हरियाणा

किसानों का सिर फोड़ने का आदेश देने वाले SDM पर लेंगे कड़ा एक्शन, हरियाणा के डिप्टी CM दुष्यंत चौटाला

Janjwar Desk
30 Aug 2021 4:41 AM GMT
किसानों का सिर फोड़ने का आदेश देने वाले SDM पर लेंगे कड़ा एक्शन, हरियाणा के डिप्टी CM दुष्यंत चौटाला
x

IAS अधिकारी की ओर से किसानों के लिए इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल करना निंदनीय : दुष्यंत चौटाला

चौटाला ने कहा, 'एक आईएएस अधिकारी की ओर से किसानों के लिए इस तरह के शब्दों का स्तेमाल करना निंदनीय है। निश्चित रूप से उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।' चौटाला ने आगे कहा, 'उन्होंने (एसडीएम आयुष सिन्हा) सफाई देते हुए कहा है कि वो दो दिन से सोए नहीं थे...

जनज्वार। हरियाणा (Haryana) के करनाल में शनिवार को किसानों और पुलिस के बीच झड़प हो गई। इस बीच करनाल के एसडीएम आयुष सिन्हा का एक वीडियो वायरल हुआ था, जिसमें उन्होंने पुलिस को किसानों का सिर फोड़ देने की बात कही थी। इस पर रविवार को हरियाणा के डिप्टी सीएम दुष्यंत चौटाला (Dushyant Chautala) ने कार्रवाई का वादा किया है।

इस पूरे विवाद पर दुष्यंत चौटाला ने कहा, 'एक आईएएस अधिकारी की ओर से किसानों के लिए इस तरह के शब्दों का इस्तेमाल करना निंदनीय है। निश्चित रूप से उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।' चौटाला ने आगे कहा, 'उन्होंने (एसडीएम आयुष सिन्हा) सफाई देते हुए कहा है कि वो दो दिन से सोए नहीं थे। शायद उन्हें ये नहीं पता है कि किसान साल के 200 दिन सोते नहीं हैं।'

शनिवार को करनाल में किसानों का विरोध प्रदर्शन था। किसान बीजेपी (BJP) की मीटिंग का विरोध कर रहे थे। इस दौरान करनाल के एसडीएम आयुष सिन्हा पुलिस के जवानों को सरक्षा को लेकर समझाइश दे रहे थे। वो पुलिस से कह रहे थे कि अगर कोई भी सुरक्षा को तोड़ता है तो उसका सिर फोड़ देना। उनका ये वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया था, जिसके बाद से उनकी बर्खास्तगी की मांग हो रही है।

वहीं, दूसरी तरफ हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहरलाल खट्टर ने करनाल में प्रदर्शनकारी किसानों के ऊपर की गई पुलिस की कार्रवाई का बचाव करते हुए कहा कि शांतिपूर्ण प्रदर्शन का आश्वासन दिया गया था लेकिन पुलिसकर्मियों पर पथराव किया गया और एक राजमार्ग को अवरुद्ध कर दिया गया। शनिवार को बीजेपी की एक बैठक के खिलाफ प्रदर्शन करने के लिए एक राष्ट्रीय राजमार्ग पर करनाल की ओर बढ़ रहे किसानों के एक समूह पर कथित तौर पर पुलिस ने लाठियां बरसायीं जिससे लगभग 10 लोग घायल हो गए।

बैठक के बाद शनिवार शाम करनाल में संवाददाताओं से बातचीत में सीएम खट्टर ने कहा कि प्रदर्शन कर रहे किसानों ने पहले सरकार को आश्वासन दिया था कि उनका प्रदर्शन शांतिपूर्ण रहेगा। खट्टर ने कहा, 'अगर उन्हें विरोध प्रदर्शन ही करना था तो उन्हें शांतिपूर्ण तरीके से करना चाहिए था, इस पर किसी को आपत्ति नहीं होती। पहले उन्होंने शांतिपूर्ण प्रदर्शन का आश्वासन दिया था।

लेकिन अगर वे पुलिस पर पथराव करेंगे, राजमार्ग अवरुद्ध करेंगे तो पुलिस कानून-व्यवस्था बनाए रखने के लिए कदम तो उठाएगी। करनाल में बीजेपी की बैठक का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि यह पार्टी की राज्य स्तर की बैठक थी और 'मैं किसान संगठनों द्वारा इसका विरोध करने के लिए किए गए आह्वान की निंदा करता हूं।'

Next Story

विविध