Top
राष्ट्रीय

सेना के बुलेटप्रूफ जैकेट बनाने वाली भारतीय कंपनियां चीन से खरीद रहीं कच्चा माल, रेल कॉरिडोर पर भी बवाल

Janjwar Desk
18 Jun 2020 1:33 PM GMT
सेना के बुलेटप्रूफ जैकेट बनाने वाली भारतीय कंपनियां चीन से खरीद रहीं कच्चा माल, रेल कॉरिडोर पर भी बवाल
x
12 जून को, चीनी फर्म शंघाई टनल इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड (एसईटीसी) ने 82 किलोमीटर लंबी दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस के हिस्से के रूप में 5.6 किलोमीटर लंबी सुरंग बनाने का ठेका पाने के लिए सबसे कम लागत की बोली लगाने वाली कंपनी थी।

जनज्वार ब्यूरो। पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में भारतीय और चीनी सेना के बीच झड़प के बाद सरकार की मंशा पर सवाल उठने शुरू हो गए हैं कि हम उसी देश से भारी मात्रा में सामान का आयात कर रहे हैं जो हमारे देश पर हमले कर रहा है। 15 जून को हुई हिंसक झड़प में 20 भारतीय सैनिक शहीद हो गए, वहीं चीनी सेना को भारी नुकसान पहुंचने की खबर है। हालांकि चीन के कितने सैनिक मारे गए हैं, इस बात की चीन की ओर से कोई आधिकारिक पुष्टि नहीं की गई है।

वहीं दूसरी ओर भारत सरकार चीन की कंपनी को दिल्ली मेरठ सेमी रेल कॉरिडोर को बनाने के लिए ठेका एक चीनी कंपनी को दे दिया जिसपर खूब बवाल हो रहा है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी पार्टी के अन्य शीर्ष नेता भी कई मौकों पर 'आत्मनिर्भर भारत' बनाने की बात कहते आए हैं लेकिन इस आत्मनिर्भर भारत की जमीनी सच्चाई क्या है जिसको लेकर सवाल खड़े हो रहे हैं।

इसी तरह इसी महीने की 2 जून को एक खबर सामने आयी थी कि नीति आयोग के एक सदस्य ने कहा था कि सेना के लिए बुलेटप्रूफ जैकेट बनाने वाली भारतीय कंपनियां मूल्य लाभ के कारण चीनी कच्चे माल का आयात कर रही है लेकिन इन बॉडी आर्मरोज की गुणवत्ता को लेकर अभी तक कोई चिंता नहीं है।

डीआरडीओ के पूर्व प्रमुख रहे वीके सारस्वत अभी नीति आयोग के सदस्य भी हैं। उन्होंने जोर देकर कहा था कि वे केवल तभी हस्तक्षेप कर सकते हैं जब चीन से आ रही सामग्री मानक से नीचे हों लेकिन अभी तक ऐसी रिपोर्ट नहीं है।

प्रधानमंत्री कार्यालय ने नीति आयोग को हल्के बॉडी आर्मर्स के घरेलू विनिर्माण को 'प्रोत्साहित" करने के लिए एक रोडमैप तैयार करने के लिए कहा था।' सारस्वत के अनुसार भारतीय मानक ब्यूरो ने भारतीय सेनाओं द्वारा इस्तेमाल किए जाने वाले बॉडी आर्मर के लिए गुणवत्ता मानदंडों को भी अंतिम रूप दिया है।

वह भारतीय सशस्त्र बलों के लिए बुलेटप्रूफ जैकेट के निर्माण में चीनी कच्चे माल के उपयोग पर चिंताओं के बारे में एक सवाल का जवाब दे रहे थे। सारस्वत ने कहा कि चीनी कच्चे माल का आयात बाजार से संचालित और दूसरों की तुलना में सस्ता है।

पूर्व डीआरडीओ प्रमुख ने बताया, यह एक बाजार की ताक है, हम इस बारे में बहुत कुछ नहीं कर सकते हैं। केवल यही कि हम पाते हैं कि चीन के कच्चे माल से निर्मित बुलेटप्रूफ जैकेट निशान तक नहीं हैं तब हम कुछ कहेंगे, अभी तक ऐसी कोई रिपोर्ट नहीं है।

'हमने बुलेटप्रूफ जैकेटों का मानकीकरण किया है। मानक भारतीय मानक ब्यूरो (बीआईएस) द्वारा निर्धारित किए गए हैं। परीक्षण मानकों को रखा गया है।' सरकारी अनुमानों के अनुसार, भारतीय सशस्त्र बलों को 3 लाख से अधिक बुलेटप्रूफ जैकेट की आवश्यकता होगी, इस पर सारस्वत ने कहा, 'सशस्त्र बलों ने भारत में बुलेट प्रूफ जैकेटों के उत्पादन के लिए निजी कंपनियों को ऑर्डर दिए हैं।'

भारतीय कंपनियां पहले अमेरिका और यूरोप से बुलेटप्रूफ जैकेट के लिए कच्चे माल की खरीद कर रही थीं। अब उनमें से ज्यादातर कंपनियां कम कीमतों के कारण चीन से कच्चा माल प्राप्त किए जा रहे हैं। भारत में हल्के बुलेटप्रूफ जैकेट के निर्माण के विचार को लूट लिया गया क्योंकि वर्तमान में भारतीय सेना द्वारा उपयोग किए जाने वाले बुलेटप्रूफ जैकेट बहुत भारी हैं। कानपुर स्थित एमकेयू और टाटा एडवांस्ड मटेरियल जैसी भारतीय कंपनियां कई देशों की सशस्त्र सेनाओं को बॉडी आर्मर का निर्यात करती हैं।

यदि देश में हल्के बुलेटप्रूफ जैकेट और हेलमेट का उत्पादन थोक में किया जाता है, तो यह कम लागत वाली आपूर्ति सुनिश्चित करेगा और विदेशी वेंडरों के उपकरणों की आपूर्ति के लिए इंतजार खत्म करेगा।

बता दें कि सीमा पर 20 जवानों की शहादत के बाद कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी ने सरकार पर रेल कॉरिडोर का ठेका एक चीनी कंपनी को सौंपकर चीन के खिलाफ कमजोर रणनीति अपनाने और घुटने टेकने का आरोप लगाया। प्रियंका ने सरकार से चीन को कड़ा संदेश देने की मांग की।

उन्होंने ट्वीट कर कहा, 'हमारे 20 जवान शहीद हुए हैं। ऐसे में केंद्र सरकार को कड़ा संदेश देना चाहिए, लेकिन सरकार ने दिल्ली-मेरठ सेमी हाईस्पीड रेल कॉरिडोर का ठेका चीनी कंपनी को सौंपकर घुटने टेकने जैसी रणनीति अपनाई है। जबकि तमाम भारतीय कंपनियां इस कॉरिडोर को बनाने की काबिल हैं।'

उनकी टिप्पणी केंद्र सरकार के यह स्पष्ट करने के एक दिन बाद आई है कि न्यू अशोक नगर से साहिबाबाद के बीच 5.6 किलोमीटर लंबी सुरंग बनाने की निविदा अभी 'प्रक्रिया' में है और 'अभी तक अंतिम रूप से तय नहीं' हुई है।

12 जून को, चीनी फर्म शंघाई टनल इंजीनियरिंग कंपनी लिमिटेड (एसईटीसी) ने 82 किलोमीटर लंबी दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ आरआरटीएस के हिस्से के रूप में 5.6 किलोमीटर लंबी सुरंग बनाने का ठेका पाने के लिए सबसे कम लागत की बोली लगाने वाली कंपनी थी।

केंद्रीय शहरी विकास मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र परिवहन निगम (एनसीआरटीएस) द्वारा 82 किलोमीटर लंबी आरआरटीएस एशियाई विकास बैंक (एडीबी) की एक वित्त पोषित परियोजना है। इसमें कहा गया है कि पिछले साल 9 नवंबर को निविदाएं आमंत्रित की गई थीं और तकनीकी बोली लगाने के लिए इस साल 16 मार्च को खोला गया।

इसमें कहा गया है कि 12 जून को वित्तीय निविदाएं खोली गईं और एसटीईसी, चीन सबसे कम लागत वाला ठेका लेने की बोली लगाने वाली फर्म के रूप में उभरी है। आगे कहा, 'यह प्रक्रिया में है और अभी तक इसे अंतिम रूप दिया जाना है।'


Next Story

विविध

Share it