राष्ट्रीय

राम जन्मभूमि जमीन खरीद में कथित घोटाला पर टिप्पणी कर फंसे गुरुजी, खंड शिक्षा अधिकारी ने मांगा जवाब

Janjwar Desk
19 Jun 2021 10:25 AM GMT
राम जन्मभूमि जमीन खरीद में कथित घोटाला पर टिप्पणी कर फंसे गुरुजी, खंड शिक्षा अधिकारी ने मांगा जवाब
x

(प्रधानाध्यापक से जवाब तलब करते हुए कहा गया है कि आप बताएं कि किस मकसद से पोस्ट भेजा गया है।)

प्रधानाध्यापक ने मिशन प्रेरणा से संबंधित व्हाट्सएप ग्रुप पर 16 जून को अपराहन 2:15 बजे एक पोस्ट डाला। जिसमे दो कार्टून बना हुआ है व साथ ही लिखा है- 2 करोड़ डालो उधर से 18 . 50 करोड़ निकालो, मशीन का नाम आप जानते हैं धर्म का धंधा...

जितेंद्र उपाध्याय की रिपोर्ट

जनज्वार। अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए जमीन खरीद में गड़बड़ी का मामला जहां चर्चा में है, वहीं एक गुरु जी इससे संबंधित अपने विभागीय व्हाट्सएप ग्रुप पर मैसेज कर फंस गए हैं। उन्होंने ग्रुप में लिखा,"2 करोड़ डालो उधर से 18 .5 करोड़ निकालो, मशीन का नाम आप जानते हैं धर्म का धंधा.'

दो कार्टून के साथ की गई इस टिप्पणी पर खंड शिक्षा अधिकारी ने जवाब तलब किया है। यह कॉमेंट करना गुरुजी के लिए एक मुसीबत बन गई है, वहीं सोशल मीडिया पर इसकी खूब चर्चा हो रही है।

अयोध्या में राम मंदिर निर्माण क्षेत्र ट्रस्ट द्वारा दो करोड़ रुपए की जमीन 18 .5 करोड़ में खरीदने का प्रकरण इस समय सुर्खियों में है। इसको लेकर राम मंदिर निर्माण क्षेत्र ट्रस्ट से लेकर बीजेपी तक विपक्ष का हमला झेल रही है। दोनो तरफ से लगातार हो रही बयान बाजी इस समय मीडिया के सुर्खियों में है। जिसके चलते यह प्रकरण आमजन के जुबान पर भी बना हुआ है।

इस बीच इससे से संबंधित एक टिप्पणी करना कासगंज जिले के गंजडुंडवारा विकास खंड के इमामुद्दीन नगर प्राथमिक विद्यालय के कार्यवाहक प्रधानाध्यापक लालाराम के लिए परेशानी का सबब बन गया है। प्रधानाध्यापक ने मिशन प्रेरणा से संबंधित व्हाट्सएप ग्रुप पर 16 जून को अपराहन 2:15 बजे एक पोस्ट डाला। जिसमे दो कार्टून बना हुआ है व साथ ही लिखा है, "2 करोड़ डालो उधर से 18 . 50 करोड़ निकालो, मशीन का नाम आप जानते हैं धर्म का धंधा। इस ग्रुप में विभिन्न प्रधानाध्यापको के अलावा खंड शिक्षा अधिकारी , जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी, संबंधित विभाग के परियोजना कार्यालय लखनऊ के उच्चधिकारी समेत अन्य विभागीय अधिकारी जुड़े हुए हैं।


यह मैसेज आने के बाद परेशान खंड शिक्षा अधिकारी श्रीकांत पटेल ने प्रभारी प्रधानाध्यापक को नोटिस जारी किया है। 17 जून को कार्यालय खंड शिक्षा अधिकारी गंजडुंडवारा के बीइओ द्वारा भेजे गए पत्र में लिखा गया है कि सभी प्रधानाध्यापक व अन्य स्टाफ को पूर्व में भी सूचित किया गया है कि विभागीय कार्यों के अलावा ग्रुप में कोई भी अन्य मैसेज न डालें। इसके बावजूद आपने मैसेज भेजा है, जिसमे दो कार्टून बना हुआ है व साथ ही लिखा है, "2 करोड़ डालो उधर से 18 . 50 करोड़ निकालो, मशीन का नाम आप जानते हैं धर्म का धंधा।

प्रधानाध्यापक से जवाब तलब करते हुए कहा गया है कि आप बताएं कि किस मकसद से पोस्ट भेजा गया है। यह कौन सा मशीन है जिससे 2 करोड़ 18 . 50 करोड़ रूपए में बदल जाता है। इसे तैयार करने का फॉर्मूला क्या है? कार्यालय में मेरे समक्ष उपस्थित होकर इसका जवाब दे। नहीं तो आपके खिलाफ विभागीय कार्रवाई की जाएगी। वॉट्सएप ग्रुप का यह मैसेज ट्यूटर समेत सोशल मीडिया के अन्य प्लेटफार्म पर खूब ट्रेंड कर रहा है।

ट्यूटर पर रणविजय सिंह मैसेज का उल्लेख करते हुए लिखते हैं,अब टीचर को ये बात अधिकारी को समझानी है। उमाशंकर लिखते हैं, अधिकारी गण बहुत-बहुत फुर्सत में हैं क्या? या उन्हें हास्य-व्यंग्य, परिहास और कटाक्ष जैसी लेखन शैली का ज्ञान नहीं । ये अति नीरस वर्ताव है।

विनित कुमार सिंह अपने कॉमेंट में लिखते हैं, शिक्षकों को डरा डरा कर पंचायत चुनाव में भेज जान से मरवा दिये। अब चाहते हैं कि ये शिक्षक वही कहे जो सरकार सुनना चाहती हैं। बड़े डरपोक टाइप के इंसान लग रहे हैं पटेल साहब।

एक अन्य ट्विटर यूजर कहता है, मैं तो कहता हूँ कि इस फॉर्मूले को नहीं बताना चाहिए नहीं तो खण्ड शिक्षाधिकारी भी करोड़ों कमाई कर लेगा। सब अपने ही जुगाड़ में लगे हैं...।

आसिफ आजमी लिखते हैंं, बउड़िया गये हैं शिक्षा अधिकारी। बता दीजिये कि वही मशीन है, जिसमें छुट्टी लेने से ले कर, तनख़्वाह, पेंशन बनवाने के लिए सुविधा शुल्क।

जमीम हैदर ने लिखा है,लालच बहुत बुरी चीज है। फस गये अध्यापक जी

वी जय एस नाम के अकाउंट से किए गए पोस्ट में लिखा है, यह अधिकारी तो नोट बनाने की खोज में ही निकल पड़ा है।

रोहित कुमार लिखते हैं, अब टीचर नौकरी बचाए या लेटर का जबाब दे ।

निखिल कुमार ने कमेंट में लिखा,घर घर तक ये आवाज पहुंच गई है.. लगता है ट्वीटर के बाद व्हाट्सएप पर भी ..।

सागर मालवीय ट्वीट करते हुए लिखते हैं,किस किस के मुंह बंद करेगी सरकार लोग तो पूछेंगे।

इस संबंध में पूछे जाने पर खंड शिक्षा अधिकारी श्रीकांत पटेल ने बताया कि प्रभारी प्रधानाध्यापक लालाराम ने नोटिस का जवाब दे दिया है। जवाब में कहां है कि बच्चों ने गलती से ग्रुप में पोस्ट कर दिया था ऐसी गलती दोबारा नहीं होगी। बीईओ श्री पटेल ने कहा कि प्रभारी प्रधानाध्यापक को चेतावनी देते हुए जवाब से जिला बेसिक शिक्षा अधिकारी श्रीमती अंजली अग्रवाल समेत अन्य अधिकारियों को अवगत करा दिया गया है।

Next Story

विविध

Share it