राष्ट्रीय

Deoghar Ropeway Accident : बचाव अभियान के दौरान हेलिकॉप्टर से गिरकर अधेड़ की मौत, हवा में रोपवे पर लटकी है लोगों की जिंदगी, अबतक 3 जानें गईं

Janjwar Desk
11 April 2022 2:15 PM GMT
Deoghar Ropeway Accident :
x

Deoghar Ropeway Accident : झारखंड के देवघर में रोपवे हादसे के बाद डेढ़ हजार फुट उपर फंसी बच्ची को कुछ इस तरह से बचाया गया

Deoghar Ropeway Accident : रोपवे पर फंसे हुए लोगों तक खाना भी पहुंचाया जा रहा है। आपको बता दें कि बचाव अभियान के लिए के लिए वायुसेना के दो हेलीकॉप्टर Mi-17 मौके पर पहुंचे थे...

Deoghar Ropeway Accident : झारखंड (Jharkhand) के प्रसिद्ध तीर्थ स्थल देवघर (Deoghar) में त्रिकूट पहाड़ी (Trikut Hill) पर रविवार शाम हुए रोपवे हादसे में कम से कम 3 लोगों की मौत हो गयाी थी रविवार शाम हुई इस घटना में रोपवे ट्रॉली टूटने से आधा दर्जन से अधिक लोग घायल हो गए थे। इस बीच 48 लोग रोपवे की अलग-अलग ट्रॉलियों पर 24 घंटे से अधिक समय से फंसे हुए थे। इस बीच खबर लिखे जाने तक सेना टीम ने 30 लोगों को सुरक्षित निकाल लिया है वहीं 18 और लोगों की जान बचाने के लिए अभी अभियान चल रहा है। सेना, वायुसेना, राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF), स्थानीय पुलिस और प्रशासन की ओर से बचाव अभियान चलाया जा रहा है। उधर खबरें आ रही हैं कि हेलिकॉप्टर से बचाव अभियान के दौरान एक 48 वर्षीय अधेड़ की हेलिकॉप्टर से​ गिरकर मौत हो गयी है। अब हादसे में तीन लोग अपनी जान गंवा चुके हैं।

देवघर में रोपवे हादसे के बाद बचाव अभियान के दौरान हेलिकॉप्टर से गिरकर अधेड़ (लाल घेरे में) की मौत।

खबर है कि रोपवे पर फंसे हुए लोगों तक खाना भी पहुंचाया जा रहा है। आपको बता दें कि बचाव अभियान के लिए के लिए वायुसेना के दो हेलीकॉप्टर Mi-17 मौके पर पहुंचे थे। जिसके पर 24 घंटे से अधिक समय से रोपवे पर फंसे 30 लोगों को अब तक सकुशल निकाल लिया गया है।

आपको बता दें कि झारखंड के देवघर जिले के बाबा बैद्यनाथ मंदिर के पास त्रिकुट पहाड़ी पर 12 रोपवे ट्रॉलियां आपस में टकरा गईं थी. इस दुर्घटना के कारण रोपवे ट्रॉली में करीब तीन दर्जन लोग फंस गए थे। आपको बता दें कि हादसे में दो लोगों के मौत की पुष्टि भी प्रशासन की ओर से की गयी है। एक वरिष्ठ अधिकारी ने सोमवार को बताया, हादसा रविवार शाम करीब साढ़े चार बजे हुआ जिसमें 10 सैलानी गंभीर रूप से जख्मी हो गए हैं।

वहीं झारखंड के देवघर में हुए रोपवे हादसे पर राज्य के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने कहा है कि एनडीआरएफ, भारतीय वायुसेना और गरुड़ कमांडो टीम की मदद से बचाव अभियान चलाया जा रहा है। जिन्होंने उस रोपवे को बनाया था उनकी टीम भी वहां पहुंच गई है। बचाव के लिए सभी प्रयास किए जा रहे हैं। सभी चीजों पर प्रशासन नजर बनाए हुए है।

देवघर के उपायुक्त (डीसी) मंजूनाथ भजंत्री ने कहा जानकारी देते हुए बताया है कि सभी पर्यटकों को हेलीकॉप्टर का प्रयोग कर सुरक्षित निकालने की तमाम कोशिशें जारी है। एनडीआरएफ की टीम भी रविवार रात से काम पर लगी हुई है और 11 लोगों को उसने निकाला है। बचाव अभियान में स्थानीय लोग भी मदद कर रहे हैं। उधर खबरें आ रही हैं कि हेलिकॉप्टर से बचाव अभियान के दौरान एक 48 वर्षीय अधेड़ की हेलिकॉप्टर से​ गिरकर मौत हो गयी है। अब हादसे में तीन लोग अपनी जान गंवा चुके हैं। बताया जा रहा है हेलिकॉप्टर से बचाव अभियान के दौरान अधेड़ ​व्यक्ति का संतुलन बिगड़ गया जिससे वह डेढ़ हजार फुट नीचे खाई में गिर गया, जिससे उसकी मौत हो गयी है।

कैसे हुआ हादसा?

बताया जा रहा है कि रोपवे का एक तार टूट जाने की वजह से एक ट्रॉली नीचे आ गिरी और उस पर सवार आधा दर्जन लोग घायल हो गए थे। हादसे के बाद रोपवे बंद हो गया और इसके बाद लगभग एक दर्जन से भी ज्यादा ट्रॉलियां हवा में झूलने लगे थे।

Next Story

विविध