राष्ट्रीय

देश 15 लाख के लिए 7 साल से कर रहा वेट तो थोड़ा आप भी कीजिए, मोदी के 30 मिनट इंतजार पर महुआ मोईत्रा ने कसा तंज

Janjwar Desk
29 May 2021 7:05 AM GMT
देश 15 लाख के लिए 7 साल से कर रहा वेट तो थोड़ा आप भी कीजिए, मोदी के 30 मिनट इंतजार पर महुआ मोईत्रा ने कसा तंज
x

भाजपा और टीएमसी नेताओं में पीएम को इंतजार कराने के बाद जुबानी जंग हो रही.वहीं महुआ मोईत्रा ने नया तंज कसा है.

ममता बनर्जी पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और गृह मंत्री अमित शाह समेत बीजेपी के तमाम नेताओं द्वारा निशाना साधे जाने के बाद अब तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा ने तंज कसा है...

जनज्वार, नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल में चक्रवात यास से प्रभावित लोगों और राहत कार्यों से जुड़ी प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की समीक्षा बैठक में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी के कथित रूप से देरी से पहुंचने पर उठा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। तो अब केंद्र की सत्ता में काबिज बीजेपी और तृणमूल कांग्रेस के बीच जुबानी जंग शुरू है।

ममता बनर्जी पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और गृह मंत्री अमित शाह समेत बीजेपी के तमाम नेताओं द्वारा निशाना साधे जाने के बाद अब तृणमूल कांग्रेस की सांसद महुआ मोइत्रा ने तंज कसा है। ममता बनर्जी के मीटिंग में देरी से पहुंचने को लेकर मचे हंगामे के बीच तृणमूल कांग्रेस की नेता और सांसद महुआ मोइत्रा ने गहरा तंज किया है।

महुआ मोईत्रा ने ट्वीट में लिखा, '30 मिनट की कथित देरी को लेकर बहुत हंगामा हुआ? 15 लाख रुपये के लिए भारतीय 7 साल से इंतजार कर रहे हैं। एटीएम के बाहर घंटों इंतजार कर रहे। वैक्सीन के लिए महीनों से इंतजार कर रहे हैं। थोड़ा आप भी इंतजार कर लीजिए कभी-कभी।'

गौरतलब है कि प्रधानमंत्री मोदी शुक्रवार 28 मई को चक्रवात यास प्रभावित पश्चिम बंगाल और ओडिशा के क्षेत्रों के दौरे पर थे. ओडिशा के प्रभावित इलाकों का हवाई सर्वेक्षण करने के बाद वे पश्चिम बंगाल पहुंचे थे। यहां पीएम मोदी और ममता बनर्जी के बीच सिर्फ 15 मिनट की मुलाकात हुई।

सूत्रों के मुताबिक, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को सीएम ममता का लगभग 30 मिनट का इंतजार करना पड़ा। ममता बनर्जी पीएम से मिलीं और 15 मिनट में ही दस्तावेज सौंपने के बाद वहां से चली गईं। जिसके बाद से भाजपा ममता बनर्जी पर हमलावर है।

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि 'ममता दीदी का आज का आचरण दुर्भाग्यपूर्ण है। चक्रवात यास के कारण बहुत सारे आम नागरिक प्रभावित हुए हैं और समय की मांग है कि प्रभावितों की मदद की जाए। दुखद है कि दीदी ने जनकल्याण के ऊपर अहम को रखा और आज के इस ओछे व्यवहार में यह दिखता है।'

Next Story

विविध

Share it