राष्ट्रीय

कानपुर में योगी की कुर्सी से बड़ा हुआ हिस्ट्रीशीटर, भाजपा नेता छुड़ा ले गए वांटेड गुंडा

Janjwar Desk
2 Jun 2021 2:19 PM GMT
कानपुर में योगी की कुर्सी से बड़ा हुआ हिस्ट्रीशीटर, भाजपा नेता छुड़ा ले गए वांटेड गुंडा
x

(लगभग 1 घंटे चले हंगामे के बाद भाजपाइयों ने हिस्ट्रीशीटर को पुलिस की जीप से उतरवा लिया)

लगभग 1 घंटे चले हंगामे के बाद भाजपाइयों ने हिस्ट्रीशीटर को पुलिस की जीप से उतरवा लिया। पुलिस के चंगुल से छूटने के बाद हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह मौका देखकर फरार हो गया...

मनीष दुबे की रिपोर्ट

जनज्वार, कानपुर। बकलोलों का शहर उत्तर प्रदेश का कानपुर और सत्ता में है भाजपा। शहर से भाजपाइयों की मनमानी का एक मामला सामने आया है। यहां चोरी और मर्डर सहित 2 दर्जन से भी अधिक मुकदमों में वांछित चल रहे हिस्ट्रीशीटर को गिरफ्तार करने के विरोध में भाजपाई पुलिस से भिड़ गए। यही नहीं एक घंटे तक चले हंगामे के बाद पुलिस से धक्का-मुक्की कर भाजपाइ हिस्ट्रीशीटर को पुलिस के चंगुल से छुड़वाने में कामयाब रहे।

दरअसल आज बुधवार 2 जून को नौबस्ता थानाक्षेत्र के उस्मानपुर इलाके में स्थित गेस्ट हाउस में भाजपा कार्यकर्ता अपने जिला मंत्री नारायण भदौरिया का जन्मदिन मना रहे थे। बर्थडे पार्टी में हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह भी शामिल हुआ था। इधर हिस्ट्रीशीटर के जन्मदिन समारोह में पहुंचने की सूचना किसी ने पुलिस को दे दी। इलाके के बड़े अपराधी की जानकारी मिलते ही पुलिस सादी वर्दी में वहां पहुंची, जिसके बाद हिस्ट्रीशीटर को वहां देख फोर्स बुलाई गई।

पुलिस टीम ने हिस्ट्रीशीटर को मौके से गिरफ्तार कर जीप में बैठा लिया। हिस्ट्रीशीटर की गिरफ्तारी का विरोध कर भाजपाइयों ने जमकर हंगामा किया। इस दौरान पुलिस और भाजपाइयों के बीच धक्का-पुक्की शुरू हो गई। वहीं भाजपाई जीप के आगे लेट गए और पुलिस विरोधी नारेबाजी की। जिससे हमीरपुर रोड पर लंबा जाम लग गया।

लगभग 1 घंटे चले हंगामे के बाद भाजपाइयों ने हिस्ट्रीशीटर को पुलिस की जीप से उतरवा लिया। पुलिस के चंगुल से छूटने के बाद हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह मौका देखकर फरार हो गया। मामले का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो गया। बता दें कि हिस्ट्रीशीटर मनोज सिंह 2 दर्जन से अधिक मामलों में वांछित है और इस वक्त पुलिस की गिरफ्त से फरारी काट रहा है। ऐसे में एक अपराधी का भाजपा नेता के कार्यक्रम में आना बड़े सवाल पैदा करता है?

इस मामले के बाद जो जानकारी आ रही है, वह यह है कि कानपुर पुलिस ने कुल 15 लोगों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया है लेकिन हैरानी की बात यह है कि उनमें से एक भी भाजपा का नेता नहीं हैं, जबकि यह जन्मदिन पार्टी भाजपा नेता के द्वारा आयोजित की गई थी।

Next Story

विविध

Share it