिलहाल कोरोना के 10,770 एक्टिव केस हैं। दिल्ली में कुल 1,33,310 केस हैं, जिसमें से 88.99 प्रतिशत या 1,18,633 मरीज ठीक हो चुके हैं।

Next Story

विविध

Share it