झारखंड

Jharkhand News: बोकारो के पेटरवार में दलित युवती के साथ गैंग रेप, गुस्से में लोगों ने किया हाइवे जाम

Janjwar Desk
10 March 2022 12:22 PM GMT
हैदराबाद में बच्ची के साथ हुई नृशंसता में 5 नाबालिग आरोपियों में विधायक का बेटा भी शामिल (फोटो प्रतीकात्मक)
x

हैदराबाद में बच्ची के साथ हुई नृशंसता में 5 नाबालिग आरोपियों में विधायक का बेटा भी शामिल (फोटो प्रतीकात्मक)

Jharkhand News: झारखंड के बोकारो जिला अंतर्गत बेरमो अनुमंडल के पेटरवार थाना क्षेत्र में 9 मार्च की शाम एक नाबालिग दलित छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म की घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने पेटरवार में रांची बोकारो एनएच-33 मुख्य सड़क मार्ग जाम कर दिया।

विशद कुमार की रिपोर्ट

Jharkhand News: झारखंड के बोकारो जिला अंतर्गत बेरमो अनुमंडल के पेटरवार थाना क्षेत्र में 9 मार्च की शाम एक नाबालिग दलित छात्रा से सामूहिक दुष्कर्म की घटना से आक्रोशित ग्रामीणों ने पेटरवार में रांची बोकारो एनएच-33 मुख्य सड़क मार्ग जाम कर दिया। जाम की वजह से यातायात घंटों ठप रहा। सड़क की दोनों ओर वाहनों की लंबी कतारें लगी गई। आक्रोशित ग्रामीणों को किसी तरह सड़क जाम से मुक्त कराकर बेरमो एसडीपीओ सतीश चंद्र झा के नेतृत्व में पेटरवार, जरीडीह व कसमार थाने की पुलिस बल घटनास्थल पर कैंप की हुई है।

घटना के संबंध में बताया जाता है कि 9 मार्च को इंटरमीडिएट की छात्रा घर से स्कूल के लिए निकली थी। देर शाम स्कूल से घर नहीं लौटने पर परिजनों पेटरवार थाने को लापता होने की सूचना दी। रात करीब 8 बजे एक बाइक पर सवार दो युवक उस छात्रा को बीच में बैठाकर बेहोशी की हालत में उसे घर पहुंचाने जा रहा थे कि गांव के कुछ युवाओं ने बाइक सवार दोनों युवकों और छात्रा को देख लिया। शक होने पर बाइक सवार को रोककर पूछताछ की तो दोनों युवक भागने लगे। ग्रामीणों ने दोनों को खदेरकर पकड़ लिया तथा तुरंत पेटरवार थाने को मामले की सूचना दी। सूचना मिलते ही पेटवार पुलिस घटनास्थल पर पहुंचकर दोनों युवकों को हिरासत में लेकर पूछताछ की। वहीं बेहोश छात्रा को स्थानीय अस्पताल में प्राथमिक इलाज के बाद बोकारो सदर अस्पताल रेफर कर दिया गया।

घटना की जानकारी मिलने पर गिरिडीह सांसद चंद्रप्रकाश चौधरी छात्रा को देखने सदर अस्पताल पहुंचे। ग्रामीण आरोपी दोनों युवकों को पब्लिक के हवाले करने की मांग को लेकर सड़क जाम कर रहे थे। ग्रामीणों का कहना है कि दोनों आरोपियों को सरेआम सड़क पर ही सजा दी जाएगी।

धीरे धीरे नाबालिग बच्ची के साथ कथित सामूहिक दुष्कर्म के मामले ने हिंसक रूप धारण कर लिया। घटना के खिलाफ लोगों का गुस्सा फूट पड़ा और ग्रामीणों ने बोकारो-रामगढ़ हाइवे को जाम कर दिया। पुलिस द्वारा लोगों को शान्त करने की कोशिशें नाकाम रही और लोगों ने पथराव किया। दोनों ओर से पत्थरबाजी हुई और पुलिस ने आंसू गैस का प्रयोग किया। घटना में शामिल दो युवकों की गिरफ्तारी के बाद पुलिस पर पीड़िता पर दबाव बनाने का आरोप लगाया जा रहा है। लगभग पांच घंटे सड़क जाम को दोपहर 2 बजे हटाया जा सका। इलाका पूरा छावनी में तब्दील रहा। घटनास्थल पर पहुंचे बेरमो एसडीओ अनंत कुमार ने कहा कि रोड़ेबाजी में कुछ पुलिस जवान चोटिल हो गए हैं, जिनका इलाज कराया जा रहा है। आमलोगों की ओर से किसी के हताहत होने की सूचना नहीं है। सड़क जाम करनेवाले लोगों को बल प्रयोग कर हटा दिया गया है। आंसू गैस के कुछ गोले छोड़े गए हैं। अब यातायात सुगम हो चुका है। लोगों की मांग घटना में शामिल सभी आरोपियों को गिरफ्तार करने और थाना प्रभारी को हटाने की है। इस मांग से उन्होंने एसपी सहित अन्य वरीय अधिकारियों को अवगत करा दिया है। मामले में दो और आरोपी शामिल बताए जा रहे हैं। इसकी जांच की जा रही है।

गिरिडीह के सांसद चन्द्र प्रकाश चौधरी और स्थानीय विधायक डॉ लम्बोदर महतो ने दुष्कर्मियों के खिलाफ त्वरित कार्रवाई कर फास्टट्रैक कोर्ट के माध्यम से उन्हें फांसी की सजा दिलवाने की मांग की है। विधानसभा के बाहर उन्होंने नारा लिखित तख्ती लेकर प्रदर्शन भी किया। खबर लिखे जाने तक पेटरवार में तनाव की स्थिति देखी जा रही है। पुलिस वहां कैम्प कर रही है। उधर, गोमिया के विधायक डॉ लम्बोदर महतो गुरुवार को झारखंड विधानसभा के बाहर पेटरवार की नाबालिग बच्ची के साथ सामूहिक बलात्कार के दोषियों को फांसी की मांग को लेकर धरना पर बैठ गए। उन्होंने स्थानीय प्रशासन घटना की लीपापोती की कोशिश करने का आरोप लगाया।

उल्लेखनीय है कि ग्रामीणों ने 9 मार्च की रात लगभग 9:30 बजे एक मोटरसाइकिल पर नाबालिग युवती को बैठा कर ले जाते दो युवकों को संदिग्ध हालत में पकड़ा था। ग्रामीणों ने उसे दबोचकर स्थानीय जनप्रतिनिधियों के सहयोग से पुलिस के हवाले कर दिया था। गुरुवार रात से ही इलाके में तनावपूर्ण स्थिति बनी थी, जो शुक्रवार सुबह से काफी भड़क गया, परंतु समय रहते प्रशासन ने स्थिति पर काबू पा लिया और अब हालात सामान्य हो चले हैं। हालांकि, इलाके में अभी भी तनावपूर्ण स्थिति देखी जा रही है और पूरा क्षेत्र पुलिस छावनी में तब्दील है। कहीं भी किसी भी तरह की कोई अप्रिय घटना न हो, इसे लेकर पुलिस और प्रशासन के अधिकारियों ने वहां क्या कर रखा है।

Next Story

विविध